स्वच्छ भारत: संक्षिप्त विवरण

"स्वच्छ भारत अभियान" का उद्देश्य प्रत्येक व्यक्ति को शौचालय, ठोस और तरल अपशिष्ट निपटान प्रणाली और स्वच्छ वातावरण जैसी स्वच्छता सुविधाएँ उपलब्ध कराना है।

हमें वर्ष 2019 में महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती तक "स्वच्छ भारत" का लक्ष्य प्राप्त करना है।

"स्वच्छ भारत अभियान" के अंतर्गत हमारा उद्देश्य वर्ष 2019 तक घरों में शौचालयों का निर्माण करना, एक ही क्षेत्र में विभिन्न शौचालयों का निर्माण करना एवं सार्वजनिक शौचालयों का निर्माण करना है जिससे भारत को खुले में शौच की बुराई से मुक्त कराया जा सके और गांवों में ग्राम पंचायतों की सहायता से ठोस और तरल अपशिष्ट प्रबंधन के माध्यम से स्वच्छ रखने का प्रयास करना है। आप पहल के बारे में अधिक जानकारी http://mdws.gov.in से प्राप्त कर सकते हैं।

"स्वच्छ भारत" पहल के लिए प्रतीक चिन्ह बनाएं

"स्वच्छ भारत" संबंधी कार्य

भारत सरकार का पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय "स्वच्छ भारत अभियान" के लिए प्रतीक चिन्ह बनाने हेतु आपको आमंत्रित करता है। प्रविष्टियाँ भेजने की अंतिम तिथि 19 सितम्बर 2014 है। विजेता प्रविष्टि को रु50,000/- के नकद पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।

तकनीकी प्राचल

  • प्रतिभागी को प्रतीक चिन्ह जेपीजी या पीएनजी प्रारूप में भेजना होगा।
  • प्रतियोगिता के विजेता को डिज़ाइन संपादन किये जा सकने और ओपन फ़ाइल स्वरूप में भेजना होगा।
  • प्रतीक डिजाइन में कोई छाप या वॉटरमार्क नहीं डालें।
  • कृपया ध्यान दें कि प्रतीक का डिजाइन मूलरूप होना चाहिए और भारतीय कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के किसी प्रावधान का उल्लंघन नहीं किया जाना चाहिए।
  • प्रतीक रंगीन होना चाहिए।
  • कृपया प्रतीक चिन्ह बनाते समय यह ध्यान रखें की इसका आकार 3 सेमी X 3 सेमी से 75 X75 सेमी के बीच हो जिससे इसका बाद में प्रयोग किया जा सके।
  • आप अपनी प्रविष्टि MyGov.in के रचनात्मक क्रियास्थल पर भेज सकते हैं।
  • यह सुनिश्चित कर लें कि आपकी प्रोफाइल पर उपलब्ध जानकारी सही और अद्यदित है क्योंकि हम संचार के लिए इसी जानकारी का प्रयोग करेंगे। इसके अंतर्गत नाम, तस्वीर और फोन नंबर जैसी जानकारी आती है। अधूरी जानकारी वाली प्रोफाइल द्वारा जमा की गई प्रविष्टियां अस्वीकार कर दी जाएँगी

मूल्यांकन के मानदंड

  • प्रतियोगिता में भारत के निवासियों के साथ –साथ दूसरे देश के लोग भी भाग ले सकते हैं।
  • मूल्यांकन चयन समिति द्वारा अनुच्छेद 3 में उल्लिखित कारकों और इनकी लोकप्रियता के आधार पर किया जाएगा। किसी व्यक्ति द्वारा मेरी सरकार पर भेजी गई प्रविष्टि को अन्य प्रयोक्ता पसंद कर सकते हैं। प्रविष्टि जमा करने के बाद आप भेजे गए ट्वीट / पोस्ट जिसमें आपके द्वारा मेरी सरकार पर भेजी गई प्रविष्टि के बारे में जानकारी दी गई होगी के बारे में जानकारी साझा कर सकते हैं। इसी प्रकार आपके द्वारा पसंद की गई प्रविष्टियों के बारे में जानकारी भी आप साझा कर सकते हैं।
  • प्रविष्टियां रचनात्मकता, मौलिकता, संरचना, तकनीकी उत्कृष्टता, सादगी, कलात्मक योग्यता , दृश्य प्रभाव और "स्वच्छ भारत" योजना के उद्देश्य के सम्प्रेषण के आधार पर चुनी जाएँगी।
  • विजेता प्रविष्टि के रूप में चुने गए प्रतीक को भारत सरकार की संपत्ति माना जाएगा जिसपर प्रतिभागी का कोई अधिकार नहीं होगा। सरकार प्रदर्शन के उद्देश्य से, आईईसी सामग्री के रूप में और "स्वच्छ भारत" अभियान के लिए किसी भी प्रकार से इसका प्रयोग कर सकती है।
  • प्रतीक चिन्ह बनाने वाला व्यक्ति और प्रतिभागी के रूप में भाग लेने वाला व्यक्ति एक ही होना चाहिए और बनाया गया प्रतीक चिन्ह मूल कार्य होना चाहिए।
  • चयन समिति का निर्णय अंतिम और सभी प्रतियोगियों को मान्य होगा।
  • अयोग्य घोषित कर दी गई प्रविष्टियां विभाग द्वारा प्रयोग नहीं की जाएगी और न ही उनका इस पर किसी प्रकार का अधिकार होगा।

"स्वच्छ भारत" पहल के लिए प्रचार वाक्य सुझाएँ

"स्वच्छ भारत" संबंधी कार्य

भारत सरकार का पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय "स्वच्छ भारत अभियान" के लिए प्रचार वाक्य सुझाने हेतु आपको आमंत्रित करता है। प्रविष्टियाँ भेजने की अंतिम तिथि 19 सितम्बर 2014 है। विजेता प्रविष्टि को निम्न पुरस्कारों से सम्मानित किया जाएगा।

(क) प्रथम पुरस्कार - रु 25,000/-
(ख) द्वितीय पुरस्कार- रु 20,000/-
(ग) तृतीय पुरस्कार – रु 15,000/-

तकनीकी प्राचल

  • प्रतिभागी को प्रचार वाक्य पीडीएफ़ प्रारूप में भेजना होगा।
  • प्रचार वाक्य संक्षिप्त(एक लाइन का) और आकर्षक होना चाहिए।
  • कृपया ध्यान दें कि प्रचार वाक्य मूल कार्य होना चाहिए और भारतीय कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के किसी प्रावधान का उल्लंघन नहीं किया जाना चाहिए।
  • आप अपनी प्रविष्टि MyGov.in के रचनात्मक क्रियास्थल पर भेज सकते हैं।
  • यह सुनिश्चित कर लें कि आपकी प्रोफाइल पर उपलब्ध जानकारी सही और अद्यदित है क्योंकि हम संचार के लिए इसी जानकारी का प्रयोग करेंगे। इसके अंतर्गत नाम, तस्वीर और फोन नंबर जैसी जानकारी आती है। अधूरी जानकारी वाली प्रोफाइल द्वारा जमा की गई प्रविष्टियां अस्वीकार कर दी जाएँगी।

मूल्यांकन के मानदंड

  • प्रतियोगिता में भारत के निवासियों के साथ - साथ दूसरे देश के लोग भी भाग ले सकते हैं।
  • मूल्यांकन चयन समिति द्वारा अनुच्छेद 3 में उल्लिखित कारकों और इनकी लोकप्रियता के आधार पर किया जाएगा। किसी व्यक्ति द्वारा मेरी सरकार पर भेजी गई प्रविष्टि को अन्य प्रयोक्ता पसंद कर सकते हैं। प्रविष्टि जमा करने के बाद आप भेजे गए ट्वीट / पोस्ट जिसमें आपके द्वारा मेरी सरकार पर भेजी गई प्रविष्टि के बारे में जानकारी दी गई होगी के बारे में जानकारी साझा कर सकते हैं। इसी प्रकार आपके द्वारा पसंद की गई प्रविष्टियों के बारे में जानकारी भी आप साझा कर सकते हैं।
  • प्रविष्टियां रचनात्मकता, मौलिकता, संरचना, तकनीकी उत्कृष्टता, सादगी, कलात्मक योग्यता , दृश्य प्रभाव और "स्वच्छ भारत" योजना के उद्देश्य के सम्प्रेषण के आधार पर चुनी जाएँगी।
  • विजेता प्रविष्टि के रूप में चुने गए प्रतीक को भारत सरकार की संपत्ति माना जाएगा जिसपर प्रतिभागी का कोई अधिकार नहीं होगा। सरकार प्रदर्शन के उद्देश्य से, आईईसी सामग्री के रूप में और "स्वच्छ भारत" अभियान के लिए किसी भी प्रकार से इसका प्रयोग कर सकती है।
  • प्रतीक चिन्ह बनाने वाला व्यक्ति और प्रतिभागी के रूप में भाग लेने वाला व्यक्ति एक ही होना चाहिए और बनाया गया प्रतीक चिन्ह मूल कार्य होना चाहिए।
  • विभाग द्वारा प्राप्त सभी प्रविष्टियों को चयन समिति के समक्ष पेश किया जायेगा।
  • चयन समिति का निर्णय अंतिम और सभी प्रतियोगियों को मान्य होगा।
  • अयोग्य घोषित कर दी गई प्रविष्टियां विभाग द्वारा प्रयोग नहीं की जाएगी और न ही उनका इस पर किसी प्रकार का अधिकार होगा।

प्रतियोगिता/ इसकी प्रविष्टियों / विजेताओं इत्यादि से उत्पन्न हुई कोई भी कानूनी कार्यवाही दिल्ली राज्य के स्थानीय क्षेत्राधिकार के अधीन होगी।


प्रतियोगिता में कैसे भाग लें?

साईन इन या साईन अप कर के रचनात्मक क्रियास्थल पर जाएँ और अपनी प्रविष्टियाँ भेजें।