डिजिटल उद्यमियों की कहानियां साझा करें

डिजिटल उद्यमियों की कहानियां साझा करें
आरंभ करने की तिथि :
Aug 31, 2022
अंतिम तिथि :
Sep 30, 2022
23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 28 अगस्त 2022 को मन की बात के 92वें ...

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 28 अगस्त 2022 को मन की बात के 92वें एपिसोड में उल्लेख किया कि कैसे देश में नए डिजिटल उद्यमी नई ऊर्जा और अवसरों के साथ सकारात्मक परिवर्तन ला रहे हैं। जो सुविधाएँ कभी बड़े शहरों में ही उपलब्ध रहा करती थीं, आज उन्हें ये डिजिटल इंडिया उद्यमी हर शहर और हर गाँव के द्वार तक पहुँचा रहे है। ये नए भारत के इनोवेटर्स हैं जिन्होंने इंटरनेट की मदद से अपने स्वयं के उद्यमों को बदलने की पहल करने के साथ-साथ दूसरों को भी डिजिटल इंडिया में समृद्ध होने में मदद की।

ऐसे ही अपने आस-पास मौजूद उन डिजिटल उद्यमियों की प्रेरक कहानियां साझा करें जिन्होंने इंटरनेट की मदद से समाज में सकारात्मक परिवर्तन लाने में मदद की

प्रेरक कहानियां भेजने की अंतिम तिथि 30 सितंबर, 2022 है

रीसेट
450 सबमिशन दिखा रहा है
Default Profile Picture
Baas Image 2256950
CHANDA NAGARAJU 4 महीने 1 week पहले

In this 21st century’s digital era, the advanced technology has changed the way we live our lives. Electronic media or social media to be precise is the necessity for everyone these days.
ROHIT KUNAL
Rohit Arora is the founder of the digital marketing agency Dropout Digital.
Rohit and Kunal hail from different regions of India, this duo met on Facebook in 2018 and started their journey as digital serial entrepreneurs. Rohit Arora and Kunal Dron are the real sources of inspiration for many youngsters who want to pursue their dreams.
They have employed more than 25 people, and have separate departments for SEO, Website development, creative content writing, and social media marketing to increase the efficiency of their business.

Default Profile Picture
Baas Image 80230
Kumar Nitin Singh 4 महीने 1 week पहले

Dear Sir,
It is a modest request that, I Kumar Nitin Singh, Son if Late Kumar Bhartendu Singh Son of Late Kumar Surendra Singh Retd. Deputy Secretary Bihar Vidhan Sabha At Patna 1987, Bihar Legislative Assembly Retired from Bihar Legislative Assembly Patna 1987 A.D.
Kumar Nitin Singh is Born in Sabha Sasaula Kala, Block/Police Station:-Suppi, District -Sitamarhi Bihar India Pincode:-843315 When Kumar Nitin Singh was Six Months Old his Grand Parents Late Lakshmi Devi and Late Kumar Surendra Singh Bring him the 25 No. Quarters Located Near the 36 turn in Kumar Surendra Singh brought of Land in Khajpura, Aashiana-Road, Patna Bihar in 1979-80. They Start Building houses from 1985-86 Session Kumar Nitin Singh Used to Come with his Grand Parents to do visit to get homes built. Kumar Surendra Singh didn't even a taken a rupee from his Two Sons to Built a House. When the Name of Lakshmi Devi appeased in the Permission List of the Registry in the 1990 Session. Then Ku

Default Profile Picture
Baas Image 114390
Menaga d 4 महीने 1 week पहले

story of my grandfather .he is aged above 100 .he is still very healthy and active .all is because he worked hard at farm and ate healthy food .like millets ragi ect and also they use to eat at particular time .so he is my inspiration to lead a good n healthy life his name periyappa .all his co friends were died ..he used to say that .talk less and work more .

mygov_1664537061112272411
Default Profile Picture
Baas Image 64010
Adv Praveen Pratap 4 महीने 1 week पहले

सर
भारतीय रूपये के अवमूल्यन पर भी विचार करना उचित होगा, क्योंकि इसका संबंध भारतीय अर्थव्यवस्था एवम् भविष्यात्मक अर्थव्यवस्था से है। क्योंकि हमारा नैतिक दायित्व है, कि देश के भविष्यात्मक पहलुओं पर भी विचार करें।
सर जी भारतीय रूपया पूर्ण रूपेण परिवर्तनीय होने का शायद यह सही समय हो सकता है।
सर यह आपकी स्वयं की नीतियों का हिस्सा भी हो सकता है।
सर आप स्वयं ही जीनियस हैं,
मैंने तो मात्र सुझाव प्रस्तुत किया है।
जय माता दी।
जय भारत

Default Profile Picture
Baas Image 35080
Bhgban Singh gurjar 4 महीने 1 week पहले

बैंको द्वारा कौशल रखने वाले युवाओं को
अपना उधम स्थापित करने के लिए बैंक
लोन नही देता मैंने प्रधानमंत्री स्वरोजगार
स्रजन योजना में जिला उधोग विभाग
श्योपुर से अपने गाँव में एक कंप्यूटर सेंटर
स्थापित करने के लिए dic से आवेदन
किया था लेकिन बैंक के कर्मचारी सिर्फ
अपने 10% से मतलब रखते है उनके
लिए युवाओं का कौशल कोई मायने
नही रखता.