कविता लेखन प्रतियोगिता: लैंगिक हिंसा के खिलाफ अपनी आवाज उठाएं

आरंभ करने की तिथि :
Nov 25, 2021
अंतिम तिथि :
Dec 24, 2021
23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

राष्ट्रीय महिला आयोग अधिनियम, 1990 के तहत जनवरी 1992 में स्थापित ...

राष्ट्रीय महिला आयोग अधिनियम, 1990 के तहत जनवरी 1992 में स्थापित राष्ट्रीय महिला आयोग एक वैधानिक निकाय है, जिसके पास महिलाओं के संवैधानिक और वैधानिक अधिकारों की रक्षा करने का अधिकार है। महिला आयोग महिलाओं के सशक्तिकरण और समग्र विकास में सहायता प्रदान करने वाले कार्यक्रम की पहल करता है ताकि महलाओं की अवसरों तक पहुंच सुनिश्चित कर निर्णय लेने में सक्षम बनाया जा सके।

महिलाओं के खिलाफ हिंसा के उन्मूलन के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस 2000 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा शुरू किया गया था। यह दिन प्रतिवर्ष 25 नवंबर को मनाया जाता है। महिलाओं के खिलाफ हिंसा के उन्मूलन के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस महिलाओं के खिलाफ हिंसा के बारे में जागरूकता बढ़ाने का प्रयास है। इस दिन का उद्देश्य महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार करने वालों के खिलाफ आवाज़ उठाने के लिए प्रोत्साहित करके हिंसा की रोकथाम करना है। यह दिन महिलाओं के खिलाफ किसी भी ऐसी हिंसा को लिंग-आधारित हिंसा के रूप में परिभाषित करता है जिसके परिणामस्वरूप महिलाओं को शारीरिक, यौन या मनोवैज्ञानिक परेशानी होती है या होने की संभावना होती है। इस दिन का लक्ष्य समानता, विकास और शांति सुनिश्चित करना है। इसका उद्देश्य महिलाओं और लड़कियों के मानवाधिकारों की रक्षा करना है।

महिला आयोग ने अपने मैंडेट के मुताबिक और 'महिलाओं के खिलाफ हिंसा के उन्मूलन' के लक्ष्य के मद्देनजर 25 नवंबर, 2021 को MyGov पोर्टल के माध्यम से ‘कविता लेखन प्रतियोगिता' आयोजित किया है, जिसका उद्देश्य लोगों के बीच समानता, विकास और शांति को बढ़ावा देना है।

पुरस्कार:
शीर्ष 5 (पांच) प्रविष्टियों को राष्ट्रीय महिला आयोग की ओर से रु 5,000/- का इनाम और प्रमाण पत्र दिया जाएगा।
सभी प्रतिभागियों को भागीदारी प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा।

तकनीकी पैमाने:
प्रतियोगिता सभी के लिए खुली है। कविता 50-200 शब्दों के सीमित शब्दों में होनी चाहिए और अंग्रेजी / हिंदी में हो सकती है। प्रतिभागी निम्नलिखित में से किसी एक विषय पर अपनी प्रविष्टियां जमा कर सकते हैं:

i. आज़ादी की तलाश;
ii. मैं आज की नारी हूँ
iii. वे कहते हैं: यह मेरी किस्मत थी
iv. अपनी आवाज बुलंद करें
v. हिंसा के खिलाफ चुप्पी तोड़ना

सबमिशन की अंतिम तिथि 24 दिसंबर, 2021 है।

नियम और शर्तें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। (PDF-125 KB)

इस कार्य के लिए प्राप्त हुई प्रविष्टियाँ
1481
कुल
0
स्वीकृत
1481
समीक्षाधीन
रीसेट