विदेश मंत्रालय की नई पहल(आउटरीच)कार्यक्रम के लिए एक शीर्षक सुझाएं

विदेश मंत्रालय के विदेश प्रचार और सार्वजनिक कूटनीति प्रभाग (विदेश ...

See details Hide details

विदेश मंत्रालय के विदेश प्रचार और सार्वजनिक कूटनीति प्रभाग (विदेश मंत्रालय) ने छात्र जो भारत के भविष्य हैं, उन्हें साथ जोड़ने के लिए अपनी नई सार्वजनिक पहल का नाम देने के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित की हैं

चूंकि विदेश नीति के मुद्दों की बारीकियों को अक्सर किसी विशेष दर्शक या लोगों द्वारा सराहना की जाती है; सामान्य तौर पर, विशेष रूप से छात्रों के लोग, विदेश मंत्रालय के कामकाज की पूरी समझ नहीं रखते हैं। यह कार्यक्रम, स्कूल और कॉलेज के छात्रों को विदेश मंत्रालय की भूमिका और कार्यों के बारे में जानने के लिए, उन्हें भारत की विदेश नीति के प्रमुख तत्वों और सरल तरीके से हमारी उपलब्धियों के बारे में परिचय देने का प्रस्ताव देगा या कहें देता है।

कार्यक्रम में स्वैच्छिक आधार पर छुट्टी के दौरान मंत्रालय के अधिकारियों की अपने गृहनगर / राज्य में स्कूलों और कॉलेजों में की यात्रा शामिल होगी। इस दौरान छात्रों के साथ बातचीत और उनके साथ अपने अनुभव साझा करेंगे । साथ ही ये अधिकारीगण विदेश मामलों के मंत्रालय के साथ काम करने के उनके अनुभव भी साझा करेंगे।

कुल मिलाकर इसका मकसद विदेश मंत्रालय और उसकी उपलब्धियों के बारे में युवाओं की जागरूकता को बढ़ाना है साथ ही उन्हें मंत्रालय के प्रति रूचि और जागरूकता को बढ़ाना है। साथ ही उन्हें विदेश मंत्रालय की एचीवमेंट के बारे में बताना भी है।

प्रविष्टियां जमा करना:
• प्रविष्टियों को स्वीकार करने की अंतिम तिथि 10 दिसंबर, 2017 है।
• नाम / शीर्षक मूल होना चाहिए और किसी तृतीय पक्ष के बौद्धिक संपदा अधिकारों का उल्लंघन नहीं करना चाहिए
• एक व्यक्ति या एक टीम ही प्रतिभागी के तौर पर शामिल हो सकती है
• प्रत्येक प्रविष्टि के साथ चुने हुए नाम / शीर्षक की संक्षिप्त लिखित व्याख्या की जानी चाहिए व इसके सार को अच्छे तरीके से समझाया जाना चाहिए।
• प्रत्येक भागीदार केवल एक प्रविष्टि सबमिट कर सकते हैं
• विजेता को विदेश मामलों के मंत्रालय से उपहार (गिफ्ट हैमपर) से सम्मानित किया जाएगा
• जीतने वाला नाम / शीर्षक विदेश मंत्रालय (एमईए) की बौद्धिक संपदा होगी और विजेता का इसके ऊपर कोई अधिकार नहीं होगा। जीतने वाले शीर्षक / नाम का उद्देश्य प्रचार और प्रदर्शन के उद्देश्यों, आईईसी (सूचना, शिक्षा और संचार) सामग्री के लिए और किसी भी अन्य उपयोग के लिए, जो उपयुक्त समझा जा सकता है, के लिए विदेश मंत्रालय द्वारा उपयोग किया जा सकता है।
• नाम / शीर्षक केवल हिंदी या अंग्रेजी भाषा में होना चाहिए या दोनों के संयोजन।
• नाम / शीर्षक संक्षिप्त, आकर्षक और बढ़िया होना चाहिए।
• प्रतिभागियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनकी माईगोव प्रोफाइल सही और अद्यतन यानी अप टू डेट हो है क्योंकि विदेश मंत्रालय संचार के लिए इसका उपयोग करेगा। इसमें नाम, फोटो, पूरा डाक पता, ईमेल आईडी और फोन नंबर जैसे विवरण शामिल होने चाहिए। अपूर्ण प्रोफाइल के साथ आई प्रविष्टियों पर विचार नहीं किया जाएगा।
• विदेश मंत्रालय द्वारा प्राप्त सभी प्रविष्टियों में से सर्वश्रेष्ठ का चयन एक चयन समिति द्वारा जीतने वाली प्रविष्टियों को चुनने के लिए किया जाएगा। समिति का निर्णय अंतिम और बाध्यकारी होगा।

Total Submissions ( 552) Approved Submissions (0) Submissions Under Review (552) Submission Closed.