संघ प्रदेश दादरा एवं नगर हवेली में राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम पर अपने विचार साझा करें

Share your views on Rashtriya Bal Swasthya Karyakram in the UT of Dadra and Nagar Haveli
Last Date Mar 31,2016 18:00 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम बच्चे के अस्थित्व और जीवन की ...

राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम बच्चे के अस्थित्व और जीवन की गुणवता में सुधार करके के लिए एक पहल है|

स्वास्त जाँच में मुख्य रूप से ४-डी शामिल है| जन्म के समय दोष, कमिया, रोग, विकास में देरी और विकलांगता, RBSK के तीन घटक होते है|

1. जन्म के समय स्वास्त जाँच |
2. ६ सप्ताह से ६ साल आंगनवाडी के माध्यम से |
3. ६ साल से १८ साल स्कूल में |

प्रारंभिक चरण में बच्चो की सक्रीय एव समर्पित स्क्रीनिंग के माध्यम से निच्छित रिप से बच्चे के जीवन की गुणवक्ता में सुधार लाने में मदद मिलेगी और सामान्य जीवन चक्र से किसी भी विचलन के लिए सुधार संभव हो जायेगा|

गतिविधिया शामिल :-

1. पूर्ण स्वास्थ की जाँच
2. विभिन्न मुद्दो पर स्वास्थ शिक्षा
3. राष्ट्रीय कार्यक्रम पर शिक्षा प्रदान करना जैसे NLEP, NVBDCP,RNTCP

क्या आप मानते बच्चे की स्क्रीनिंग प्रारंभिक चरण में करने से लम्बे समय में जीवन में सुधार होगा?

कई माता पिता के पास समय नहीं होता और वह अपने बच्चो और उनके स्वास्थ की उपेक्षा करते है| उन्हें आभास ही नहीं होता की यह उनको एक विपदा की तरफ प्रसार कर सकता है जीवन के बाद के चरण में क्या आपने कभी सोचा है की उन्हें कितना दर्द महसूस होगा जब उनका खुद का बच्चा अलगाव के दौर, डिप्रेशन विकृति के कारण,

उदाहरण:- फांक होठ – जो बच्चे में सबसे आम जन्म दोष है| इस सुधार के लिए सबसे अच्छा तब है जब बछा १०-१२ हफ्ते का हो जाये|

क्या आपको लगता है की स्कूल एव आंगनवाडी में स्वास्थ शिक्षा देना एक जरिया है कई अच्छी प्रथायो प्रतन करने का?

हम सभी जानते है नारे के बारे में “अभ्यास एक आदमी को परिपूर्ण बनता है“ फिर भी हमें लगता है की हम किसी भी स्वास्थ शिक्षा कार्यक्रम में अभ्यास सुनने एव भाग लेने में अपना वक्त बर्बाद कर रहे है|

क्या आपने कभी सरल स्वास्थ शिक्षायो का विश्लेषण किया है| शिक्षा बहुत पैसे कमा सकती है| जो अन्यथा आपके दर्द के इलाज के लिए जायेगा|
उदाहरण :- उचित हाथ धोने की तकनीक का अभ्यास नहीं करना दस्त का कारण बनता है|

आप अपनी टिप्पणियां 31 मार्च 2016 को शाम 6:00 बजे तक भेज सकते हैं।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
108 सबमिशन दिखा रहा है
300
Dean Pereira 4 साल 3 महीने पहले

SUGGESTION for Women Empowerment: To help Women tackle Rape/Molestation, Central Government has to make compulsory Karate/Kick Boxing classes for all women attending school/college from Secondary to Higher Secondary 12th Board Exam. There should also be University/Board exam to check the quality of their training. This subject/class can be called "Self Protection"/Aatm Suraksha.

400
SANDEEP KUMAR TRIPATHI 4 साल 3 महीने पहले

jo bhi hospitals ya doosari swaasthya samabandhi sansthaaye hai. unhe thik karne ki jaroorat hai log chhoti chhoti bimaariyo ke liye bare hospitals me jaate hai jabki bahut si dispensari sooni pari hai. hospitals me bhrashtachaar hone ke kaaran marij thora aaram milane par ilaaz ko beech me hi chhor deta hai. hospitals ka jo private labs ya hospitals ke saath contract waha bahut bare star par bhrashtaachaar hota hai jisase sarkaar ko nuksaan hota hai aur janta ka shoshan hota hai.vandemaatram.

500
Mohamed Arif Pasha 4 साल 3 महीने पहले

I have seen in countries like UK and US where Doctors have to undergo a constant evaluation every alternative year which will cover latest in their field. This will make doctors to know what is new in the field. This system need to be implemented in our country also .This will improve the quality of the doctor and avoid fake doctors. If some doctor doesn’t get through the evaluation they need to go through training and reappear .

500
geetha_9 4 साल 3 महीने पहले

Sir, today's healthy children future healthy citizens of India but, contaminated food supply make them weak. We feed chemical food by everywhere please call all the people who responsible for poisonous food to our younger generation. Farmers are growing with love and dedication but the whole society suffering from so many health problem by birth. So please " SWACCHA KHANA SWASTHAYA AAROGYA " 1 slogan for whole India How can we prevent & save our Nation Sir.

400
DR AJAY KUMAR PANDA 4 साल 3 महीने पहले

RBSK must be implemented with supply of allopathic along with AYUSH System of medicines by which people will be benifieted.Secondly AYUSH DOCTORS must get equal status with allopathic doctors throughout India by which they will be more energetic & enthusiastic to give more services to the public.Dr.Ajay Kumar Panda,M.D.Homoeopathy.

15960
Rituraj Srivastava 4 साल 3 महीने पहले

SIR IT IS TO INFORM YOU THAT CHANNEL NAME "A2Z NEWS CHANNEL" SHOWING ARRESTED ASARAM MESSAGES AND LESSONS SO PLEASE QUICKLY STOP THEM TO SHOW ON ANY CHANNEL THAT WILL GOOD FOR NATION OTHERWISE IT HELP TO INCREASE HIS GOONDA'S AND THEY KILL EASILY PERSON'S AND JUVENILES WHO IS ABUSE BY ASARAM WHO ACT AS PROOF BEFORE COURT AS SECURITY OF PERSON'S ALONG PROGRESS IS NEED OF NATION

2600
aman sadana 4 साल 3 महीने पहले

When a baby is born, an Aadhar card should be issued in his/ her name along with the birth certificate. The Aadhar number will help the Rashtriya Bal Swasthya Karyakram, keep a track of the child's vaccination schedule and doctor visits. At periodic intervals,the parents will be contacted to intimate them about pending Angadwadi appointments or delay in vaccination.

800
Manoj Agarwal_1 4 साल 3 महीने पहले

Respected modiji..     We all know that our medical expenditure can be cut short by 50%....by 1. Putting an end of 50% commission on tests which goes to doctors....this can be done by uniform mrp on each and every test ,keeping maximum profit of 40% for labs. 2. Retailers have 20% margin in ethical medicines and 80% margin on generic medicines. If generic medicines mrp can be cut by 50% then also retailer will have a margin of 30%.If this two steps are taken there will be no loss in tax reven