Tune in to Mann Ki Baat by Prime Minister Narendra Modi on 24th October 2021

Tune in to Mann Ki Baat by Prime Minister Narendra Modi on 24th October 2021

इस बात के लिए टिप्पणियाँ बंद हो गईं।
164930
SHARIF SHAIKH_3 1 महीना 1 week पहले

प्रधानमंत्री जी, कोरोना की मार देश मे बेरोजगारों की संख्या और इस से निपटने के लिए कुछ तो उपाय ढूंढने होंगे,करों,पेट्रोलियम पदार्थों,रेडीरेकनर दरों में बढ़ोतरी यह उपाय नही, सरकार के पास पैसा आए, रोज़गार भी मिले, बढ़े और कोई नया कर भी ना लगे। सिर्फ सूचना,सुझाव लिख कर देने से काम नही होगा, कोई इन्हें देखता ही नही हैं,लाखों सुझाव के अंबार रोज़ाना इस माध्यम से आते हैं,क्या किसी पर कार्य हुआ? एक सुझाव है हज़ारों करोड़ रुपये का राजस्व नियमित प्राप्त हो ऐसी एक योजना के दो पर्याय है, आप चर्चा करें।

164930
SHARIF SHAIKH_3 1 महीना 1 week पहले

आपका बच्चा और ग्रामसेवक, तहसीलदार, जिलाधिकारी या फिर सरपंच, नगरसेवक, विधायक और और सांसद के बच्चे एक ही सरकारी स्कूल मे शिक्षा प्राप्त करे तो, स्कूल और शिक्षा के स्तर मे सुधार होगा। प्रधानमंत्री जी का स्लोगन "सब का साथ सब का विकास" बात सच होगी। इसी प्रकार स्वास्थ संबन्धी प्राथमिक उपचार भी सरकारी अस्पतालों हम और यह सभी मान्यवर भी करने लगे तो सरकारी अस्पतालों मे भी सुधार होगा। लेकिन ऐसा कराने की जिम्मेदारी प्रधानमंत्री को लेनी होगी, तभी शिक्षा, स्वास्थ्य ही नही हर क्षेत्र मे सुधार मुमकिन होगा।

27500
K G Pragaasam BJP 1 महीना 1 week पहले

Hon.ble Prime Minister Shri Narendramodiji while congradulating the 1 billion vaccination dose successfully we cannot satisfy ourselves to accept this achievement because it is your duty to vaccinate the people to prevent them from the Covid pandemic. This has been carried out not only in India but all over the world. WHO already has warned a 3rd pandemic will attack the world. Hence all the world leaders never satisfy with their work but on the other hand they began to safeguard the people.

164930
SHARIF SHAIKH_3 1 महीना 1 week पहले

शिक्षा में सुधार सरकार की जिम्मेदारी है, सुधार मुमकिन है प्राथमिक शिक्षण सरकार हर किसी को सरकारी स्कूलों मे ही अनिवार्य कर दे शिक्षक, स्कूल और शिक्षा के स्तर में अपने आप सुधार होगा। आम जनता और सरपंच से लेकर नगरसेवक, विधायक, सांसद, मंत्री और ग्रामसेवक से लेकर तहसीलदार, एसडीएम, जिलाधिकारी के बच्चे एक साथ शिक्षा ग्रहण करे तो सुधार होना ही है। जो लोग प्राइवेट स्कूल में बच्चों को प्राथमिक शिक्षण दिलाए उसे सरकारी, निमसरकारी नौकरी,पद एवं नियुक्तियां नही ऐसा कानून सरकार लाए। ऐसे ही स्वस्थ्य पॉलिसी हो।

3860
Ravuri Sai Nikhil 1 महीना 1 week पहले

Why can't we give chance to the undergraduate students who were final year (5 semester) to give attempt main and interview who qualified the prelims (only who attended the age of 21can give the attempt the exam).Even some of students gets clearly of undergraduate exam they unable to submit the graduate certification to upsc cse board for applying upsc cse main and show original proof to upsc board in interview due to the financial crisis of students.give time to student tosubmit the doc like iim

3860
Ravuri Sai Nikhil 1 महीना 1 week पहले

Why can't we give chance to the undergraduate students who were final year (5 semester) to give attempt main and interview who qualified the prelims (only who attended the age of 21can give the attempt the exam).Even some of students gets clearly of undergraduate exam they unable to submit the graduate certification to upsc cse board for applying upsc cse main and show original proof to upsc board in interview due to the financial crisis of students.give time to student tosubmit the doc like iim

28190
R Manoharan 1 महीना 1 week पहले

In Tamilnadu, one Christian father was appointed in the text book committee to modify the syllabus.With this power he injected the Christianity in more than nine places in the Primary Class Books.He boasted this himself and disclosed in the open meeting in the presence of our Tamilnadu Chief Minister shri M K Stalin.

164930
SHARIF SHAIKH_3 1 महीना 1 week पहले

प्रधानमंत्री जी देश मे होने वाले चुनाव का कार्यकाल विधानसभा और लोकसभा के लिए चार वर्ष की अवधि कर देनी चाहिए, साथ ही स्थानिक स्वराज्य संस्थाओ और विधान परिषद, राज्यसभा के सदस्य का कार्यकाल भी सिर्फ तीन वर्ष का हो ऐसा करने से ज़्यादा लोगों को राजनीति मे आने का मौका मिलेगा। राजनीतिक पार्टियां सिर्फ दो या तीन बार किसी भी सदस्य को टिकट दे इस के बाद सदस्य चाहे तो वह निर्दलीय लड़ सदन मे आए, अमेरिका, इंग्लैंड, फ्रांस, रशिया, जर्मनी जैसे प्रशस्त राष्ट्र के कार्यकाल चार वर्ष है, हमारे यहां पाच वर्ष क्यों?

4990
RAJENDERVAISHNAV 1 महीना 1 week पहले

sir
mene pagle bhi nivedan kiya tha ki m free electricity ke production kar sakta hu. meri baat apke dwara is duniya ke samne rakhana chahta hu.
kuch achha karne ki koshish hai manav kalyan ki soch rakhata hu me. aap ya aapki team in post ko pade to meri baat aap tak pahuche.
koi baat nahi. but ek baar mera idea sun lete.
iske alava mere pass aap tak baat pahuchane ka koi sadhan nahi hai.