28 जुलाई, 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात के लिए भेजें अपने सुझाव

Last Date Jul 27,2019 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर आपसे जुड़े महत्वपूर्ण विषयों ...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर आपसे जुड़े महत्वपूर्ण विषयों पर अपने विचार साझा करेंगे। मन की बात कार्यक्रम के 55 वें संस्करण के लिए प्रधानमंत्री आपसे सुझाव आमंत्रित करते हैं, ताकि इस कार्यक्रम में आपके नूतन सुझावों व प्रगतिशील विचारों को शामिल किया जा सके।

'मन की बात' के आगामी संस्करण में आप जिन विषयों व मुद्दों पर प्रधानमंत्री से चर्चा सुनना चाहते हैं, उससे संबंधित अपने सुझाव व विचार भेजना न भूलें। आप अपने सुझाव इस ओपन फोरम के माध्यम से साझा कर सकते हैं अथवा हमारे टॉल फ्री नंबर 1800-11-7800 डायल करके प्रधानमंत्री के लिए अपना सन्देश हिन्दी अथवा अंग्रेजी में रिकॉर्ड करा सकते हैं। कुछ चुनिंदा संदेशों को 'मन की बात' में भी शामिल किया जा सकता है।

इसके अलावा आप 1922 पर मिस्ड कॉल करके एसएमएस के जरिए प्राप्त लिंक का इस्तेमाल कर सीधे प्रधानमंत्री को भी सुझाव भेज सकते हैं।

28 जुलाई, 2019 को प्रातः 11:00 बजे मन की बात कार्यक्रम सुनना न भूलें।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
3843 सबमिशन दिखा रहा है
11060
SUNNY MEHTA 1 year 1 week पहले

Hon. PM sir
please help the students of bihar who are persuing there graduation course as condition of universities as well as govt schools are not very good. Courses are not completed on time in many universities and in govt schools teaching is not done proprerly..
Thank you

1070
sankalp singh chauhan 1 year 1 week पहले

Sir
Please film industries m kaam karane vaale un lakho majdooro workers pe dhyaan de jo 18 ..20 ghante kaam karke bhee gareeb he rahate hai
Jabki moti kamaai khane vaale aram se unko aur SARKAAR ko dhokha de rahe hai
Baat ek do ki nahi baat lakho workers ki hai
Bechare 2 se 3 ghante sone ko mil jaye to naseeb hai
ITANE JADA WORKER HAIN TO KYU NAHI USSE SARKAR APANE HATHO M LETI HAI
sadak pe ek majdoor se jada halat kharaab ker de hai film line ki kuch laalchiyon ne

610
Deepak Wadhwa 1 year 1 week पहले

Repected P.M.Modiji,
Sir, I am a father of an 8 year old convent girl cild. The Draft New Education policy has taken a long period to come to the present status. It has now been put in the public domain for suggestions, etc. till 31/07/2019. Sir, I feel this is too short period & extend it till 30/09/2019, with direction to all schools to discuss with parents in the spirit it is drafted. Particularly the minority institutions i.e. Convent Institutions (schools/Colleges). Thanks.

1790
prabal kamle 1 year 1 week पहले

Honorable prime minister shri narendra modi ji sir want you to discuss on the successfully laughing of misson chandrayan2 sir as you know that we celebrate the 20 anniversary of kargal diwas sir i request you to disuss the contribution of our real heroes and their contribution toward the nation

50780
SHARIF SHAIKH_3 1 year 1 week पहले

प्रधानमंत्री जी, 26/27 जुलाई को आपने देखा होगा कि मुंबई मे वर्षा के कारण जनजीवन प्रभावित हो गया। ये स्थानिक स्वराज्य संस्था यानी बृहन्मुंबई, ठाणे, कल्याण नगर निगमों की विफलता दर्शाती है। सड़कों का काँक्रिटीकरण होना चाहिए लेकिन हर 50 से 100 मीटर पर दो फुट का अंतर हो जहा कि ब्लॉक (गट्टू) लगाने चाहिए जिस के नीचे पानी सीचने के लिए वॉटर हार्वेस्टिंग की रचना जरूरी है। इस प्रकार सड़के बनाई गई तो पानी 25 प्रतिशत भी ज़मीन मे जाए तो निकासी जल्द होगी। और सड़क के दोनो तरफ जहा पानी जमा हो हार्वेस्टिंग करें।

1070
sankalp singh chauhan 1 year 1 week पहले

Sir
Mera sujhaav sarkaaree school ki shiksha p h
Jaha bacche sirf pet bharane jaate hai per dimaag khali he rahata hai
Books ko schoolo m sefe rakhaker ane vale student ko baree baree se di jaye jisse sarkaar ka bojh kam hoga
Schoolo m CP means compitions & promotio ko badhavaa diya jana chahiye na ke khana
Jisse her kisan apane bache ko khilaane m saccham h
Vaise bhee sarkari anaaj ka durupyog karake bacche ganda he khana khate sahbdo ki kamee hai isliye
DHANYAVAAD

2100
Devender kumar yadav 1 year 1 week पहले

Plz keep in mind while making law on mob lynching no one wants to lynching but administrative failure makes them to do so. An attachment is attached here for example. Villagers when are looted at gun point and police did nothing, if they do their duty no one is interested in acts like lynching. Political people only criticises public not the looters .