Gandhi@150 के अवसर पर समारोह

Last Date Jan 30,2020 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)

जिस महान व्यक्तित्व ने पूरी दुनिया को बताया कि सौम्यता व विनम्रता से ...

जिस महान व्यक्तित्व ने पूरी दुनिया को बताया कि सौम्यता व विनम्रता से दुनिया बदली जा सकती है। उनकी 150 वीं जयंती के साथ एक नई शुरुआत की जा रही है। वे अपने पीछे नैतिकता, आत्मसम्मान, क्षमा, अहिंसा और सत्याग्रह आदि की विरासत छोड़ गए हैं। अब दुनिया तेजी से विकसित हो रही है और सभी के सतत और समावेशी विकास के लिए कुछ पहलूओं पर ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है।

गांधी स्मृति और दर्शन समिति इस डिजिटल मंच पर आपको खुली चर्चा के लिए आमंत्रित करती है जहां आप अपने बहुमूल्य विचारों को साझा कर सकते हैं।

इन विचारों को महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती समारोह के लिए समर्पित विभिन्न कार्यक्रमों के संचालन में समिति द्वारा उपयोग किया जा सकता है।

भेजने की अंतिम तिथि जनवरी 30, 2020 है।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
3354 सबमिशन दिखा रहा है
300
Ankit patel 51 मिनट 55 सेकंड पहले

Sir.. I want to tell about the ecological pollution that we are polluting it at hgh rate.. No one is concern about this issue neither no big steps are taken.. If it is taken then it is not complementing on every field... eg., sir .. Recently single used plastic are hypocritically banned but most of the places people are still using it .. Sir i just need to discuss or know that ..what are the sustained steps is planning by the government on power.. Bcoz I'm seeing things gonna be get worse

2350
Dr Anand Tiwari 1 घंटा 10 मिनट पहले

Maybe the national anthem Jana gana Mana fails to truely reflect the sentiment and spirit of the young and modern India.
A new song that includes Gandhian thought and Indian spirit needs to be composed.
Why not stimulate the creative people to contribute on theses lines and make songs available to play on events reflecting Gandhian thought?

1100
DHWANI LAD 2 घंटे 12 मिनट पहले

Gandhi my inspiration, I am one who wanted to follow his ideaology. But I fail. He taught us Non-Violence and truth. He said,"Use Swadeshi." An idea to build a strong nation. and principle of life. Mahatma Gandhi a title given to him is not ordinary, to get this title one to be different from other and have different thoughts. He was religious and was not ready to walk a step without ait. But we should understand his idelogy behind it, for him religion or dhram is truth and good behaviour.