हमारे पारंपरिक ज्ञान और पद्धति के विषय में समाज में विश्वास पैदा करने के लिए अपने विचार साझा करें

Share inputs to instil confidence in society about our traditional knowledge and practices
आरंभ करने की तिथि :
Mar 03, 2022
अंतिम तिथि :
Aug 31, 2022
23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)

भारत में जीवन के विभिन्न पहलुओं से जुड़ी प्रथाओं/पद्धतियों और ज्ञान ...

भारत में जीवन के विभिन्न पहलुओं से जुड़ी प्रथाओं/पद्धतियों और ज्ञान के साथ-साथ विज्ञान और प्रौद्योगिकी (एस एंड टी) के विभिन्न क्षेत्रों से जुड़ी एक समृद्ध वैज्ञानिक विरासत है। भारत का पारंपरिक ज्ञान विभिन्न रूपों में उपलब्ध है जैसे कि शास्त्रीय ग्रंथ, पांडुलिपियां और/या मौखिक संचार के रूप में जो कि हजारों वर्षों से चला आ रहा है। यह बहुमूल्य ज्ञान अक्सर हमारे दैनिक क्रिया-कलापों का भी हिस्सा है। कुछ पारंपरिक पद्धतियों से संबंधित ज्ञान धारकों की आजीविका के साधन हैं। हमारी पारंपरिक पद्धतियां मनुष्य की आवश्यकताओं और प्रकृति के बीच तालमेल बनाये हैं जो कि अक्सर स्थानीय संदर्भ में मनुष्य के संसाधनों और आवश्यकताओं में संतुलन बनाये रखती हैं। हालाँकि, समय के साथ, भारत की पारंपरिक ज्ञान प्रणालियाँ तेजी से नष्ट हो रही हैं, और हमारा राष्ट्र हमारे पारंपरिक ज्ञान के प्रति लोगों के विश्वास में गिरावट भी देख रहा है। गैर-भारतीय संस्कृतियों की नकल करने और हमारी परंपराओं का तिरस्कार करने के लिए कुछ लोगों का नासमझ रवैया एक गंभीर चिंता का विषय है। यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि पारंपरिक विरासत किसी भी देश के विकास और प्रगति का एक अभिन्न अंग है। यह आवश्यक है कि देश में हमारी वैज्ञानिक विरासत की एक मजबूत आधारशिला बनाने हेतु संबंधित हितधारक आगे आयें। एक जागरूक और संतुलित समाज ही देश को आगे बढ़ा सकता है।

हमारे माननीय प्रधान मंत्री और सीएसआईआर सोसाइटी के अध्यक्ष, श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में, वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) देश भर से पारंपरिक ज्ञान संबंधित भागीदारों के साथ सहयोग करने और इस राष्ट्रीय पहल को लागू करने के प्रयासों का नेतृत्व कर रहा है। भारत के पारंपरिक ज्ञान को समाज तक पहुँचाने के लिए सीएसआईआर-राष्ट्रीय विज्ञान संचार एवं नीति अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर-निस्पर) इस राष्ट्रीय पहल “स्वस्तिक-वैज्ञानिक रूप से मान्य सामाजिक पारंपरिक ज्ञान” को लागू करने वाला नोडल संस्थान है।

इस पहल का मुख्य उद्देश्य वैज्ञानिक रूप से मान्य पारंपरिक पद्धति/कार्यप्रणाली का संरक्षण करना और साथ ही हमारे पारंपरिक ज्ञान/पद्धति के वैज्ञानिक मूल्यों के बारे में समाज में विश्वास पैदा करना है

हम अपने पारंपरिक ज्ञान और पद्धतियों के विषय में समाज में विश्वास कैसे पैदा करें, इस पर शिक्षाविदों, शोधकर्ताओं, विषय-विशेषज्ञों, छात्रों, गैर-सरकारी संगठनों और जनता के सुझावों को हम आमंत्रित करते हैं। यह हमारे पारंपरिक ज्ञान और पद्धतियों के प्रति विज्ञान-वैज्ञानिक-समाज के जुड़ाव को प्रोत्साहित करके वैज्ञानिक सोच विकसित करने और समाज में विश्वास पैदा करने के हमारे उद्देश्य को पूरा करने में हमारी मदद करेगा।

सीएसआईआर-निस्पर की स्वस्तिक पहल के विषय में अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।यहां क्लिक करें। (PDF 1519 KB)

या इस वेबसाइट पर जाएं -https://niscpr.res.in/nationalmission/svastik

आप अपने पारम्परिक ज्ञान तथा कार्य कार्यप्रणाली के बारे कितना जानते हैं? MyGov प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में भाग लें और भारत के पारम्परिक ज्ञान के बारे में अपने ज्ञान को परखें। Quiz Link: https://quiz.mygov.in/quiz/quiz-on-indian-traditional-knowledge/

अपने विचार और सुझाव साझा करने की अंतिम तिथि: 31 अगस्त 2022

रीसेट
1772 सबमिशन दिखा रहा है
73700
Varun 1 day 1 घंटा पहले

Reality about our solar system also about other stars&planet..

1)our solar system contains more planets ,,example our 9 planets are in "Group A"

2)These 9 planets are inside in the EMF bubble of the mother star

3)And EMF bubble circulating faster than light around the star,,,planets inside the bubble also circulating in different speed (low or higher than EMF bubble )

4)so X planet group are real,,it maybe there other side of the star but unable to see it,,due to faster circulation around the star

5)this is my idea only not sure,,,i got this idea while meditating....Thank you varun

27760
Keerivalappil Achuthan Subhas 1 day 1 घंटा पहले

The present & future generations must learn to understand & imbibe the rich, proven & well established traditions, traditional knowledge & practices. There is a tendency amongst the highly educated people to look down on our traditional knowledge and practices as superstitions, irrational and irrelevant. Also equally of concern is the propensity of adults to believe in atheism, logic & self-esteem, bordering on selfishness. We must teach our children to take pride in our traditions, traditional systems and practices alongside the western educational systems.

2720
Mehul Patel 1 day 2 घंटे पहले

IDEA TO PROMOTE SANSKRIT LANGUAGE IN VERY SUBTLE MANNER:

A step towards promoting Sanskrit language is to write Sanskrit version of all major signboard s. This includes all Government sign boards, public sign boards, Descriptions written in Historical places, etc.... Today, these signboards are either in English or Hindi or Both. Government should make it mandatory to provide Sanskrit version of all these signboards along with English and Hindi. This way, people will start learning common words and it will become easier for them to understand a few words in Sanskrit. This will be slow but it will make big difference in the long run.

This may be a first step to make Sanskrit as National language if that is desired.

94250
Ajay Kumar 1 day 2 घंटे पहले

Respected Sir,
Use and creation of awareness about tradtional methods to control insect pests in agricultural crops is the prime need at present to conserve and sustain our environment and ecosystem. Dusting/use of fuel wood ash on vegetable crops avoid damage to crops from insect pests by providing less congenial surface for chewing and egg laying, use of Farm Yard Mannure imstead of synthetic fertilizers, Hoeing and weeding manually expose the soil born insect pest stages to sun light and lead to their death, Use of Neem seeds and leaves extract as insect pest repellent, use of tradtional ploughing help in less distrubance to soil properties. These tradtional methods must be conserved and given utmost importance to conserve our ecosystem. Let us save our earth.
Regards to all.

2720
Mehul Patel 1 day 2 घंटे पहले

IDEA TO UNITE CULTURE

PROBLEM I SEE: Some Indians are not considered Indians for example, people from North East do not get proper recognition as Indians in many parts of the country. Same is true for other states.

SOLUTION APPROACH: A way to Mix cultures. Example: International Airport in Ahmedabad of Gujarat is named "Sardar Vallabhbhai Patel International Airport", but everyone knows Sardar Patel in Gujarat. It would be much better if an Airport in Gujarat is named as " Shahid Kanaklata Barua International Airport" where "Kanaklata Barua" is freedom fighter from Assam. While Assam's Airport can be named after "Zawerchand Meghani" & Hyderabad Airport is named after "Guru Govind Singh". Similarly, every state government should be given the responsibility to declare one state holiday based on an important event/festival of another state. This way people will feel more United than before.

42650
SHANMUGATHAI M 1 day 4 घंटे पहले

India, our esteemed nation is known for culture and heritage. It is our responsibility to protect and preserve our pristine culture. Passing on the rich and ethnic practices is everyone's duty too. Spreading human values and following inherently shall be the norm. Our country is the only nation which considers heritage and science together. At any point of time and for any reason, we shall not forget it. Jai Hind

22190
Ravi S ravindran 1 day 6 घंटे पहले

Einstein's Relativinty Theory starts with prescription of speed of light as limiting speed and works out everything is relative to that.
Quantum Mechanics says an object comes into being only when its position is measured, surprisingly
Science now also admits there's something beyond maximally visible universe
Only Indian Traditional Knowledge Systems like Vaishnavism starts with defining with macro concept that Krishna is the essence of material things and anything not connected to Him is not what it appears to be.It defines Jivatma,part and parcel of Krishna, has the intelligence and freewill to decide how to connect the object seen with Krishna and is a minute fragment of Him.
Clearly there is scope to build a new science with appropriate language to solve. Unsolved problems in science which is generally micofocussed