जनता को सप्ताह में एक दिन पेट्रोल/डीजल का इस्तेमाल न करने के लिए प्रोत्साहित/प्रेरित करने हेतु सुझाव आमंत्रित हैं

Inviting Suggestions to Encourage / Motivate the Masses to Avoid Petrol/Diesel Use for One Day in a Week
Last Date Apr 16,2017 12:00 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

वर्ष 2015-16 के दौरान घरेलू मांग को पूरा करने के लिए भारत ने आयात पर 4.82 लाख ...

वर्ष 2015-16 के दौरान घरेलू मांग को पूरा करने के लिए भारत ने आयात पर 4.82 लाख करोड़ रुपये खर्च किए। आयात का बोझ कम करने के लिए और बेहतर पर्यावरण के लिए, जनता को सप्ताह में एक दिन पेट्रोल/डीजल का इस्तेमाल न करने के लिए प्रोत्साहित/प्रेरित करने का प्रस्ताव है।

हमारे माननीय प्रधान मंत्री ने सभी नागरिकों से सप्ताह में एक दिन के लिए पेट्रोल / डीजल के इस्तेमाल से बचने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा है कि अगर 125 करोड़ भारतीयों ने ऐसा करने की प्रतिज्ञा की, तो 'न्यू इंडिया' का सपना हासिल किया जा सकता है।

हर हफ्ते एक दिन के लिए, जनता को पेट्रोल/डीजल का इस्तेमाल न करने के लिए, त्साहित/प्रेरित करने के तरीकों का सुझाव देने के लिए आप सब आमंत्रित हैं।

सुझाव देने की आखरी तारीख 8 अप्रैल, 2017, दोपहर 12 बजे तक है|

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
827 सबमिशन दिखा रहा है
3770
Duraiswamy Lakshmanan 2 साल 8 महीने पहले

India spent Rs. 4.82 lakh crores on imports to fulfill domestic need. in 2015-16. True. Why? Because of urban population is more than 40,000 heads / km2. My studies revealed that less than 15,000 population the fuel consumption is 35 % less compare to population having more than 40,000 heads / km2. By this India can save at least Rs. 1.25 lakhs crores + reduction of emitting green house gases. Smart villages better than smart cities. Dr. D. Lakshmanan Ex Principal Scientist. CSIR-CLRI, Chennai

1300
Neha sharma_39 2 साल 8 महीने पहले

respected sir,MAKING SOME LOWS ON PETROL AND DIESEL WILL MAKE A MINDSET ON PEOPLE THAT IT IS SIMPLY JUST A LOW AND TO BREAK IT IS AN EASY TASK UNLESS AND UN TILL IT IS IMPORTANT TO CHANGE PERSPECTIVE, MINDSET OF PEOPLE THAT THESE NATURE GIFTED THINGS WILL REPLENISH ONE DAY AND TO IMAGINE THAT DAY WITHOUT THESE RESOURCES WILL IMPOSSIBLE TO LIVE. SO IT SHOULD BE STARTED WITH AWARE PEOPLE AS MUCH AS POSSIBLE WITH AWARENESS PROGRAMS FOR STUDENTS,YOUNGSTERS ,PARENTS TEACHERS EVERYONE OF THEM.

3300
himanshu verma 2 साल 8 महीने पहले

dear Honabl'e prime minister of india you are motivate everyone for save feul but we think that sir you are set the limit of fuel for every vehicle and someone brake this rule he/she punish those people are wasetage fuel they is understand very well that what is wasetage of fuel and i hope that every people obey that rule with each situation