खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय (एमओएफपीआई) के लिए एक लोगो का डिज़ाइन करने की प्रतियोगिता

खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय (एमओएफपीआई) एक मजबूत और जीवंत ...

See details Hide details

खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय (एमओएफपीआई) एक मजबूत और जीवंत खाद्य प्रसंस्करण उद्योग को विकास करने के लिए जिम्मेदार है| रोजगार में वृद्धि और किसानों को आधुनिक प्रौद्योगिकी के जरिए लाभ हो, साथ ही साथ निर्यात के लिए अधिशेष बनाने और संसाधित भोजन की मांग को उत्तेजित करने के लिए सक्षम बनाया गया है। कुल मिलाकर मंत्रालय एक सशक्त और गतिशील खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र के जरिए कृषि उत्पादन, कृषि के विविधीकरण और व्यावसायीकरण, रोजगार के अवसर पैदा करने और किसानों की आय में वृद्धि को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय का लक्ष्य है कि वह राष्ट्रीय पहल के साथ खाद्य प्रसंस्करण बनाने के उद्देश्य से भारत और विदेश के भीतर इस क्षेत्र में गुणवत्ता के निवेश को आकर्षित करने के लिए एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य करने के साथ साथ अपने लक्षित उद्देश्यों को प्राप्त करे। मंत्रालय का मुख्य मकसद है:

• बेहतर उपयोग और कृषि उत्पादों के मूल्य में वृद्धि हो ताकि किसान अपनी आय में वृद्धि करें
• खाद्य प्रसंस्करण श्रृंखला में कृषि-खाद्य उत्पादन के भंडारण, परिवहन और प्रसंस्करण के लिए आधारभूत संरचना के विकास के सभी चरणों में खर्चों को कम करना;
• घरेलू और बाहरी दोनों स्रोतों से खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों में आधुनिक तकनीक का परिचय कराया जा सके
• उत्पाद और प्रक्रिया में विकास और बेहतर पैकेजिंग के लिए खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में आर एंड डी (R&D) को प्रोत्साहित किया जा सके
• नीतियों में सहायता प्रदान करने के साथ साथ बुनियादी सुविधाओं, क्षमता विस्तार / उन्नयन, और अन्य सहायक उपायों के निर्माण के लिए समर्थन दिया जाए ताकि इस क्षेत्र की वृद्धि को आने वाले दिनों में देखा जाए।

मंत्रालय के कार्यों को मोटे तौर पर नीतिगत समर्थन और विकास गतिविधियों के तहत वर्गीकृत किया जा सकता है:

नीति समर्थन:
क. समग्र राष्ट्रीय प्राथमिकताओं और उद्देश्यों के साथ खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र के लिए नीतियों का नियमन और कार्यान्वयन
ख. खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र के स्वस्थ विकास के लिए एक अनुकूल वातावरण के निर्माण की सुविधा प्रदान करना

विकास गतिविधियां:
क. खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र के विकास के लिए मेगा फूड पार्क, इंटिग्रेटेड कोल्ड चेन के जरिए विश्व स्तर के बुनियादी ढांचे के सृजन पर जोर दिया गया और खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र के लिए विभिन्न योजना स्कीमों के तहत सहायता भी प्रदान की गई।
ख. विभिन्न अनुसंधान एवं विकास संस्थानों की भागीदारी और विभिन्न अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों के समर्थन में खाद्य प्रसंस्करण में आर एंड डी आधार को प्रमुखता से करना।
ग. खाद्य प्रसंस्करण उद्योग में प्रबंधकों, उद्यमियों और कुशल श्रमिकों की बढ़ती आवश्यकता को पूरा करने के लिए मानव संसाधन विकास
घ. विश्लेषणात्मक और परीक्षण प्रयोगशालाओं की स्थापना और खाद्य मानक के स्तर को कम करने और अंतरराष्ट्रीय मानकों के साथ मिलकर बनाने में सक्रिय भागीदारी
ङ. क्षेत्र के समावेशी विकास के लिए उद्योग, शिक्षा, वैज्ञानिकों और राज्य सरकारों के प्रतिनिधियों के साथ गहन परामर्श जारी रखें।

योजनाओं और इनसे जुड़ी अन्य पहलुओं का विवरण www.mofpi.nic.in पर देखा जा सकता है

खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय (एमओएफपीआई) के लिए एक लोगो को डिजाइन करने के लिए प्रविष्टियों को आमंत्रित करता है।

जीतने वाली प्रविष्टि को 50,000 / - (केवल पचास हजार रुपये) रुपये की राशि से सम्मानित किया जाएगा|

प्रविष्टि प्रस्तुत करने की आखिरी तारीख 11 जनवरी 2018 है|

नियम व शर्तें, तकनीकी पैरामीटर और मूल्यांकन मानदंड पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Total Submissions ( 572) Approved Submissions (0) Submissions Under Review (572) Submission Closed.