परीक्षा के तनाव को दूर करने के अपने अनुभव तथा टिप्स शेयर कीजिए

Last Date Mar 14,2021 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

28 फरवरी 2021 को आयोजित मन की बात के नवीनतम संस्करण में, माननीय प्रधान ...

28 फरवरी 2021 को आयोजित मन की बात के नवीनतम संस्करण में, माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने एग्जाम वॉरियर्स, माता-पिता और शिक्षकों से आग्रह किया कि वे परीक्षा के तनाव को दूर करने के लिए अपने अनुभवों और टिप्स को शेयर करें।

आगे आएं, हमारे माननीय प्रधान मंत्री के साथ परीक्षा पे चर्चा में शामिल हों और माईगव पर अपने विचार साझा करें।

सुझाव भेजने की अंतिम तिथि 14 मार्च 2021 है।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
4918 सबमिशन दिखा रहा है
330
Aparna Kulkarni Pune 1 महीना 3 सप्ताह पहले

सर, हमारे आपका यह कार्यक्रम परीक्षा और पढाई को लेकर है लेकिन मेरी समस्या कुछ और है. मेरे बच्चो को पढाई को लेकर कोई तकलीफ नहीं है लेकिन उनके खाने को लेकर बहुत नखरे है. आपके पास तो हर मुद्दे का उपाय होता है, तो क्या आपके पास हमारी समस्या का कोई उपाय है?

3560
YourName 1 महीना 3 सप्ताह पहले

परीक्षआ का tention जिस्का जर कम्जोर ह उसे होता है ।प्रकृति के साथ खेलो ताजी हवा मे पढ्ना ।पर बच्चों को parkriti के साथ जोरना तो दुर मा पापा के साथ भी नही रहता ।स्कूल की भारी भारी फीस जुटाते जुटाते ।बच्चे को ही दवाव दाल कर चिर चीरा कर देते है ।सरकारी स्कूल के तो हाल ऐसा ह की बच्चा को नकल करना ही सीखता है ।खुद पढ्ना नही ।चौपट राजा का चौपट पढाई ।लुट लो लुट सको तो

4660490
ARUN KUMAR GUPTA 1 महीना 3 सप्ताह पहले

जो पढ़ा है, जिस तरीके से पढ़ा है उसे उसी तरीके से revise करें।
परीक्षा के पहले कोई नये टाईप का प्रश्न न ट्राई करें। न ही नया concept याद करने का प्रयास करें।
इससे confusion हो सकता है और confidence में कमी आ सकती है।

4560
Amoliram Jamdare 1 महीना 3 सप्ताह पहले

परम आदरणीय माननीय प्रधानमंत्री जी,
सादर प्रणाम।
महोदय जी,
परीक्षा के पूर्व 'परीक्षा पे चर्चा' कार्यक्रम विद्यार्थियों को सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करता है, जिससे बच्चे सही दिशा की ओर प्रेरित होते हैं। इस पहल के लिए मैं आपका नमन करता हूं।
शिक्षा सत्र प्रारंभ होने के पूर्व हम शिक्षकों के लिए भी 'शिक्षण पे चर्चा' कार्यक्रम आयोजित किया जाना चाहिए जिससे हमें भी अपने कार्य के लिए और अधिक प्रेरणा प्राप्त हो सके।
सादर धन्यवाद के साथ।