'पृथ्वी के लिए मेरा योगदान' पर आधारित 'अपने अद्वितीय आइडिया साझा करें'

Share you unique Ideas on the theme of Invest in Our Planet
आरंभ करने की तिथि :
Apr 22, 2022
अंतिम तिथि :
May 31, 2022
23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

भारत सरकार के अंतर्गत पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, मौसम, जलवायु, महासागर ...

भारत सरकार के अंतर्गत पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, मौसम, जलवायु, महासागर और तटीय राज्य, जल विज्ञान, भूकंप विज्ञान और प्राकृतिक खतरे सेवाएं प्रदान करने के साथ-साथ देश के लिए स्थायी रूप से समुद्री जीव और निर्जीव संसाधनों की खोज और पृथ्वी के ध्रुवों (आर्कटिक, अंटार्कटिक और हिमालय) के बारे में पता लगाना और उनके सृजन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एमओईएस के बारे में अधिक जानकारी जानने के लिए इस लिकं पर जाएं-
https://www.moes.gov.in/ या आप में से कोई भी ट्विटर (@moesgoi), फेसबुक (@moesgoi), यूट्यूब (MoESgoi) और इंस्टाग्राम (@moesgoi) जैसे विभिन्न प्लेटफार्मों पर जाकर मंत्रालय के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते है।
पृथ्वी दिवस हर वर्ष 22 अप्रैल को मनाया जाता है। पृथ्वी को सरंक्षित करने के प्रति प्रतिबद्ध होने का यही सही समय है। इस वर्ष पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय इस वर्ष की थीम, 'पृथ्वी के लिए मेरा योगदान' पर आधारित 'अपने अद्वितीय आइडिया साझा करें'। इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए हर क्षेत्र के लोग आमंत्रित है।
इस प्रतियोगिता का उद्देश्य- देश के उत्साही युवाओं को ना केवल अपने आइडिया साझा करनेके लिए प्रोत्साहित करना है बल्कि एक अधिक टिकाऊ भविष्य के लिए अपने नए विचारों को लागू करना है। प्रतियोगिता अग्रेजी और हिन्दी में होगी।

प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए नियम और शर्तें:
1. MyGov.in पर निर्देशानुसार रजिस्टर करें।
2. प्रतिभागियों को पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सोशल मीडिया हैंडल्स को लाइक/फॉलो करना अनिवार्य होगा। (Facebook, Instagram, Twitter, Youtube)
3. डू ( कार्य) टास्क के तहत, जैसे ही आप अपने आइडिया MyGov पर शेयर करते हैं, आपसे आग्रह है कि आप इस कांटेस्ट में भाग लेने से जुड़ी जानकारी सोशल मीडिया पर भी पोस्ट करें और MoES (@moesgoi) को टैग करने के साथ-साथ अपने 3 दोस्तों को भी प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए आमंत्रित करें।
4. विजेता का निर्णय पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय करेगा।
5. विचार 100 शब्दों से अधिक न हों
6. आप अपने आइडिया हिन्दी या अंग्रेजी में साझा कर सकते हैं।
7. पोस्ट में यह हैशटैग अवश्य लगाएं: #MyPledgeMyEarth & #MyMoES
8. पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव द्वारा हस्ताक्षरित 3 शीर्ष विचारों को डिजिटल प्रमाण पत्र प्रदान किए जाएंगे।

Click here for Terms & Conditions (PDF-106 KB)

अंतिम तिथि : 31 मई, 2022

रीसेट
734 सबमिशन दिखा रहा है
51860
Ranjeet singh 2 महीने 2 सप्ताह पहले

श्रीमान माननीय प्रधानमंत्री महोदय
भारत सरकार नई दिल्ली
महोदय, मेरे सुझाव पर ध्यान देने का कष्ट करें
सब कहते हैं बेरोजगारी ज्यादा है कोई नहीं कहता की आबादी ज्यादा है आबादी में बढ गई बेरोजगारी बैठ के खाने वाले ज्यादा है काम ना होने के कारण यही है निर्भर और आत्मनिर्भर
आत्म निर्भर अभियान के तहत क्या सरकार को भी आत्मनिर्भर नहीं होना चाहिए सरकार है फ्री बांटने के लिए टैक्सपेयर्स पर निर्भर क्यों रहती है महोदय मेरी बात बुरी लगे या भली आखिर में सच तो बोलना ही पड़ेगा
महोदय, दो बच्चों का कानून नहीं तो हम ज्यादा बच्चे बालों के लिए टैक्स का बोझ क्यों सहेंगे कृपया करके इस बात पर विचार करें या समस्या समस्त देशवासियों की है आपसे अनुरोध करते हैं कि आप इस समस्या पर एक बार स्वयं विचार करें बढ़ती आबादी से खत्म हो रहे प्राकृतिक संसाधन बिल भरो तो टैक्स सामान खरीदा तो टैक्स सैलरी मिले तो टैक्स बढ़ते अपराध बढ़ती महंगाई शिक्षित अशिक्षित बढ़ती बेरोजगारी सब की जड़ बढ़ती आबादी आबादी कम हो तो टैक्स का सदुपयोग हो अच्छी शिक्षा अच्छा इलाज अच्छी सुविधा सबके लिए निजी कंपनियां फिर सरकारी क्या महोदय विचार करें

165420
amit tayal 2 महीने 2 सप्ताह पहले

मे अपने बचपन से लेकर आजतक हर समय अपने साथ कपडे का थैला लेकर चलता हूँ. पालीथीन कख प्रयोग नही करता,कचरा कपने थैले मे डालकर उचित स्थान पर ही डालता हूं।्मैने सकल्प लिया है गंदगी को फैलने से रोकने का.

4030
Arunesh Mishra 2 महीने 2 सप्ताह पहले

****** 6 Millions+ Solar Watts in 6 Months no cost************
My proposal:

Number of central Gov employee: 31 Lakhs
MNRE to install at least 2 KV rooftop plant to each central Gov employee in : 6 months
- Solution should be On Grid
Gov should cut installation cost in EMIs of : 2000 Rs/Month~
Employee would get electricity bill deduction by on grid connection by: 1000 Rs/Month (approx)
At the end gov recover all the installation cost from employees costing Gov: 0 Rupees
At the end employees get their EMI cut recovered from saving on electricity bills, costing employees: 0 Rupees
After 6 months time frame Bharat get : 60,00,000 watts green power

***Same model could be implemented on state employee level as well
*** within 1-2 years Bharat could become TOP country in producing green energy saving Billions of foreign currency, reducing carbon footprint significantly, creating thousands of jobs in solar sector, giving fresh air to billions.

Jay Bharat!!

60690
AnkurFarswal 2 महीने 2 सप्ताह पहले

The only investment in the planet is to save the water,land (Soil) and Air.
Respected Sir,
I am a resident of meerut
I am teacher in a private school.
I have cleared many gov jobs exam also, but for the last 2 year i cant focus on anything and in a great mental pressure as i buy 2 plot of 135 gaj at sobhapur near NH 58 Meerut for making my home but due Water logging caused due to the several leather tanning units operating in the area of my plot all my dreams goes into ruin.
I live on rent with my wife and one child and losing hope in life. I can't concentrate on my further studies as I am the only earning person in my family as my dream home place is all ruined by the local by draining filthy leather water in my plots, no healthy society will ever bear this. Please do something for my land.
My report also published in the quint .
https://www.thequint.com/amp/story/my-report/up-meerut-shobhapur-no-drain-polluted-water-leather-tanning?__twitter_impression=t

280
Rakesh kumar shukla 2 महीने 2 सप्ताह पहले

Sir भारत के हर गांव में एक c.a. की न्यूक्ति की जाए और उनका एक ऑफिस हो वही से गांव वालों का इनकम और खर्च उनके दुख सुख सभी प्रकार के काम का लेखा जोखा केंद्र तक पहुचाये मित्र बन कर बाबू बन कर नही लोगो का काम भी आसान हो जाएगा और आप तक उनकी सही जानकारी व आपकी उनकी पहुंच भी हो जायेगी ऐसा मेरा सुझाव है भारत के हर गांव में एक अधिकारी की न्यूक्ति भी हो जायेगी उससे भारत व जनता दोनो की भलाई होगी बेरोजगारी भी कम होगी