You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

2017 - शीशे की छत तोड़ते हुए महिलाओं द्वारा भारत बदलाव

इंटरनेशनल महिला दिवस, 8 मार्च 2017 का ध्यान "बदलते कामकाजी विश्व में ...

See details Hide details
Women Transforming India, 2017 Breaking the Glass Ceiling
Last Date- May 02,2017 00:00 AM IST (GMT +5.30 Hrs)

इंटरनेशनल महिला दिवस, 8 मार्च 2017 का ध्यान "बदलते कामकाजी विश्व में महिला: 2030 तक ग्रह 50-50" विषय पर केंद्रित है। यह महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण पर विशेष ध्यान देने के साथ भारत में लिंग समानता सुनिश्चित करने के लिए भारत सरकार की प्रतिबद्धता दिखाता है। भारत ने अपने राष्ट्रीय प्रयासों जैसे बेटी बचाओ बेटी पढाओ, स्किल इंडिया, मेक इन इंडिया और डिजिटल इंडिया के माध्यम से नौकरी सृजन, उद्यमशीलता, कौशल निर्माण और नए उद्योगों, विशेषकर आईसीटी तक पहुंच के नए अवसर बनाने के लिए साहसिक कदम उठाए हैं।

नीती आयोग का 15 वर्षीय विजन डॉक्यूमेंट, जो भारत में पंच वर्षीय योजना का स्थान लेगा, में भी भारत में सभी क्षेत्रों में महिला कर्मचारियों की भागीदारी को प्रोत्साहित करने के लिए महत्वपूर्ण सुधारों का प्रस्ताव है। यह नीती आयोग द्वारा चलाये जा रहे सतत विकास लक्ष्यों की प्राप्ति के अनुरूप है।

सभी महिलाओं और लड़कियों का लैंगिक समानता और सशक्तिकरण हासिल करना, काम की दुनिया में महिलाओं की पूर्ण क्षमता को बाहर लाने पर निर्भर है। जब अर्थव्यवस्थाएं महिलाओं के अधिकारों और लिंग समानता को प्राप्त करने की ओर बढ़ती हैं तो इसके लाभ, जैसे कि श्रेष्ठ समाज और अधिक आर्थिक विकास, सभी को प्राप्त होते हैं।

2016 में नीती आयोग ने, भारत में संयुक्त राष्ट्र और माईगोव के साथ साझेदारी में, सर्वप्रथम महिलाओं के ट्रांसफ़ॉर्मिंग इंडिया का शुभारंभ किया, जो निबंधों के रूप में उन महिलाओं की कहानियां बताने की ऑनलाइन प्रतियोगिता है, जो बदलाव ला रही हैं। इस वर्ष फिर से नीती आयोग ऐसी शक्तिशाली भारतीय महिलाओं की पहचान करने के लिए महिलाओं का ट्रांसफ़ॉर्मिंग इंडिया अभियान लॉन्च कर रहा है, जो अपने समुदायों में सकारात्मक बदलाव ला रही हैं और भारत के समावेशी आर्थिक विकास के मिशन को आगे बढ़ा रही हैं।

बदलती दुनिया में महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण का अर्थ न केवल महिला उद्यमियों और व्यापार मालिकों को सशक्त बनाना है, बल्कि अनौपचारिक अर्थव्यवस्था में महिलाओं की अवैतनिक सेवा, घरेलू कार्य में महिलाओं की भारी संख्या को पहचानना भी है।

इस वर्ष नीती आयोग, भारत में संयुक्त राष्ट्र और माईगोव के साथ साझेदारी में, प्रविष्टियों के माध्यम से भारत भर में प्रेरक महिलाओं को इन दो श्रेणियों में पुरस्कार देने का अभियान शुरू कर रहा है :

1. महिलाओं द्वारा लैंगिक रूढ़िवाद को तोड़ने पर लघु विडियो और फोटो प्रतियोगिता: यह मोबाइल फोन से घर पर बना वीडियो शॉट हो सकता है। तस्वीरों और वीडियो दोनों के साथ एक छोटी कैप्शन (50 से अधिक शब्द नहीं) जिसमें महिला की कहानी को समझाया गया हो, होनी चाहिए।

2. सभी क्षेत्रों में कार्यरत किसी भी शैक्षिक योग्यता वाली महिलाओं की लिखित प्रविष्टियां। हम गैर-पारंपरिक व्यवसायों में काम कर रही महिलाओं और अन्य महिलाओं, अपने पड़ोस / समाज को किसी भी तरीके से सशक्त बनाने के लिए काम कर रही महिलाओं, की कहानियों को प्रोत्साहित करते हैं। (कहानियां 500 शब्दों से अधिक नहीं होनी चाहिए।)

प्रतिभागियों को सीधे माईगोव प्लेटफ़ॉर्म पर प्रविष्टियां अपलोड करने के लिए आमंत्रित किया जाता है।

प्रविष्टियां जमा करने की अंतिम तिथि 1 मई, 2017 है

दिशानिर्देश और मूल्यांकन मानदंड पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Total Submissions ( 482) Approved Submissions (0) Submissions Under Review (482)