मृदा स्वास्थ्य कार्ड के मुताबिक उर्वरकों के उपयोग के लिए किसानों को प्रेरित करने हेतु लघु फिल्म बनाएं

Last Date Nov 26,2018 00:00 AM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

मिट्टी को अनंत जीवन की आत्मा के रूप में जाना जाता है। इसलिए कृषि ...

मिट्टी को अनंत जीवन की आत्मा के रूप में जाना जाता है। इसलिए कृषि उत्पादन और देश की अर्थव्यवस्था के लिए मिट्टी के बेहतर स्वास्थ्य का रखरखाव बेहद महत्वपूर्ण है। मानव, पशु और पौधे के स्वास्थ्य हेतु मिट्टी की निर्विवाद भूमिका के बावजूद मिट्टी के स्वास्थ्य की देखभाल के संबंध में बहुत कम ध्यान रखा जाता है। जैविक उत्पादकता व पर्यावरण की गुणवत्ता को बनाए रखने और पौधे व पशु स्वास्थ्य को बढ़ावा देने की मिट्टी की क्षमता ही मृदा स्वास्थ्य है। विशिष्ट उपयोग के लिए यह मिट्टी की फिटनेस है।

निरंतर उच्च उत्पादकता के लिए दुर्लभ और बहुमूल्य मिट्टी के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने की चुनौतियां मौजूदा दबाव की वजह से बढ़ती जा रही हैं। लेकिन सस्ते, पर्यावरण व किसान-अनुकूल और वैज्ञानिक समाधान खाद्य सुरक्षा, पर्यावरण सुरक्षा और मानव कल्याण की दिशा में काफी फायदेमंद होंगे। मिट्टी के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए किसानों और अन्य हितधारकों के बीच व्यापक जागरूकता अत्यंत आवश्यक है। भारत सरकार मिट्टी परीक्षण के माध्यम से खेतों में मिट्टी के पोषण की देखभाल हेतु मृदा स्वास्थ्य कार्ड (एसएचसी) योजना चला रही है।

सभी नागरिकों / हितधारकों को सॉयल हेल्थ केयर से संबंधित जागरूकता के प्रसार में योगदान देने के लिए आमंत्रित किया जाता है। आप उपर्युक्त थीम पर 2 मिनट तक की लघु फिल्म निर्माण प्रतियोगिता में भाग लेकर अपना योगदान दे सकते हैं। शॉर्ट-फिल्म्स (एनीमेशन फिल्म्स, मोबाइल फिल्म्स या किसी भी अन्य माध्यम से प्रसारण गुणवत्ता वाली फिल्म) कर सकते हैं।

मुख्य विषय: मृदा स्वास्थ्य कार्ड के मुताबिक उर्वरकों के उपयोग के लिए किसानों को प्रेरित करें

उप-विषय-वस्तु:
1. उर्वरक वितरण से सॉयल हेल्थ कार्ड को जोड़ना
2. प्रचार में सिनेमा, कारवां आदि की भूमिका
3. मिट्टी परीक्षण आधारित उर्वरक उपयोग को बढ़ावा देने के लिए प्रचार के विभिन्न मीडिया / प्रारुप
4. किसानों के बीच मृदा स्वास्थ्य कार्ड की महत्ता के प्रति जागरूकता पैदा करना

भाषा: हिंदी और / या अंग्रेजी

अवधि: 2 मिनट

अंतिम तिथि: 25 नवंबर, 2018

पुरस्कार:
पहला पुरस्कारः रु 10,000 / -
दूसरा पुरस्कारः रु 7,500 / -
तीसरा पुरस्कारः रु 5,000 / -

नियम और शर्तें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

किसी भी प्रश्न के लिए लिखें:
रजनी तनेजा
उप सचिव (आईएनएम)
फोन: 011-23386741

See Details Hide Details
SUBMISSIONS UNDER THIS TASK
239
Total
0
Approved
239
समीक्षाधीन