सतत ‘विद्युत और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों’ पर अभिनव विचार साझा करें

Share innovative ideas on sustainable EEE (Electrical and Electronic Equipment) Products
आरंभ करने की तिथि :
Feb 01, 2022
अंतिम तिथि :
Feb 15, 2022
23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

सतत ‘विद्युत और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों’ पर अभिनव विचार साझा करें ...

सतत ‘विद्युत और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों’ पर अभिनव विचार साझा करें

विद्युत एवं इलेक्ट्रॉनिक उपकरण (ई.ई.ई) और सामग्री, सतत विकास के लिए सबसे बड़ी बाधा एवं चुनौती बनी हुई है। ई.ई.ई साम्रगी अत्यधिक जटिल अपशिष्ट उत्पादन, ऊर्जा-गहन निर्माण, उपयोग और अपशिष्ट प्रसंस्करण के लिए भारी मात्रा में जिम्मेदार होते है।

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, देशवासियों से ई.ई.ई उत्पाद और सामग्रियों को अत्यधिक टिकाऊ बनाने के लिए आपके विचार और सुझाव आमंत्रित करता है। हम आपके सुझावों को महत्व देते हैं जो कि इलेक्ट्रिकल एवं इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों में स्थायित्व लाने की दिशा में प्रयासों को प्रोत्साहित करने और जागरूकता बढ़ाने में सहायक साबित होंगे।

मंत्रालय द्वारा देशभर से आई हुई सर्वश्रेष्ठ प्रविष्टियों की पहचान की जाएगी और उन्हें माईगव पेज पर प्रदर्शित किया जाएगा।

सुझाव प्राप्त करने की अंतिम तिथि 15 फरवरी 2022 है।

रीसेट
361 सबमिशन दिखा रहा है
64690
Jyotirmayee Nag 6 महीने 5 दिन पहले

Zero waste is a set of principles focused on waste prevention that encourages the redesign of resource life cycles so that all products are reused. The goal is for no trash to be sent to landfills, incinerators or the ocean. Currently, only 9% of plastic is actually recycled. In a zero waste system, material will be reused until the optimum level of consumption.
Zero Waste: The conservation of all resources by means of responsible production, consumption, reuse and recovery of all products, packaging, and materials, without burning them, and without discharges to land, water or air that threaten the environment or human health.

59160
HarshRaj 6 महीने 5 दिन पहले

श्रीमान नमस्कार
दीपावली,शादी,पूजा,या जन्मदिन घर लाईट बल्बों से सजाते है चाइना की बहुत घटिया किस्म का,लोग अपने घरों मे 4/5 दिन लगाते है कई बार यूज़ होने से पहले खराब मिलती है उसे सीधा कूड़ेदान मे दूसरे कूड़े के ढेर में मिलने के कारण रीसाइक्लिंग करने मे मुश्किल,कई बार हो नही पाती, दीपावली मे करोडों लोग बल्ब वायर से इतना ई कचरा बनाकर हम अनपढ़ देश की मिसाल बनते है सरकार इसे गम्भीरता से ले और हमे भी आगे आकर इलेक्ट्रानिक कचरा ना बने समझाना होगा,घर के त्योहारों को फूलों से सजाकर भारत के पैसे बचाना,दुनिया के सामने मिसाल कायम करेंगे शपथ लेते है आज और

59160
HarshRaj 6 महीने 5 दिन पहले

Create a smart dustbin having weight machine fixed at bottom of that dustbin-----> Open an App created for this purpose and scan barcode available on face of dustbin------>Based on weight of wastage, convert weight into points----->redeem points earned and utilize same against payment to business houses like Swiggy, Zomato,Ola, Uber etc.----->As Business houses are getting business from Govt, Govt can charge a nominal service charges from business houses.

59160
HarshRaj 6 महीने 5 दिन पहले

With this idea, we can teach to world on how to make business even with a wastage”.

It will take just 2 to 3 minutes read my proposal. Idea is to create smart dustbins across the country. Due to character limitation, I have attached a detailed plan for this proposal.

Summary of my plan

Create a smart dustbin having weight machine fixed at bottom of that dustbin-----> Open an App created for this purpose and scan barcode available on face of dustbin------>Based on weight of wastage, convert weight into points----->redeem points earned and utilize same against payment to business houses like Swiggy, Zomato,Ola, Uber etc.----->As Business houses are getting business from Govt, Govt can charge a nominal service charges from business houses.

37470
Tarak Biswas 6 महीने 6 दिन पहले

श्रीमान नमस्कार
दीपावली,शादी,पूजा,या जन्मदिन घर लाईट बल्बों से सजाते है चाइना की बहुत घटिया किस्म का,लोग अपने घरों मे 4/5 दिन लगाते है कई बार यूज़ होने से पहले खराब मिलती है उसे सीधा कूड़ेदान मे दूसरे कूड़े के ढेर में मिलने के कारण रीसाइक्लिंग करने मे मुश्किल,कई बार हो नही पाती, दीपावली मे करोडों लोग बल्ब वायर से इतना ई कचरा बनाकर हम अनपढ़ देश की मिसाल बनते है सरकार इसे गम्भीरता से ले और हमे भी आगे आकर इलेक्ट्रानिक कचरा ना बने समझाना होगा,घर के त्योहारों को फूलों से सजाकर भारत के पैसे बचाना,दुनिया के सामने मिसाल कायम करेंगे शपथ लेते है आज और अभी