28 जुलाई, 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात के लिए भेजें अपने सुझाव

अंतिम दिनांकJul 27,2019 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर आपसे जुड़े महत्वपूर्ण विषयों ...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर आपसे जुड़े महत्वपूर्ण विषयों पर अपने विचार साझा करेंगे। मन की बात कार्यक्रम के 55 वें संस्करण के लिए प्रधानमंत्री आपसे सुझाव आमंत्रित करते हैं, ताकि इस कार्यक्रम में आपके नूतन सुझावों व प्रगतिशील विचारों को शामिल किया जा सके।

'मन की बात' के आगामी संस्करण में आप जिन विषयों व मुद्दों पर प्रधानमंत्री से चर्चा सुनना चाहते हैं, उससे संबंधित अपने सुझाव व विचार भेजना न भूलें। आप अपने सुझाव इस ओपन फोरम के माध्यम से साझा कर सकते हैं अथवा हमारे टॉल फ्री नंबर 1800-11-7800 डायल करके प्रधानमंत्री के लिए अपना सन्देश हिन्दी अथवा अंग्रेजी में रिकॉर्ड करा सकते हैं। कुछ चुनिंदा संदेशों को 'मन की बात' में भी शामिल किया जा सकता है।

इसके अलावा आप 1922 पर मिस्ड कॉल करके एसएमएस के जरिए प्राप्त लिंक का इस्तेमाल कर सीधे प्रधानमंत्री को भी सुझाव भेज सकते हैं।

28 जुलाई, 2019 को प्रातः 11:00 बजे मन की बात कार्यक्रम सुनना न भूलें।

रीसेट
3841 सबमिशन दिखा रहा है
850
Rohit Ranjan 2 साल 2 महीने पहले

माननीय प्रधानमंत्री जी
अभिवादन स्वीकार करें
मैं आपका ध्यान संघ लोकसेवा आयोग द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा में हिंदी भाषी व अन्य क्षेत्रीय भाषाओं के छात्रों की समस्या की ओर आकर्षित करना चाहता हूं जो कि एक सेवानिवृत्त प्रशासनिक अधिकारी तथा स्तंभकार द्वारा लिखित लेख से और भी स्पष्ट हो जाती है।
आपसे सादर अनुरोध है कि एक बार यह लेख ज़रूर पढ़ें व छात्रों को इस समस्या से निजात दिलाएं।
आपका बहुत बहुत आभार।

1330
Madhobendra Bhuyan 2 साल 2 महीने पहले

Jaihind मोदी जी, heartily regards and good wishes.
I felt very happy and positive reading about 2019 election, water conservation. I think collective effort should be started at school, college level as the students are the power source in society, they need to learn to serve the country as practical education.It can create a huge impact at all levels of society to see a change in facing a problem.The school,college,university curriculum can be structured to place students at serving country.

3300
Drishti Sachdeva 2 साल 2 महीने पहले

Dedicated to The Bravehearts:
She wanted to stay with him forever. But the circumstances bought distances between them however. The distance never mattered to them as they were always in each other's hearts. It was when she found out that only her heart was left beating, whereas he had sacrificed himself for the country's safekeeping. She was heartbroken until one day when she decided to safeguard her mother nation her husband left behind in elation.
By: Drishti Sachdeva

7600
rammohanrao chv 2 साल 2 महीने पहले

rural godowns with govt help must establish in rural areas without insisting for bank loans. rural committies should organise the godowns. turmeric board to be established in Telangana state. pensioners of banks getting less pension. insurance to pensioners also very costly. every government implementing development activities through Banks but bank employees getting less income

880
Anshul Goyal 2 साल 2 महीने पहले

Sir, we have holiday on Sunday which is copied from West as they go to church on Sunday and follow their culture. We should also look forward to have holiday on Tuesday or some other day where Indians go to their religious places. As our country is progress, we should take step towards continuing our culture. I know India has many religions and it is difficult to decide the day but we can decide day month wise for each religion.

6490
DIGAMBAR M INGOLE 2 साल 2 महीने पहले

आदरणीय सर,
जय हिंद
26 जुलाई हमारा कारगिल विजय दिवस।
कारगिल विजय दिन को 26 जुलाई 2019 को 20 साल पूरे हो गए।कारगिल विजय दिवस पर मैं सुरक्षा बलों के सभी वीर ओर साहसी सैनिको को नमन करता हू।आप इस बारे में 28 जुलाई को मन की बात में जरूर बोले।ये सभी वीर सैनिक देश के लिए और हमारी सुरक्षा के लिए हमेशा तैयार रहते है।
जय हिंद।
भारत माता की जय
कारगिल ट्रिब्यूट सॉन्ग 2019 जरूर सुने
भारत के वीर सैनिको आपको भूलेगा ना आपका हिंदुस्तान।

880
Anshul Goyal 2 साल 2 महीने पहले

Sir, your government has constructed toilets to keep India clean in villages. However to use those toilets still ladies have to get water from well, river or waterfront. So these toilets are not being used effectively to keep India clean. Govt should take step to provide water at door step so that it can be used effectively. Otherwise in villages these toilets are being used as store rooms. My request is that you put this point in man ki Baat as well as 15aug speech to connect with village