उपभोक्ता मामलों के विभाग की तरफ से "जागो ग्राहक जागो" अभियान के तहत उपभोक्ताओं को जागरूक बनाने के लिए शुभंकर डिजाइनिंग प्रतियोगिता

उपभोक्ता मामलों के विभाग ने अपने अधिकारों के बारे में उपभोक्ताओं के ...

See details Hide details
Mascot Designing contest for creating Consumer Awareness for “Jago Grahak Jago” campaign of Department of Consumer Affairs

उपभोक्ता मामलों के विभाग ने अपने अधिकारों के बारे में उपभोक्ताओं के बीच जागरुकता पैदा करने और उनके कर्तव्यों के लिए "जागो ग्राहक जागो" मल्टीमीडिया अभियान चलाया करती है ‘ जागो ग्राहक जागो’ टैगलाइन एक घरेलू शब्द है। देश की पूरी आबादी किसी ना किसी रूप में एक उपभोक्ता ही है। देश की विशाल आबादी के बीच जागरूकता पैदा करना हमेशा से एक चुनौती भरा कदम रहा है फिर भी देश के नागरिकों की सक्रिय भागीदारी के साथ, उपभोक्ता विभाग इस चुनौती को पूरा कर सकता है। वर्तमान समय में उपभोक्ताओं को आए दिन जिन मुद्दों का सामना करना पड़ता है उसी बाबत उन्हें बेहतर ढंग से समझाने के लिए इन दिनों विभाग द्वारा मल्टीमीडिया अभियान चलाया जा रहा है। प्रतिभागी इस विभाग की वेबसाइट www.consumeraffairs.nic.in पर जा सकते हैं और साथ ही इसका ट्विटर हैंडल है- @consaff और @jagograhakjago

‘सयानी रानी’ लंबे समय से जगो ग्राहक जागो 'अभियान का शुभंकर है । हालांकि विभिन्न अभियान के लिए अलग-अलग शुभंकर रखने के विचार थे। इसलिए "उपभोक्ता राजा / रानी" के विषय पर शुभंकरों का प्रस्ताव रखा गया है। शुभंकर, अभिव्यक्ति एक सशक्त माध्यम होता है मतलब ये कि शुभंकर के जरिए आप उपभोक्ता, जिज्ञासु उपभोक्ता, उपभोक्ता और परामर्श उपभोक्ताओं को विश्वस्त करने में सक्षम होते हैं। इसलिए यह विभाग "उपभोक्ता राजा / रानी" के विषय पर एक शुभंकर डिजाइनिंग प्रतियोगिता का आयोजन कर रहा है।

प्रविष्टियां जमा करना:-

• प्रविष्टियां जमा करने की अंतिम तिथि 20 अगस्त 2017 होगी
• प्रविष्टियां जो भी है प्रतिभागियों का मूल काम होना चाहिए और किसी भी तीसरे पक्ष के बौद्धिक संपदा अधिकारों का उल्लंघन नहीं करना चाहिए
• एक प्रविष्टि को एक व्यक्ति या एक टीम ही प्रोजेक्ट हो सकती है
• प्रत्येक प्रविष्टियों के साथ एक संक्षिप्त विवरण होना चाहिए। एक व्यक्ति एक से अधिक प्रविष्टियां भेज सकता है
• परिणाम प्रविष्टि प्राप्त करने की आखिरी तारीख से 8 सप्ताह के भीतर विभाग की वेबसाइट पर डाला जाएगा

पुरस्कार निम्नानुसार होंगे:

प्रथम पुरस्कार: रु 50,000 के साथ विभाग से प्रशंसा का प्रमाण पत्र
दूसरा पुरस्कार: रु 25,000 के साथ विभाग से प्रशंसा का प्रमाण पत्र
तीसरा पुरस्कार: रु 10,000 के साथ विभाग से प्रशंसा का प्रमाण पत्र

नियम एवं शर्तें, तकनीकी मापदंड व लेखों का मूल्यांकन पैमाना पढने के लिए यहाँ क्लिक करें

Total Submissions ( 322) Approved Submissions (0) Submissions Under Review (322) Submission Closed.