Gandhi@150 के अवसर पर समारोह

अंतिम दिनांकJan 30,2020 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

जिस महान व्यक्तित्व ने पूरी दुनिया को बताया कि सौम्यता व विनम्रता से ...

जिस महान व्यक्तित्व ने पूरी दुनिया को बताया कि सौम्यता व विनम्रता से दुनिया बदली जा सकती है। उनकी 150 वीं जयंती के साथ एक नई शुरुआत की जा रही है। वे अपने पीछे नैतिकता, आत्मसम्मान, क्षमा, अहिंसा और सत्याग्रह आदि की विरासत छोड़ गए हैं। अब दुनिया तेजी से विकसित हो रही है और सभी के सतत और समावेशी विकास के लिए कुछ पहलूओं पर ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है।

गांधी स्मृति और दर्शन समिति इस डिजिटल मंच पर आपको खुली चर्चा के लिए आमंत्रित करती है जहां आप अपने बहुमूल्य विचारों को साझा कर सकते हैं।

इन विचारों को महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती समारोह के लिए समर्पित विभिन्न कार्यक्रमों के संचालन में समिति द्वारा उपयोग किया जा सकता है।

भेजने की अंतिम तिथि जनवरी 30, 2020 है।

रीसेट
4315 सबमिशन दिखा रहा है
2320
Mohd Rizwan 1 year 8 महीने पहले

Mahatma Gandhi' s vision was far behind any bar of boundary of faith and religion. He was such a great human being with noble soul. His heart was filled with love and sorrow, unlike he gave us freedom but also his thought reflect a strong and humble nation with its core values, so be proud on him that he is truly father of our nation. Today Gandhi ji thought is relevant and always his

4170
SURYA KANT SAINI 1 year 8 महीने पहले

महात्मा गंाधी जिन्हे हम बापू के नाम से जाना जाता है । आज हम जिस तरह से महात्मा गांधी के कायों को देखते है। उससे हमें प्रेरणा लेनी चाहिए। साथ ही हम लोग उनके आदर्शों को अपने जीवन में उतारे। महात्मा गांधी जिन्होने अपने हित का ध्यान न देते हुए पूरी जिन्दगी देश के नाम कर दी।

2300
Sunil Bassi 1 year 8 महीने पहले

Bapu's teaching and their relevance in today's time
1. Forgiveness and non violence :- As a society we becoming more violent, impatient and intolerant. Every day newspapers are full with such news Husband killed wife, wife murdered husband, road rage incidents , sr.student killed another kid. Majority of such incidents can be avoided if we have virtue of forgiveness. Need to put strong checks on movies, print media, mobile games and even food that we eat. Our thoughts are what we eat and read.

7390
Shubham Kumar 1 year 9 महीने पहले

महोदय नमस्कार
जैसा कि हम जानते है महात्मा गांधी जी का जीवन हम सभी के लिए एक प्रेरणा है।वे भारत में राम राज्य लाना चाहते थे और आपके ऊपर इसकी पूर्ण जिम्मेदारी है।आपको मेरा एक सुझाव है कि विद्यालय में बच्चों को आद्यात्मिक ज्ञान मिले तभी हमारा देश विश्व गुरु बन सकता है।
आपका शुभचिंतक
शुभम कुमार

87960
Dr Swapan Kumar Banerjee 1 year 9 महीने पहले

It's hypocrisy to talk about Gandhiji and not follow what he has taught.
We talk about his nonviolence but practice violence in words and deeds.
We talk about his austerity but indulge in luxaries.
We talk about his commitment to truth, but lie all the day.
We talk about his dedication to India but we don't live for our country.
We talk about his exceptional self-control but pursue pleasure is senses.
He loved and lived Indian culture, but ape western trash.
Let's be true to ourselves.