24 अक्टूबर 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम के लिए भेजें अपने सुझाव

Inviting ideas for Mann Ki Baat by Prime Minister Narendra Modi on 24th October 2021
अंतिम दिनांकOct 22,2021 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर आपसे जुड़े महत्वपूर्ण विषयों ...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर आपसे जुड़े महत्वपूर्ण विषयों पर अपने विचार साझा करेंगे। मन की बात कार्यक्रम के 82 वें संस्करण के लिए प्रधानमंत्री आपसे सुझाव आमंत्रित करते हैं, ताकि इस कार्यक्रम में आपके नूतन सुझावों व प्रगतिशील विचारों को शामिल किया जा सके।

'मन की बात' के आगामी संस्करण में आप जिन विषयों व मुद्दों पर प्रधानमंत्री से चर्चा सुनना चाहते हैं, उससे संबंधित अपने सुझाव व विचार भेजना न भूलें। आप अपने सुझाव इस ओपन फोरम के माध्यम से साझा कर सकते हैं अथवा हमारे टॉल फ्री नंबर 1800-11-7800 डायल करके प्रधानमंत्री के लिए अपना सन्देश हिन्दी अथवा अंग्रेजी में रिकॉर्ड करा सकते हैं। कुछ चुनिंदा संदेशों को 'मन की बात' में भी शामिल किया जा सकता है।

इसके अलावा आप 1922 पर मिस्ड कॉल करके एसएमएस के जरिए प्राप्त लिंक का इस्तेमाल कर सीधे प्रधानमंत्री को भी सुझाव भेज सकते हैं।

24 अक्टूबर 2021 को सुबह 11:00 बजे मन की बात कार्यक्रम सुनना न भूलें|

रीसेट
2977 सबमिशन दिखा रहा है
740
Bharti Bhandari 21 मिनट 5 सेकंड पहले

I would like to suggest to respected PM to invite ideas online on selected topics for the development of new India, and telecast a program Janta ki Awaz, on TV for half an hour, in which some of the best ideas and the person will talk. Out of these numerous ideas govt can select best and implement.

0
Randhir Ohri 24 मिनट 33 सेकंड पहले

Respected PM AS a father and with clear faith we had spend our savings on all expenditures of this wedding. To our shock our daughter was tortured physically mentally just from first day she was thrown out of matrimonial home because she refused to fulfill their dowry demands. I urge beti bachu can't be only done by beti padhao.such accused are fearless because of long lasting torturous time it takes to have divorce in india which make condition of a woman miserable .judiciary helpless

0
Sripriya Sreeramagiri 47 मिनट 24 सेकंड पहले

Sir, my aunt Mrs Indubala, retired principal of DTEA Schools, New Delhi wants to put forth these ideas:
1) In recruitment of teachers following tests may be conducted a) Aptitude b) Proficiency c) Attitude towards noble profession
2)Media may be encouraged to find people who are silently contributing towards uplift ment of villages and cover success stories like farming, cottage industry etc.
3) Indigenous research in various fields should be encouraged and free from red tapism n babu culture

840
suresh rajpurohit 50 मिनट 41 सेकंड पहले

आदरणीय श्रीमान प्रधान मंत्री जी प्रणाम ।
गाँवो का जीवन स्तर उच्च उठाने के लिये कुछ ऐसा किया जाये । जिससे कि हर वर्ग रोजगार से जुड़े व ज्यादातर समय व्यस्ततम रह सके । लोगो को रोजगार के द्वारा आत्म निर्भर बनाने के लिये रणनीति बने। गाँवो के विकास व संस्कृति को बनाये रखने के लिये एक आधार भूत रचनात्मक कार्य शुरू हो जो रोजगार से जुड़े हो ।

450
Narayanan Surendran 54 मिनट 38 सेकंड पहले

Respected Prime Minister Shri. Narendra Modi Ji,
Power shortage in India could be minimized as below.
Approved leakage per home in India as per BIS is 30 mA.
It is equivalent to 155 Wh per day.
187 Million homes are electrified in India.
Total applicable Energy loss in India per year is 10616.868 Million Units/Year.
If we reduce the maximum leakage limit in each load circuit to 10 mA,
India could save 7076.578 Million Units/Year.
Lost energy is paid by metered consumer and Gov not ask.

0
Krishnkumar Ahirwer 1 घंटा 20 मिनट पहले

sir me kashiram ahirwar Garm pamakhedi jeela sagar M.P. ka rahne bala hu jo puri umar jhopdi me rah kar gujara karte h agar keshi se madad mago to mana kar dete hor mera Avash yojena mein name tha jo abhi hata diya geya hkisi se bolo to bolte h pesha h khya tab kam karte h aap se nivedan karta hu ki mera avaas yojena mein name jod do sir

1120
Tanay 1 घंटा 29 मिनट पहले

प्रधान जी प्रणाम में Tanay Joshi Bhopal
यह विषय इस दीपावली से पहले जरूर आपको भारत के लोगो को बोलना चाहिए
क्यो ना इस दीपावली कुछ खास-अलग करे
हम इसबार के दीपोत्सव पर अपने घर के बड़ो से अपनी क्षेत्र की संस्कृति, सभ्यता दीपोत्सव त्यौहार का महत्व एवँ परमपराओ को जानेंगे ओर सोशल मीडिय के माध्यम से सम्पूर्ण राष्ट्र को बताएंगे

त्यौहार मनाते पर क्यो नही पता
जिससे सब लोग सभी जगह की संस्कृति को जाने
https://twitter.com/TanayRssSanghi/status/1450058461773918211?t=4KEDWImCRd2S3i9rETQM5g&s=19

5350
Divyesh 1 घंटा 29 मिनट पहले

जैसे पीपीई किट, मास्क, इंजेक्शन, ब्लडबैग, IVR आदि मेडिकल प्लास्टिक डिस्पोजल को उचित प्रक्रिया और कानून के साथ प्रबंधित किया जाता है, वैसे प्लास्टिक डिस्पोजेबल क्रॉकरी के लिए भी संभव है
प्लास्टिक डिस्पोजेबल MSME कचरे को इकट्ठा और अलग करने के लिए पहलेसे ही सरकार द्वारा सूचित EPR लागु कर रहे है
सर, आप से निवेदन है की प्लास्टिक डिस्पोजेबल क्रौकरी जो काफी उपयोगी है, उसके लिए कानूनन मंजूरी दी जाए
इससे ना केवल इन्फेक्शन रोकेंगे, बल्कि साथ ही इकॉनमी, रोज़गार कोभी बढ़ावा मिलेगा