वित्तीय संसाधनों की बढ़ोतरी

Increasing Financial Resources
Last Date Aug 11,2015 00:00 AM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

यह चर्चा विषय ‘भारत में स्वास्थ्य प्रणालियां:मौजूदा निष्पादन और ...

यह चर्चा विषय ‘भारत में स्वास्थ्य प्रणालियां:मौजूदा निष्पादन और संभाव्यता के बीच की दूरी को कम करना’ शीर्षक से हमारी पहली चर्चा के सन्दर्भ अवं जारी रखने के लिए हैं । पहले चर्चा में इस विषय पर टिप्पणी की है जो दूसरों की समीक्षा करने के लिए, हमारे ब्लॉग पर उपलब्ध हैं ।

कैसे हम स्वास्थ्य के लिए वित्तीय संसाधनों में वृद्धि के माध्यम से स्वास्थ्य लाभ को अधिकतम करें?

11वीं योजना अवधि के अंत में स्वास्थ्य पर सार्वजनिक व्यय, जीडीपी का 1.04% था। इसके अतिरिक्त, स्वास्थ्य पर कुल व्यय का 70%, जेब से किया गया व्यय है। अध्ययनों से यह पता चला है कि भारत में स्वास्थ्य पर जेब से किए गए व्यय की वजह से गरीबी में संभवतः ग्रामीण क्षेत्रों में लगभग 3.6% और शहरी क्षेत्रों में 2.9% की वृद्धि हो रही है। भारत में सार्वजनिक स्वास्थ्य संबंधी व्यय तुलनीय देशों में सबसे कम व्यय करने वाले देशों की सूची में आता है। यह स्पष्ट है कि स्वास्थ्य के लिए और अधिक संसाधन जुटाने की जरूरत है। चूंकि स्वास्थ्य पर व्यय केवल केन्द्र सरकार के आबंटनों के माध्यम से ही होना जरूरी नहींहै, इसलिए अतिरिक्त निधियां जुटाने के लिए नए-नए तरीकों का भी पता लगाया जाना चाहिए। कृपया वर्किंग पेपर 2/2015 – स्वास्थ्य के लिए संसाधन बढ़ाना विषय पर विस्तृत पेपर देखें और स्वास्थ्य के लिए संसाधन बढ़ाने के अतिरिक्त तरीकों के संबंध में अपने सुझाव दें।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
75 सबमिशन दिखा रहा है
1100
mahesh bhanushali_2 4 साल 3 महीने पहले

Dear Rahul Gandhi,
You are doing fantastic work by opposing in Lok Sabha. From last 13 days only 8 % work is done in this session.
Great !!! HATS off !!!
We made mistake by giving 44 seats. Next time will take care that your party comes to ZERO
66 bills are pending to be passed in this session of parliament.
Whole country is proud of your work.
Your sincerly,
A foolish common man !!!

500
Anil Baxi 4 साल 3 महीने पहले

Policy for medical insurance covering unwanted outcomes during medical treatment on the lines of temporary travel insurance covering a particular procedure. This will increase jobs and reduce the burden of prolonged cases in the judiciary and also reduce the stress and burden on doctors while making diffucult decisions in challenging situations. For details on this idea please contact me at dranilbaxi@gmail.com

45080
Preetha Premjith 4 साल 4 महीने पहले

Modiji, Every newborn has a web page for uploading their health data, Then give them an accession number. This number is linked with low premium insurance. If hospitals or the persons upload the details of their health along with respective details in their site any doctor can easily identify the disease at the same time minimise frauds in insurance field & also help to reach the insurance in eligible hands.

600
Lakshman Srinivasan 4 साल 4 महीने पहले

Let me share a recent case pertaining to my mother who is a 77 year old widow and is under the health insurance coverage from Star Health Insurance for the last 7 years with only one claim of Rs.20,000/- towards cataract surgery and she has over the years has paid over Rs. 3 lacs as premium. Star Health has increased the premium by 40% for good claims and being honest. See how a senior citizen is being treated and I wonder how many mothers and fathers are being a victim of such treatment.

600
Lakshman Srinivasan 4 साल 4 महीने पहले

The Government must take up a bold plan in ensuring health for all scheme and also must focus on Health Insurance for Senior Citizens and they are the most deprived class in India. With the change in the socio-economic pattern the senior citizen apathy are the worst as nobody to take care from within the family and more so the health cost is so high they cannot afford.