हमारे पारंपरिक ज्ञान और पद्धति के विषय में समाज में विश्वास पैदा करने के लिए अपने विचार साझा करें

Share inputs to instil confidence in society about our traditional knowledge and practices
आरंभ करने की तिथि :
Mar 03, 2022
अंतिम तिथि :
Jul 31, 2022
23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)

भारत में जीवन के विभिन्न पहलुओं से जुड़ी प्रथाओं/पद्धतियों और ज्ञान ...

भारत में जीवन के विभिन्न पहलुओं से जुड़ी प्रथाओं/पद्धतियों और ज्ञान के साथ-साथ विज्ञान और प्रौद्योगिकी (एस एंड टी) के विभिन्न क्षेत्रों से जुड़ी एक समृद्ध वैज्ञानिक विरासत है। भारत का पारंपरिक ज्ञान विभिन्न रूपों में उपलब्ध है जैसे कि शास्त्रीय ग्रंथ, पांडुलिपियां और/या मौखिक संचार के रूप में जो कि हजारों वर्षों से चला आ रहा है। यह बहुमूल्य ज्ञान अक्सर हमारे दैनिक क्रिया-कलापों का भी हिस्सा है। कुछ पारंपरिक पद्धतियों से संबंधित ज्ञान धारकों की आजीविका के साधन हैं। हमारी पारंपरिक पद्धतियां मनुष्य की आवश्यकताओं और प्रकृति के बीच तालमेल बनाये हैं जो कि अक्सर स्थानीय संदर्भ में मनुष्य के संसाधनों और आवश्यकताओं में संतुलन बनाये रखती हैं। हालाँकि, समय के साथ, भारत की पारंपरिक ज्ञान प्रणालियाँ तेजी से नष्ट हो रही हैं, और हमारा राष्ट्र हमारे पारंपरिक ज्ञान के प्रति लोगों के विश्वास में गिरावट भी देख रहा है। गैर-भारतीय संस्कृतियों की नकल करने और हमारी परंपराओं का तिरस्कार करने के लिए कुछ लोगों का नासमझ रवैया एक गंभीर चिंता का विषय है। यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि पारंपरिक विरासत किसी भी देश के विकास और प्रगति का एक अभिन्न अंग है। यह आवश्यक है कि देश में हमारी वैज्ञानिक विरासत की एक मजबूत आधारशिला बनाने हेतु संबंधित हितधारक आगे आयें। एक जागरूक और संतुलित समाज ही देश को आगे बढ़ा सकता है।

हमारे माननीय प्रधान मंत्री और सीएसआईआर सोसाइटी के अध्यक्ष, श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में, वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) देश भर से पारंपरिक ज्ञान संबंधित भागीदारों के साथ सहयोग करने और इस राष्ट्रीय पहल को लागू करने के प्रयासों का नेतृत्व कर रहा है। भारत के पारंपरिक ज्ञान को समाज तक पहुँचाने के लिए सीएसआईआर-राष्ट्रीय विज्ञान संचार एवं नीति अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर-निस्पर) इस राष्ट्रीय पहल “स्वस्तिक-वैज्ञानिक रूप से मान्य सामाजिक पारंपरिक ज्ञान” को लागू करने वाला नोडल संस्थान है।

इस पहल का मुख्य उद्देश्य वैज्ञानिक रूप से मान्य पारंपरिक पद्धति/कार्यप्रणाली का संरक्षण करना और साथ ही हमारे पारंपरिक ज्ञान/पद्धति के वैज्ञानिक मूल्यों के बारे में समाज में विश्वास पैदा करना है

हम अपने पारंपरिक ज्ञान और पद्धतियों के विषय में समाज में विश्वास कैसे पैदा करें, इस पर शिक्षाविदों, शोधकर्ताओं, विषय-विशेषज्ञों, छात्रों, गैर-सरकारी संगठनों और जनता के सुझावों को हम आमंत्रित करते हैं। यह हमारे पारंपरिक ज्ञान और पद्धतियों के प्रति विज्ञान-वैज्ञानिक-समाज के जुड़ाव को प्रोत्साहित करके वैज्ञानिक सोच विकसित करने और समाज में विश्वास पैदा करने के हमारे उद्देश्य को पूरा करने में हमारी मदद करेगा।

सीएसआईआर-निस्पर की स्वस्तिक पहल के विषय में अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।यहां क्लिक करें। (PDF 1519 KB)

या इस वेबसाइट पर जाएं -https://niscpr.res.in/nationalmission/svastik

आप अपने पारम्परिक ज्ञान तथा कार्य कार्यप्रणाली के बारे कितना जानते हैं? MyGov प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में भाग लें और भारत के पारम्परिक ज्ञान के बारे में अपने ज्ञान को परखें। Quiz Link: https://quiz.mygov.in/quiz/quiz-on-indian-traditional-knowledge/

अपने विचार और सुझाव साझा करने की अंतिम तिथि: 31 जुलाई 2022

रीसेट
1272 सबमिशन दिखा रहा है
216440
GARAIYA AKSHAY 58 मिनट 13 सेकंड पहले

Indian culture is the heritage of social norms, ethical values, traditional customs, belief systems, political systems, artifacts and technologies that originated in or are associated with the ethno-linguistically diverse Republic of India. The term also applies beyond India to countries and cultures whose histories are strongly connected to India by immigration, colonisation, or influence, particularly in South Asia and Southeast Asia. India's languages, religions, dance, music, architecture, food and customs differ from place to place within the country.

1102460
Neeta atmaram gajeshwar 14 घंटे 33 मिनट पहले

Our traditional knowledge in india is very rich In ancient days no digital books People on writing and making script on stone in different languages like brahmi Pali Sanskrit persian to know next generation and it was on stone for many years also using palm tree to write and study and making books Also bhojpatra is used to write.India has very rich spiritual background can see in temples with stone also on metal Very beautiful gods their stories we can see in many parts of india In vadnagar (gujrath)in Shiva temple very beautiful stone of gods we can see our traditional changes as time passes through years after stone metal work,people writing with boru and tak ,in mutual period message was given by farman written with ink or gold very rich heritage after British period postcard comes stamps come with Victoria queen ,telegraph was way of messagingDifferent types of copper bronze brass vessel were in india with beautiful design all make by different workman

61320
Kathiravan S 1 day 13 घंटे पहले

Going to temple is one way of keeping our mind in silent mode.
Nowadays thus has also become business.
In tamilnadu usually people after taking bath they will place thiruneer on their forehead.
This is because thuruneer will absorb water or moisture content.
So we will be free from cold or headache.
Like thus so many small practices are there.
I will list out in next comments

4930
AlbinJose 1 day 17 घंटे पहले

Whatever the reason for the abandonment of the cities, the period that followed the decline of the Indus Valley Civilization is known as the Vedic Period, characterized by a pastoral lifestyle and adherence to the religious texts known as The Vedas. Society became divided into four classes (the Varnas) popularly known as `the caste system' which were comprised of the Brahmana at the top (priests and scholars), the Kshatriya next (the warriors), the Vaishya (farmers and merchants), and the Shudra (laborers). The lowest caste was the Dalits, the untouchables, who handled meat and waste, though there is some debate over whether this class existed in antiquity.
At first, it seems this caste system was merely a reflection of one's occupation but, in time, it became more rigidly interpreted to be determined by one's birth and one was not allowed to change castes nor to marry into a caste other than one's own. This understanding was a reflection of the belief in an eternal order to human :)