स्थानीय दूरसंचार उपकरण मैन्युफैक्चरिंग( विनिर्माण) को बढ़ावा देने को लेकर ट्राई परामर्श पत्र पर सुझाव आमंत्रित करता है

Last Date Nov 28,2017 00:00 AM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

ट्राई ने 28 दिसंबर, 2010 को "भारत में टेलीकॉम मैन्युफैक्चरिंग" को ...

ट्राई ने 28 दिसंबर, 2010 को "भारत में टेलीकॉम मैन्युफैक्चरिंग" को प्रोत्साहन देने को लेकर एक परामर्श पत्र तैयार किया था । "टेलीकॉम उपकरण विनिर्माण नीति" की सिफारिशों को 12 अप्रैल, 2011 को प्रकाशित किया गया था। पिछले पांच वर्षों में तकनीकी और टेलीकॉम सेक्टर में घातीय वृद्धि हुई है ..लिहाजा "दूरसंचार क्षेत्र में स्थानीय विनिर्माण को बढ़ावा देना" का मुद्दा फिर से महसूस होने लगी। यही वजह है कि प्राधिकरणम ने स्वंय आगे बढते हुए ( सो मोटो ) "स्थानीय दूरसंचार उपकरण विनिर्माण को बढ़ावा देने पर परामर्श पत्र जारी करने का निर्णय लिया है । वर्तमान परामर्श पत्र का उद्देश्य तैयार किए गए उपकरण निर्माण में भारत की वास्तविक क्षमता का आकलन करना है । साथ ही इसका मकसद ये भी है कि हम भारतीय दूरसंचार उद्योग को आयात-निर्भर उद्योग से हटाकर मैन्युफैक्चरिंग( विनिर्माण ) के लिए एक वैश्विक हब के रूप में स्थानांतरित कर सकें।

निम्नलिखित उद्देश्यों के साथ ये परामर्श पत्र जारी किया गया है: -

(क) भारत में स्थानीय दूरसंचार विनिर्माण की नवीनता और उत्पादकता को बढ़ाने के लिए आवश्यक नीति उपायों की पहचान करना
(ख) स्थानीय निर्माताओं को बढ़ावा देने के संदर्भ में मौजूदा पेटेंट कानूनों की जांच करना
(ग) दूरसंचार उपकरणों के मानकीकरण, प्रमाणन और परीक्षण के मुद्दों की जांच करना और स्थानीय दूरसंचार उपकरण विनिर्माण का समर्थन करने के लिए एक ढांचा का सुझाव देना।
(घ) स्थानीय दूरसंचार उपकरण विनिर्माण उद्योग को प्रभावित करने वाले आईपीआर से संबंधित मुद्दों की जांच करना।
(ड) स्थानीय दूरसंचार विनिर्माण को बढ़ावा देने और भविष्य में कार्यान्वयन के लिए उपाय सुझाए जाने के लिए मौजूदा वित्तीय प्रोत्साहनों की जांच करना।
(च) भारत में प्रतिष्ठान स्थापित करने के लिए विदेशी निवेशको को आकर्षित करने के लिए किए जाने वाले उपायों की पहचान करना।

परामर्श का पूरा पाठ यहां देखा जा सकता है।.

सुझाव प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 27 नवम्बर, 2017 है।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
31 सबमिशन दिखा रहा है
16620
Tanmoy Kumar Bharati 1 year 12 महीने पहले

Dear Seepika beta,This film is dead .Now your Danshali uncle is film ka 'Shraddh' korenga. Tum us 'Shraddh'me jarur samil hona. Or ek Bat hai. Modi uncle per Gussha nehi kerta.Modi uncle pura dunia ko chala raha hei. Modi uncle ke Gussha se , Tom cruize uncle vhi tume nehi bacha nehi sakte. Good bye. Love you beta

16620
Tanmoy Kumar Bharati 1 year 12 महीने पहले

1) Rani Padmini is an symbol of 'Jahwar' of all rajput ranis. 2) From the age of six I heard about Rani padmini & Maha rana prapap.Every thing is not a matter of politics but at the same time its also good for politics.3)Seepika is a convent educated 'Nadan Bacchi'.No idea about Indian culture & sentiment. If government want from mind and heart , then they can ban this film.

300
Somil Makadia 2 साल 1 day पहले

sir. 10 year se pehle aapne dekha hoga ke BSNL ki landline se connection bahot sare dharo me the. par aaj mobile aa jane par landline sirf 1% ke aaspass reh gaye he. unme jadatar goverment ka he. inka ek karan landline ka call or net ka daam jyada he. mobile par ham jaha ho vaha call or net use kar sakte ho... meri ray se BSNL ka rate kam kardo .. par month bsnl home plane me par month call 7:00PM to 9:OO Am or net unlimited ka plan RS.200/- with tex ho to jaise 10 year jaisi mang hogi.

300
Pawan K. Jindal 2 साल 1 week पहले

When Deptt.of Telecom is absorbed in BSNL,why the DOT under the MOS(IC) is the decision making authority.CMD BSNL should be all in all.For every decision,CMD is bound to follow DOT decision.Thus the Private Telecom Sector under the Govt.(DOT) is unable to promote the services in this scenario of competition.CMD BSNL should have been given full support by the Govt.to implement his decisions to promote the Telecom services.There was a time when BSNL was the INDIA's No.1 service provider Co.