डिजिटल भारत में नागरिक भागीदारी के अभियान का प्रतिनिधित्व करने हेतु "होर्टीनेट ट्रेसबिल्टी" लोगो सहित टैग लाइन की डिजाइनिंग

एपीडा द्वारा ट्रेसबिल्टी प्रणाली का आरंभ ...

See details Hide details

एपीडा द्वारा ट्रेसबिल्टी प्रणाली का आरंभ

एपीडा द्वारा सामान्य रुप से भारतीय कृषि एवं प्रसंस्कृत उत्पादों के निर्यात के लिए बाज़ार संवर्धन और गुणवत्ता विकास के अवसरों को बढ़ावा देने का उत्तरदायित्व लिया गया है। यूरोपीय संघ, संयुक्त राज्य अमरीका, जापान आदि प्रमुख बाज़ारों में प्रवेश करने के लिए भारतीय कृषि एवं प्रसंस्कृत उत्पादों को निरंतर कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, जो निम्नलिखित हैं:
• खाद्य सुरक्षा, मुख्य रुप से अवशिष्ट मॉनिटरिंग, उत्पाद मानकीकरण, ट्रेसबिल्टी आदि पर वैश्विक ध्यान केंद्रित होने में वृद्धि।
• भारत से निर्यातित उत्पादों में कीटनाशक अवशिष्टों, एफ्लाटॉक्सिन आदि के कारण नियमित संकट उत्पन्न होना।
• विकसित बाज़ारों द्वारा गैर टैरिफ बाधाओं के रुप में उपर्युक्त का उपयोग करना।

एपीडा द्वारा कृषि उत्पादों में ट्रेसबिल्टी तंत्र की स्थापना करने के लिए पहल की गई है जिसके माध्यम से आयातक देशों को यह आश्वस्त करना है कि आपूर्ति श्रृंखला के हर स्तर पर गुणवत्ता की आवश्यकताओं को बनाए रखा जा रहा है।

एपीडा द्वारा भारत में होर्टीनेट ट्रेसबिल्टी प्रणालियों का आरंभ

होर्टीनेट: सभी बागवानी उत्पादों के लिए एक सिंगल साइन ट्रेसबिल्टी प्रणाली| अब तक ट्रेसबिल्टी प्रणालियों को निरंतर सफलता से विकसित और कार्यान्वित करने के साथ एपीडा ने होर्टीनेट नामक ट्रेसबिल्टी प्रणाली की परिधि के अंतर्गत सभी फलों और सब्ज़ियों को सम्मिलित करने की चुनौती ली है। होर्टीनेट एक एकीकृत वेब सक्षम प्रमाणन और ट्रेसबिल्टी प्रणाली है। ये प्रणाली किसानों के पंजीकरण से आरंभ होती है और एक निगरानी प्रणाली के रूप में कार्य कर यह सुनिश्चित करती है कि भारत से निर्यात किए जाने वाले फलों एवं सब्ज़ियों को मानव उपभोग के लिए उपयुक्त बनाने हेतु अंतर्राष्ट्रीय मानकों का पालन किया गया है। वर्तमान में होर्टीनेट प्रणाली, केंद्रीकृत वेब आधारित मॉनिटरिंग सॉफ्टवेयर के माध्यम से 14 सब्ज़ियों (करी पत्ते, भिंडी, कुंदरु, ड्रमस्टिक्स, सेम की फली, लोबिया की फली, फ्रेंच बीन्स, ग्वारफली, लौकी, घिया, हरी मिर्च, आलू, करेला और बैंगन) तथा तीन फलों(आम, अंगूर,अनार) और आपूर्ति श्रृंखला में निम्नलिखित हितधारक शामिल हैं:
1. किसान।
2. खेत/किसान पंजीकरण हेतु राज्य सरकार बागवानी विभाग।
3. कीटनाशक और अन्य संदूषकों के परीक्षण हेतु प्रयोगशालाएं।
4. प्रेषण निर्माण के लिए निर्यातक।
5. कुछ बागवानी उत्पादों के लिए ग्रेडिंग प्रमाण-पत्र हेतु एगमार्क।
6. फाइटो सेनिटरी प्रमाण-पत्र के निर्गमन हेतु पी.एस.सी प्राधिकरण।

इस संबंध में, एपीडा द्वारा “होर्टीनेट ट्रेसबिल्टी” लोगो के डिजाइन सहित टैग लाइन की प्रविष्टियों का आमंत्रण किया जा रहा है।

इस लोगो में भारत से निर्यात के लिए होर्टीनेट ट्रेसबिल्टी प्रणाली के अंतर्गत विभिन्न बागवानी उत्पादों को शामिल कर फार्म टू फोर्क ट्रेसबिल्टी चित्रित की जाए। विजयी प्रविष्टि को 50,000 रुपए (पचास हज़ार रुपए) की राशि से पुरस्कृत किया जाएगा।

प्रस्तुत की अंतिम तिथि 31 दिसंबर, 2017 की मध्यरात्रि तक है

नियम और शर्तें, तकनीकी पैरामीटर और मूल्यांकन मानदंड पढ़ने के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं

Total Submissions ( 358) Approved Submissions (0) Submissions Under Review (358) Submission Closed.