बीआईएआरएसी (BIRC ) इनोवेशन चैलेंज अवार्ड के लिए प्रासंगिक विषय के लिए सुझाव आमंत्रित करना

Inviting suggestions for relevant theme for BIRAC Innovation Challenge Award
आरंभ करने की तिथि :
Jul 14, 2017
अंतिम तिथि :
Aug 16, 2017
00:00 AM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

बीआईआरएसी (जैव प्रौद्योगिकी उद्योग अनुसंधान सहायता परिषद) ...

बीआईआरएसी (जैव प्रौद्योगिकी उद्योग अनुसंधान सहायता परिषद) बायोटेक्नोलॉजी, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, और भारत सरकार द्वारा स्थापित कंपनी अधिनियम, 2013 के धारा 8 के तहत 'नॉट-फॉर-प्रॉफिट कंपनी' है और ये जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उद्योग-शिक्षा की साझेदारी को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार की तरफ एक इंटरफ़ेस एजेंसी के रूप में काम कर रही है । पिछले पांच वर्षों में बीआईआरएसी(BIRC) ने कई योजनाएं, नेटवर्क और प्लेटफार्म शुरू किए हैं जो उद्योग-अकादमिक के साथ साथ नवाचार अनुसंधान के क्षेत्र में भी काम किया है। एक तरह से कहें तो फिलवक्त इस उद्योग में जो भी कमियां थी उसे दूर करने में मदद की है , कोशिश है कि अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियों के माध्यम से, नवाचार, उच्च गुणवत्ता, और सस्ती उत्पाद विकास की सुविधा प्रदान किया जाता रहें|

अधिक जानकारी के लिए आप लॉग ऑन कर सकते हैं: http://www.birac.nic.in/s

बीआईआरएसी ने बीआईएआरएसी इनोवेशन चैलेंज अवार्ड लॉन्च करने की योजना बनाई है, ये एक प्रतियोगिता होगी। इसके तहत एक समस्या के समाधान और उसका ब्रेकथ्रू करना होगा जो फिलवक्त अनसुलझा और अभेद्य है... यह पुरस्कार एक निर्धारित समय सीमा में समस्या को हल करने में मदद करेगा और एक सस्ते उत्पाद / समाधान विकसित करेगा जो वैश्विक उत्कृष्टता का होगा। चुनौती के लिए तैयार किए गए क्षेत्र संयुक्त राष्ट्र के सशक्त विकास लक्ष्य (एसडीजी) जैसे अच्छे स्वास्थ्य और साफ सफाई को आकर्षित करने वाला हो। बीआईएआरएसी इनोवेशन चैलेंज पुरस्कार के लिए सुझाव देने वाले संकेतक हैं मसलन:

स्वास्थ्य: स्वस्थ जीवन और विशेष रूप से चिकित्सा प्रौद्योगिकी(उपकरण और निदान) में उत्पादों के विकास के माध्यम से समाज के कल्याण को बढ़ावा देना, खासकर जो भारत में स्वास्थ्य देखभाल चुनौतियों को कम कर सकता है । संकेत हैं: मातृ एवं नवजात मृत्यु दर को कम करना, संचारी रोगों की महामारियों को समाप्त करना।

स्वच्छता: सुनिश्चित करता है कि सभी समुदायों के लिए उचित स्वच्छता और साफ सफाई की व्यवस्था हो और खुले में शौच को खत्म करने की दिशा में भी इसका उपयोग किया जा सकता है। मतलब स्वच्छता की व्यवस्था हर स्तर पर हो।

हम आपको उपर्युक्त क्षेत्रों के आधार पर इन विषयों में सुझाव देने के लिए आमंत्रित करते हैं, इसके तहत हम चाहते हैं क एक विश्वव्यापी उत्कृष्ट उत्पादों के लिए आदर्श विकसित कर एक चुनौती पेश किया जा सके , लेकिने हां समाधान ऐसा जो महत्वपूर्ण मुद्दों के लिए एक सस्ता, तेज़ और प्रभावशाली हो

प्रस्तुत करने की आखिरी तिथि 15 अगस्त, 2017 है

रीसेट
98 सबमिशन दिखा रहा है
3690
sanjay sati 4 साल 9 महीने पहले

Demonstrate a prototype to all infrastructure related people that in all upcoming buildings collect bathroom water in a tank , treat it and connect to flush the toilets.Use of Three R Principle reuse , restore & replenish water . It will save millions of water for upcoming generations of India. Sanjay Sati

37380
Rajendra Sharma 4 साल 9 महीने पहले

३)किसानों के लिए पैरों की ऐसी जुराबें बनाई जावें जो खेत में (पानी और कीचड में पैर सुरक्षित रहें )
४)रेन शेड -टू व्हीलर्स के लिए
५)एक प्रोडक्ट व् तीन चार तरह के उपयोग
६ ) Alternate Biotech सर्वर
७ ) हलके(लाइट वेट छोटे गमले ) रूम के लिए पौधे ( एंगुलर डिवाइस - जिसके द्वारा सूर्य की किरणों को
उसके पास रिफ्लेक्ट किया जा सके
८ ) मॉडर्न ड्रोन फॉर इजी ट्रेवल ओवर क्राउड One man flight भीड़ में उपयोग व् कैर्री गुड्स वेजटेबल्स
I M POSSIBLE YA

37380
Rajendra Sharma 4 साल 9 महीने पहले

{ फायदा - किसान मचान की जगह काम ले सकेंगे
{ ठेले वाले भी इसको व्हील लगा कर काम में ले सकेंगे
{ फुटपाथ पर इसका उपयोग आने जाने वालों की राह बाधित नहीं करेगा ( ४ पिल्लर्स )
{ सेना के सैनिकों का विश्राम गृह
२ ) आधुनिक रोशनदान - झोंपड़ी ,हवेली , और महलों में रोशनदान होते थे AC लगाने पर भी रोशन
दान ( मच्छर जाली युक्त )होने पर कभी कभी ताजा हवा मिलेगी जरूरत पर रिमोट या मैकेनिकल
बंद या खोले जा सकें
(Environment Friendly Material )

37380
Rajendra Sharma 4 साल 9 महीने पहले

AGRICULTURE - PLUS - " क्रिएट इनोवेटिव फॉर पीस .कॉम "
आज एंटरप्रेन्योर्स यूथ नए स्टार्टअप निर्माण कर रहे हैं परन्तु वह प्रोडक्ट इनोवेटिव , यूजफुल , सही डिज़ाइन एवं ग्रेटर पब्लिक डिमांड का होना चाहिए - नया भारत विश्व गुरु - पंडित जी प्रोडक्ट्स ऑफ़ एक्सीलेंट & ट्रस्टेड क्वालिटी ऑफ़ इंडिया के नाम से जाना जायेगा
१ ) -चार पैरों पर फोल्डिंग ( पोर्टेबल ) रूम का निर्माण हो आग से जले नहीं , पानी से गले नहीं , उठाने पे खले नहीं , मच्छर फटकले नहीं

32290
Tarapada Bhowmik 4 साल 9 महीने पहले

Our Hon'ble P'M' willing to the double income of the farmers. Good wishes. But never asked the farmers or takes advice from the farmers ,How and what steps will help the farmers income will be double?All the state Govt including Central Govt is trying to grow more agriculture/food.Agriculture Marketing Division is trying to teach farmers to storage their production and giving so many advice including sale their products, but never asked them what is their suggestion?

32290
Tarapada Bhowmik 4 साल 9 महीने पहले

India is the land of Agriculture. From Agriculture India had been so enriched that India had been invaded by the enemies again and again.Now we for get the our own system of agriculture and trying to learn agriculture from outsiders. It is very very sameful.Our traditional system of agriculture(Re-cycling process of the nature) will help us to eradicate poverty and pollution free environment.

3640
brajesh soni 4 साल 9 महीने पहले

First a fall we need to decide our target for agriculter.
Second to be provide inteligent leader for inspaction for district portion inspactor who have decide the soil condition and prodution nd area atmosphere.
Well transpotation and good storage...provide good price and chemical related product will healty nd consume for wealth...! More suggestion with planing provide bt if u have like my point of viwe...!#dbt #mygov

3640
brajesh soni 4 साल 9 महीने पहले

First a fall we need to decide our target for agriculter.
Second to be provide inteligent leader for inspaction for district portion inspactor who have decide the soil condition and prodution nd area atmosphere.
Well transpotation and good storage...provide good price and chemical related product will healty nd consume for wealth...! More suggestion with planing provide bt if u have like my point of viwe...!

126620
JAGDISH PATHAK 4 साल 9 महीने पहले

In respect to GST, I want to suggest that, the composition scheme has been specified for traders, manufacturer etc., and limit fixed rs. 75 lacs should be increased to rs. 1 crore, further, professional service provider should be given benefit of composition scheme under specified rate of e.i. 2.50% , so, that, such catagory people can get benefit of such schemes, GST concept is the best, but, returns system should be simplified with gennuine timing for effective impliment of GST, best wishes