कार्यांजलि की कहानी

Last Date Oct 30,2019 17:30 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
View Result प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

समाज के प्रति खुद को समर्पित करने की जागृति स्वयं के भीतर शुरू होती ...

समाज के प्रति खुद को समर्पित करने की जागृति स्वयं के भीतर शुरू होती है और फिर सतत प्रयास व दृढ़संकल्प से ही हमारे आस-पास बदलाव आता है। दुनिया में कई ऐसे लोग हैं जिन्होंने खामोशी से अपना संपूर्ण जीवन समाज को समर्पित कर दिया या कुछ ऐसे भी लोग होंगे जो अपने समर्पण व दृढ़संकल्प की वजह से आने वाले समय में याद किए जाएंगें। महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के अवसर पर गांधी स्मृति और दर्शन समिति ऐसे विभूतियों को अपनी पहल या योगदानों की कहानी साझा करने के लिए आमंत्रित करता है।

आपको अपना कार्य तुच्छ लग सकता है, लेकिन यह सामुदायिक विकास के लिए काम करने के लिए किसी को प्रेरित कर सकता है।
आइए सकारात्मक परिवर्तन के लिए दुनिया के साथ हम अपनी पहल व योगदानों को साझा करें।

बीस चयनित विजेताओं में से प्रत्येक को 2100 रुपये की पुरस्कार राशि के साथ-साथ प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया जाएगा।

नियम और शर्तें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

विधिवत पूर्ण प्रविष्टियां 30 अक्टूबर, 2019 तक ऑनलाइन आवेदन प्रणाली के जरिए भेज दी जानी चाहिए।

पूछताछ के लिए,संपर्क करें
कनक कौशिक
011-23392278

विवरण देखें Hide Details
इस कार्य के लिए प्राप्त हुई प्रविष्टियाँ
725
कुल
0
स्वीकृत
725
समीक्षाधीन