राष्ट्रीय रेल योजना के मसौदे पर सुझाव दें

Last Date Jan 22,2021 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

देश की कुल माल भाड़ा ईको प्रणाली में क्षमता की कमी की अपर्याप्तता को ...

देश की कुल माल भाड़ा ईको प्रणाली में क्षमता की कमी की अपर्याप्तता को दूर करने और इसके सामान्य हिस्से में सुधार लाने के प्रयास में भारतीय रेलवे ने राष्ट्रीय रेल योजना हेतु ड्राफ्ट बनाया है।

राष्ट्रीय रेल योजना नामक दीर्घकालिक रणनीतिक योजना का एक प्रारूप रेलवे की ढांचागत हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए रणनीतियों के साथ-साथ अवसंरचना क्षमता बढ़ाने के लिए विकसित किया गया है। राष्ट्रीय रेल योजना रेलवे के भविष्य के सभी बुनियादी ढाँचे, व्यवसाय और वित्तीय नियोजन का एक सामान्य मंच होगा। इस योजना को अब विभिन्न मंत्रालयों के बीच उनके विचारों के लिए परिचालित किया जा रहा है। रेलवे का लक्ष्य जनवरी 2021 तक इसकी अंतिम योजना को फाइनल रूप देना है।

ड्राफ्ट स्ट्रैटेजी डॉक्यूमेंट को यहां क्लिक करके पढ़ा जा सकता है।

आप 22 जनवरी 2021 तक नवीनतम ड्राफ्ट पर अपने बहुमूल्य इनपुट/टिप्पणी/सुझाव साझा कर सकते हैं।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
1740 सबमिशन दिखा रहा है
7250
VAS KSS 3 दिन 14 घंटे पहले

Proposed a new railways model – “RINGS” (Rail India into Next Generation System), where Railways need to invest less and passengers can have enhanced experience. Also added requirement of hybrid-class coaches as well innovative method of future goods transport system (corrections made in the attachment).

91380
SHARIF SHAIKH_3 3 दिन 15 घंटे पहले

रेल्वे प्रबंधन को रेल्वे बोर्ड और सरकार यह अधिकार प्रदान करे कि हर DRM को 300 से 500 किलोमीटर की दूरी पर यातायात और राजस्व का आकलन कर साप्ताहिक, तीन दिन, दो दिन या रोजाना चेयर कार गाड़ियां सिर्फ बैठने के लिए चलाने की अपने हिसाब से पूर्णतः छुट दे, जिस से आम जनता को रेल का सफर करने मे आसानी और सुविधा उपलब्ध हो इस प्रकार की व्यवस्था से रेल्वे को यक़ीनन लाभ मिलेगा।

91380
SHARIF SHAIKH_3 3 दिन 15 घंटे पहले

अब चूँकि रेल्वे बजेट नहीं होता कार्य डिजिटल है, इको नही,रेल्वे मे सुधार करने होंगे। सरकार ने कुछ नई ट्रेने जरूर शुरू की है मगर आम जनता पर ध्यान नहीं दिया, क्यों कि जनता को साधारण गाड़ियों की ज़रूरत है। आप AC ट्रेने, ट्रेन 18, तेजस, हमसफ़र,राजधानी या बुलेट ट्रेन लाए तो इस का लाभ पैसे वालों को मिलेगा, इस मे सब का साथ सब का विकास कहां? हाँ 300 से 500 किलो मीटर दूरी की AC ट्रेन सिर्फ चेयर कार (बैठने) के लिए वाजिब किराए में शुरू करे तो अलग बात है। ज़रूरत तो साधारण गाड़ियों की है, इस बजट मे जरूर करे।

7250
VAS KSS 3 दिन 15 घंटे पहले

Proposed a new railways model – “RINGS” (Rail India into Next Generation System), where Railways need to invest less and passengers can have enhanced experience. Also added requirement of hybrid-class coaches as well innovative method of future goods transport system.

1520
DR SHAMBHU KUMAR SINGH 3 दिन 15 घंटे पहले

नमस्कार,मेरे ये सुझाव हैं,1.रेल की एक पत्रिका हो जिसमें कहानी,कविता,लेख,तस्वीर,रेल संबंधित आलेख,सूचना और विज्ञापन हो। इसकी वितरण संख्या के कारण भरपूर विज्ञापन मिलेंगे तो प्रकाशन कठिन नहीं होगा। सफर भी यात्रियों का सुखद कटेगा!2.रेल यात्रा में अकेली लड़कियों हेतु सुरक्षा के और उपाय किये जायें,चर्चा हेतु मैं उपलब्ध हूँ। 3.परिवार हेतु बंद कूपे की व्यवस्था की जाए ताकि सहज और सुरक्षित यात्रा हो सके। 4. इमरजेंसी में सुरक्षा ,मेडिकल सहायता की बेहतर व्यवस्था हो!#डॉ. शंभु कुमार सिंह, पटना 9431466665

1080
SONAMCHAUAHAN 3 दिन 15 घंटे पहले

SIR, IT’S HIGH TIME TO MAKE SOME REVOLUTIONARY CHANGE IN MODE OF TRANSPORTATION BECAUSE EXISTING MODE OF TRANSPORTATION ARE NOT ADEQUATE.
SIR INSTEAD OF INCREASING RAILWAYS, BUSES WE NEED TO INSTALL SOLAR OPERATED TRAVELLATOR ALONG WITH SEATS TO EACH AND EVERY ROAD OF INDIA. EACH AND EVERY ROAD OF INDIA SHOULD BE CONNECTED THROUGH TRAVELLATOR SO THAT EVERY CITIZEN CAN UTILIZE TRAVELLATOR FOR THEIR ROUTINE TRAVEL.