25 अप्रैल 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम के लिए भेजें अपने सुझाव

अंतिम दिनांकApr 22,2021 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर आपसे जुड़े महत्वपूर्ण विषयों ...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर आपसे जुड़े महत्वपूर्ण विषयों पर अपने विचार साझा करेंगे। मन की बात कार्यक्रम के 76 वें संस्करण के लिए प्रधानमंत्री आपसे सुझाव आमंत्रित करते हैं, ताकि इस कार्यक्रम में आपके नूतन सुझावों व प्रगतिशील विचारों को शामिल किया जा सके।

'मन की बात' के आगामी संस्करण में आप जिन विषयों व मुद्दों पर प्रधानमंत्री से चर्चा सुनना चाहते हैं, उससे संबंधित अपने सुझाव व विचार भेजना न भूलें। आप अपने सुझाव इस ओपन फोरम के माध्यम से साझा कर सकते हैं अथवा हमारे टॉल फ्री नंबर 1800-11-7800 डायल करके प्रधानमंत्री के लिए अपना सन्देश हिन्दी अथवा अंग्रेजी में रिकॉर्ड करा सकते हैं। कुछ चुनिंदा संदेशों को 'मन की बात' में भी शामिल किया जा सकता है।

इसके अलावा आप 1922 पर मिस्ड कॉल करके एसएमएस के जरिए प्राप्त लिंक का इस्तेमाल कर सीधे प्रधानमंत्री को भी सुझाव भेज सकते हैं।

25 अप्रैल 2021 को सुबह 11:00 बजे मन की बात कार्यक्रम सुनना न भूलें

रीसेट
4904 सबमिशन दिखा रहा है
2500
Yogesh 6 महीने 6 दिन पहले

Respected Sir,

25 April is Parental Alienation Awareness Day, In this pandemic situation millions of kids are away from their parents due to the matrimonial disputes. innocent children are losing one of their parents and grandparents access
You are requested urgently make a Law so that as soon as matrimonial dispute starts child and both parents have automatic access granted to each other.
Indian Family Values are at stake Today
Jai Hind, Vande Mataram

4120
PRADEEP SHARMA 6 महीने 6 दिन पहले

आदरणीय प्रधानमंत्री जी
कोरोना अपने विकराल रूप में सभी संप्रदायों, शहरों और राज्यों को अपने पाश मैं जकड़ता जा रहा है
दिन-ब-दिन बढ़ते केस नए रिकॉर्ड दर्ज कर रहे हैं
अस्पतालों में बेड नहीं है ऑक्सीजन नहीं है

मैं आपसे अपना एक निजी सुझाव साझा करना चाहता हूं

अस्पतालों में आ रही बेड की कमी को पूरा करने के लिए
हमारे सभी गांव, शहरों मैं सर्व सुविधा युक्त धार्मिक एवं सामुदायिक केंद्र बने हुए हैं
सरकार को आपातकालीन व्यवस्था हेतु उन सभी सामुदायिक केंद्रों को आपातकालीन अस्पताल मे तब्दीली कर देना चाहिए

162960
SHARIF SHAIKH_3 6 महीने 6 दिन पहले

आपका बच्चा और ग्रामसेवक, तहसीलदार, जिलाधिकारी या फिर सरपंच, नगरसेवक, विधायक और और सांसद के बच्चे एक ही सरकारी स्कूल मे शिक्षा प्राप्त करे तो, स्कूल और शिक्षा के स्तर मे सुधार होगा। प्रधानमंत्री जी का स्लोगन "सब का साथ सब का विकास" बात सच होगी। इसी प्रकार स्वास्थ संबन्धी प्राथमिक उपचार भी सरकारी अस्पतालों हम और यह सभी मान्यवर भी करने लगे तो सरकारी अस्पतालों मे भी सुधार होगा। अगर ऐसा कराने की जिम्मेदारी प्रधानमंत्री ले, तो शिक्षा, स्वास्थ्य ही नही हर क्षेत्र मे सुधार होगा।

2220
sam Shiva 6 महीने 6 दिन पहले

Sir mera age 18 + hain meri Maa ko heart ka problem hai unko bahut problem ho raha hai 3 din se main pg hospital jo Kolkata exide ke pas hain usme b bed source ke alava nahi milega
Or private hospital me 4 lac mang rahe hai utna hm de nahi sakte hai... Kya karu Mujko samaj nhi Aa rha hai koi help ho to kijye Sir...
Mujko meri Maa thik chaiye unka taklif dekha nahi ja raha hai mujhse... Plz help me... Contact no 7003945342
Sir.. 3 din se ghum rha hoon ye hospital wo hospital but kahi kuch ni.

2670
parveen 6 महीने 6 दिन पहले

Respected PM sir,

I would like to bring your kind attention to the grave injustice and emotional torture which children of this country are facing due to parental alienation on account of separation of their parents. Due to biased laws on custody of children in matrimonial disputes, tilted in favor of women, children are being deprived of love for m their fathers. It is therefore requested that time has come to consider #sharedparenting as a viable option as recommended by law commission.

2500
Yogesh 6 महीने 6 दिन पहले

Respected Sir,

25 April is Parental Alienation Awareness Day, In this pandemic situation millions of kids are away from their parents due to the matrimonial disputes. innocent children are losing one of their parents and grandparents access
You are requested urgently make a Law so that as soon as matrimonial dispute starts child and both parents have automatic access granted to each other.
Indian Family Values are at stake Today
Jai Hind, Vande Mataram

3790
Aniruddh 6 महीने 6 दिन पहले

Dear PM Modi ji,

Sub: Enact #SharedParentingLawForIndia IMMEDIATELY

Child abuse by separated spouses in troubled marriages/matrimonial Court cases has become a SILENT GLOBAL PANDEMIC. Just like 2 DOSES of vaccine is a MUST for DEFEATING Covid19, similarly CO-PARENTING by BOTH FATHER & MOTHER is a MUST for child's healthy family life.

#SharedParenting is the ideal solution to prevent child abuse and avoid #ParentalAlienation.

Please #AmendGWA1890 & include #SharedParentingLawForIndia

162960
SHARIF SHAIKH_3 6 महीने 6 दिन पहले

शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा देना हर देश की सरकार की जिम्मेदारी है, प्रधानमंत्री का यह दावा की हम ने हर भारतीय को आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत 5 लाख का बीमा दिया है और यह दुनिया की सबसे बड़ी योजना है, कहीं भी मेल नही खाता। क्योंकि इस योजना मे किसी भी तरह से सर्च करने पर अपना या अपने परिचितों का नाम नही पाया। ऐसे मे अगर कोई खुद से मेडीक्लेम लेता है तो फिर सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि मेडीक्लेम पर GST ना लगाए। पहले भी बजेट मे ऐसी मांग या सुझाव दिए है, उम्मीद है अब प्रधानमंत्री गौर करेंगे।