28 जुलाई, 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात के लिए भेजें अपने सुझाव

आरंभ करने की तिथि :
Jul 15, 2019
अंतिम दिनांक :
Jul 27, 2019
23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर आपसे जुड़े महत्वपूर्ण विषयों ...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर आपसे जुड़े महत्वपूर्ण विषयों पर अपने विचार साझा करेंगे। मन की बात कार्यक्रम के 55 वें संस्करण के लिए प्रधानमंत्री आपसे सुझाव आमंत्रित करते हैं, ताकि इस कार्यक्रम में आपके नूतन सुझावों व प्रगतिशील विचारों को शामिल किया जा सके।

'मन की बात' के आगामी संस्करण में आप जिन विषयों व मुद्दों पर प्रधानमंत्री से चर्चा सुनना चाहते हैं, उससे संबंधित अपने सुझाव व विचार भेजना न भूलें। आप अपने सुझाव इस ओपन फोरम के माध्यम से साझा कर सकते हैं अथवा हमारे टॉल फ्री नंबर 1800-11-7800 डायल करके प्रधानमंत्री के लिए अपना सन्देश हिन्दी अथवा अंग्रेजी में रिकॉर्ड करा सकते हैं। कुछ चुनिंदा संदेशों को 'मन की बात' में भी शामिल किया जा सकता है।

इसके अलावा आप 1922 पर मिस्ड कॉल करके एसएमएस के जरिए प्राप्त लिंक का इस्तेमाल कर सीधे प्रधानमंत्री को भी सुझाव भेज सकते हैं।

28 जुलाई, 2019 को प्रातः 11:00 बजे मन की बात कार्यक्रम सुनना न भूलें।

रीसेट
3841 सबमिशन दिखा रहा है
20610
Prashant Mishra 2 साल 4 महीने पहले

सर मेरा विचार यह है कि आप मन की बात कार्यक्रम में शिक्षा ,पानी और बिजिली के विषय मे चर्चा करें । शिक्षा व्यवस्था में सुधार लाने के लिए हम सबको प्रयास करना होगा ।

1080
Ashish prajapati 2 साल 4 महीने पहले

आदरणीय प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेंद्र मोदी जी नमस्ते। मैं आशीष प्रजापति । गांव सीतलपुर टिकरी ।पोस्ट कमला नगर,। जिला prayagraj। (इलाहाबाद )उत्तर प्रदेश से हूं। श्रीमान जी मेरा आपसे एक सुझाव है जो शिक्षा के क्षेत्र से है। सरकारी कालेजों , स्कूलों और डिग्री कॉलेजों मे शिक्षकों को ज्यादा सैलरी दी जाती है उन्ही के वेतन के पैसों को कुछ कम करके नई शिक्षक भर्ती करना चाहिए और शिक्षको की संख्या उसकी रिक्तियों के अनुसार पूर्ण करके शिक्षा पद्धति में सुधार किया जा सकता है।

650
Govind singh bora 2 साल 4 महीने पहले

महोदय, जो ये मेरे भारत देश का नाम india कर के बोलते हैं,
आप से अनुरोध है कि india न बोल के भारत ही बोला जाय

1800
Dr. Sandeep Singh Munday 2 साल 4 महीने पहले

वर्तमान में कृत्रिम वातावरण वाले स्कूलों का प्रचलन बढ़ रहा है। यहां बच्चों को एसी में रखा जाता है जो कि बहुत ही खतरनाक है। जिन बच्चों को अपना बचपन प्रकृति के आगोश में बिताना चाहिए , वो ऐसा नहीं कर पा रहे हैं । प्रकृति से दूर रहकर उनका शारीरिक विकास भी नहीं हो पा रहा है। यदि बचपन में ही बच्चों को प्राकृतिक वातावरण से दूर रखा जायेगा तो वो बड़े होकर प्रकृति से प्यार न करके उससे खिलवाड़ ही करेंगे। अतः विद्यालयों के कृत्रिम वातावरण पर पूर्णतया पाबन्दी होनी चाहिये।
डॉ. संदीप सिंह
गांव 1सीसी गंगानगर

4900
Baskar Ganesan 2 साल 4 महीने पहले

H'ble PM, following points may be considered for Mann ki Baat
1. Linking of rivers- Floods in some areas and drought in others
2. Recognising startup Soical Workers- encouraging them to go all out
3. Ways to channelising untapped pool of housewifes, recently retired persons
4. Abolishing Caste requirement in schools - Which should lead to eliminating this for the next generation

24900
pradip kumar gupta 2 साल 4 महीने पहले

Honourable PM my suggestion is to engage local people to construct and maintenance of all riverside by using boulders, cement slabs and SAIL steel .It would be a great project to solve unemployment, save land devastation , irrigation and flood due to unavoidable rainfall.

950
Harish Kumar 2 साल 4 महीने पहले

We Have TCS, INFOSYS,WIPRO like remarkable IT Giants, hire Engineers,Graduates etc so called talents.They train them and depute them in Client Environment to provide the various IT services.In the same way, why can't our government hire our formers or establish such corporate former association, why can't our government can depute them in the required agricultural locations to show and use their agricultural skill sets. why can't our government provide salary for them.

660
all over India events bar 2 साल 4 महीने पहले

Dear sir pm modi ji
Sir mai jab bi ghar se bhar jata hu or jab kisi red light par rukta hu tab dekhta hu ki wnha chote chote bachhe bheekh mangte hai jinki age padne likhne ki hai. .... Sir education to sab ka afhikar h to fir un bachho ko unka adhikar kyu nhi mil rha hai... Ji bachho k hath m books honi chye unke hath m bheekh ka katora hai sir plzzz kuch krio un bachho k liye india ane wala future hai wo unko unka adhikar sir aap hi dila skte ho

Thank you sir