#ItsMyDuty- मौलिक कर्तव्यों पर अपनी कहानियां साझा करें

Last Date Nov 26,2020 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)

11 मौलिक कर्तव्यों पर आधारित अपनी कहानियां, वीडियो और आइडिया भेजें! ...

11 मौलिक कर्तव्यों पर आधारित अपनी कहानियां, वीडियो और आइडिया भेजें!

इस वर्ष 26 नवंबर, 2019 को भारतीय संविधान को अपनाने की 70 वीं वर्षगांठ के अवसर पर भारत सरकार ने भारतीय संविधान के अध्याय IV-A (अनुच्छेद 51A) में वर्णित मौलिक कर्तव्यों के प्रति जागरूकता पैदा करने के लिए एक अभियान की शुरुआत की है।

मौलिक कर्तव्य सभी नागरिकों के लिए दिशा-निर्देश हैं। मौलिक कर्तव्यों के कार्यान्वयन की जिम्मेदारी प्रत्येक नागरिक पर है। यद्यपि इसे कानूनी रूप से लागू नहीं किया जा सकता है, फिर भी इनका अनुपालन बेहद महत्वपूर्ण व अनिवार्य है। क्योंकि एक व्यक्ति के लिए जो कर्तव्य है वह किसी अन्य व्यक्ति का अधिकार है।

इन मौलिक कर्तव्यों का पालन करके और इसे मजबूत बना कर, हम, एक नागरिक के तौर पर अपने देश और अन्य नागरिकों के प्रति अपने कर्तव्यों को पूरा करने में एक सकारात्मक और प्रभावी भूमिका निभा सकते हैं और विश्व में अपने देश का नाम रौशन कर सकते हैं। न्याय विभाग के सहयोग से

MyGov आपको 11 मौलिक कर्तव्यों पर अपनी कहानियों, वीडियो या आइडिया साझा करने के लिए आमंत्रित करता है।
a. संविधान का पालन करें और उसके आदर्शों, संस्थाओं, राष्ट्र ध्वज और राष्ट्रगान का आदर करें।
b. स्वतंत्रता के लिए हमारे राष्ट्रीय आंदोलन को प्रेरित करने वाले उच्च आदर्शों को हृदय में संजोए रखें और उनका पालन करें।
c. भारत की प्रभुता, एकता और अखंडता की रक्षा करे और उसे अक्षुण्ण रखें।
d. देश की रक्षा करे और आह्वान किए जाने पर राष्ट्र की सेवा करें।
e. भारत के सभी लोगों में समरसता और समान भ्रातृत्व की भावना का निर्माण करे जो धर्म, भाषा और प्रदेश या वर्ग पर आधारित सभी भेदभाव से परे हो, ऐसी प्रथाओं का त्याग करे जो स्त्रियों के सम्मान के विरुद्ध है।
f. हमारी सामासिक संस्कृति की गौरवशाली परंपरा का महत्व समझे और उसका परिरक्षण करें।
g. प्राकृतिक पर्यावरण की, जिसके अंतर्गत वन, झील, नदी और वन्य जीव हैं, रक्षा करें और उसका संवर्धन करे तथा प्राणी मात्र के प्रति दया भाव रखें।
h.वैज्ञानिक दृष्टिकोण, मानववाद और ज्ञानार्जन तथा सुधार की भावना का विकास करें।
i. सार्वजनिक संपत्ति को सुरक्षित रखें और हिंसा से दूर रहें।
j. व्यक्तिगत और सामूहिक गतिविधियों के सभी क्षेत्रों में उत्कर्ष की ओर बढ़ने का सतत प्रयास करे, जिससे राष्ट्र निरंतर बढ़ते हुए प्रयत्न और उपलब्धि की नई उंचाइयों को छू ले।
k. यदि माता-पिता या संरक्षक हैं, छह वर्ष से चौदह वर्ष तक की आयु वाले अपने, यथास्थिति, बालक या प्रतिपाल्य के लिए शिक्षा के अवसर प्रदान करें।

तकनीकी पैमाने:
आप निम्न प्रारुपों में अपनी प्रविष्टियाँ साझा कर सकते हैं:
• जेपीजी / जेपीईजी
• पीडीएफ
• यूट्यूब यूआरएल

जमा करने की अंतिम तिथि 26 नवंबर 2020 है।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
50030 सबमिशन दिखा रहा है
4322160
Dr Guinness Madasamy 28 मिनट 10 सेकंड पहले

If we place human rights and nature at the heart of sustainable development, humans could attain a just and sustainable future in which people live happy, healthy and fulfilling lives in harmony with nature on this beautiful but beleaguered blue-green planet.### IT IS OUR DUTY##

4322160
Dr Guinness Madasamy 28 मिनट 36 सेकंड पहले

If we fail to employ a rights-based approach to protecting the biosphere, future generations will live in an ecologically impoverished world, deprived of nature’s critical contributions to human well-being, ravaged by increasingly frequent pandemics and riven by deepening environmental injustices.

4322160
Dr Guinness Madasamy 28 मिनट 52 सेकंड पहले

States must take a rights-based approach to urgent action in four key and interrelated areas:

adopting carbon neutral and nature positive economic recovery plans,
targeting the key drivers of zoonotic diseases,
scaling-up measures to protect and conserve nature,
respecting the rights of Indigenous Peoples, rural and local communities.

4322160
Dr Guinness Madasamy 29 मिनट 29 सेकंड पहले

In countries where the rule of law is in good shape, the right to a healthy environment has led to stronger environmental laws and policies, higher levels of public participation in environmental decision-making and most importantly, improved environmental performance.

4322160
Dr Guinness Madasamy 31 मिनट 12 सेकंड पहले

Rights are being strategically employed by Indigenous peoples, individuals and persons with disabilities to reduce discrimination, increase opportunities and improve their quality of life. It’s never easy, but human rights undoubtedly have sparked positive transformative changes.