राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भागीदारी

बनाने की तिथि :16/12/2014
उपरोक्त गतिविधियों में भाग लेने के लिए क्लिक करें

युवा वर्ग देश का भविष्य होने के साथ-साथ हमारे देश के विकास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। भारत में युवाओं की संख्या अन्य देशों से अधिक है। भारत की लगभग 65 प्रतिशत जनसंख्या की आयु 35 वर्ष से कम है। सरकार का पूरा ध्यान युवाओं के माध्यम से विकास लाने पर केन्द्रित है। उनके अनुसार युवा देश के विकास के लिए अपना सक्रिय योगदान प्रदान करें न कि केवल उसका एक हिस्सा बनकर रह जाएँ। सरकार द्वारा पेश की गई राष्ट्रीय युवा नीति-2014 का उद्देश्य “युवाओं की क्षमताओं को पहचानना और उसके अनुसार उन्हें अवसर प्रदान कर उन्हें सशक्त बनाना और इसके माध्यम से विश्वभर में भारत को उसका सही स्थान दिलाना है।“ युवाओं के व्यक्तित्व में सुधार लाने, उनमें नेतृत्व के गुण विकसित करने एवं उनमें ज़िम्मेदार नागरिक के गुण और स्वयंसेवा की भावना उत्पन्न करने के उद्देश्य से युवा मामले विभाग ने विभिन्न कार्यक्रमों को कार्यान्वयित किया है। राष्ट्रीय युवा नीति-2014 की विषयवस्तु एवं युवा मामले विभाग के विभिन्न कार्यक्रमों/ योजनाओं के बारे में अधिक जानकारी विभाग की वेबसाइट (www.yas.nic.in) पर उपलब्ध कराई गई है। राष्ट्र् निर्माण में युवाओं को कैसे भागीदार बनाया जाए इससे संबंधित अपने विचार और सुझाव साझा करें। यह समूह कार्य एवं चर्चा करेगा। कार्य दोनों प्रकार के हो सकते हैं -ऑनलाइन और बाहरी। चर्चा के माध्यम से लोग अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं और सुझाव दे सकते हैं।