चंडीगढ़ में कुशल पार्किंग सिस्टम

Efficient Parking System in Chandigarh
Last Date Oct 01,2015 00:00 AM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

हमारी पार्किंग व्यवस्था के साथ क्या गलत है? ...

हमारी पार्किंग व्यवस्था के साथ क्या गलत है?

सब्सिडी – आधुनिक उच्च तकनीक पार्किंग एक विरोधाभास है

चंडीगढ़ का घनत्व प्रति 1000 लोगो में 227 कारो के साथ देश में सबसे अधिक है, लेकिन पार्किंग दर देश में सबसे कम है (₹5 कार के लिए और ₹2 स्कूटर /मोटर साइकिल के लिए) यह वास्तव में पार्किंग उल्घंन की जढ़ में निहित है | पार्किंग लाइसेसधारियो के पास सी सी टी वी कैमरे, बुम बधायो और अन्य बातो के अलावा अन्य उच्च तकनीक उपकरणों में निवेश करने के लिए पर्याप्त पैसा नहीं है | वे ज्यादा किराया लेना, क्षमता से अधिक वाहनों के लिए अनुमति देना, अन्य आर्थिक गतिविधियों की इजाजत देना, जैसे गैर क़ानूनी साधनों का सहारा लेते है |

सड़क स्थल का समान वितरण

शहर में सड़क स्थल का समान वितरण होना चाहिए | वर्तमान में सड़क स्थल का 90% जनसंख्या के 22% लोगो जिनके पास कारे है, ने ले रखी है (अथवा के द्वारा अधिकृत है ) पैदल चलने वालों और गैर मोटर चलित वाहनों के उपयोगकर्तायो को साइकिल पट्टी के आभाव में सड़क के बाहर निचोढ़ा है | यह (साइकिल पट्टी ) उनके लिए सुरक्षित नहीं है |

हमें बजाय क्या करना चाहिए?

पार्किंग दरो को उनकी आर्थिक लागत के करीब लाया जाना चाहिए | पार्किंग रिक्त स्थान के लिए उच्च शुल्क भी हमारे गाढ़ी से अपने दौरे की सीमा सीमित करेगी | यही कारण है की उत्सर्जन में कटोती के लिए भीड को कम करने, एक पक्ष प्रभाव के रूप में और भूमि के उपयोग में सुधार होगा | अगर यही भूमि डेवलपर्स (उन्नतशील) को दी जाती है तो, सरकार जो वर्तमान में कर रही है, इससे भी अधिक कमा सकती है | उच्च पार्किंग दरों से शहर के ससाधन में वृद्धि कर उसे यूरोपीय देशो की तरह सुरक्षा , इमारत समर्पित साइकिल पट्टी, हरित क्षेत्रों के विकास तथा वहां मुक्त क्षेत्र के विकास में निवेश किया जा सकता है |

लदंन, मिलन, सिंगापुर और स्टॉकहोम जैसे शहरों में भीढ़ टैक्स लगाया गया है और पार्किग को महंगा बना दिया है | चंडीगढ़ में हम अभी भी सस्ती पार्किंग में विश्वास करते है, लेकिन वास्तव में सस्ती पार्किंग जैसी कोई बात नहीं है | कोई न कोई इसका खामियाजा भुगत रहा है | हमारे मामले में प्रशासन, लेकिन किस कीमत पर

• क्या हमे सार्वजनिक परिवहन प्रणाली में और अधिक निवेश नहीं करना चाहिए ?
• क्या हमारे यहाँ सिंगापुर और अन्य पश्चिमी देशो की तरह समर्पित साइकिल पट्टी या पैदल रास्ते नहीं होने चाहिए?
• क्या अमीरों के लिए वास्तव में पार्किंग की सब्सिडी होनी चाहिए ?
• राष्ट्रीय शहरी परिवहन नीति, पार्किंग को एक सार्वजनिक सेवा के रूप में बताती है, लेकिन विवादास्पद सवाल यह है की क्या प्रशासन उन लोगों को भी इसके लिए आर्थिक सहायता दी जानी चाहिए जिनकी क्षमता इसे अदा करने के लिए पर्याप्त से कही अधिक है | इस तरह के कुछ सवाल है जिसके लिए जनता की भागीदारी और गहरी विवेचना की जरूरत है |

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
177 सबमिशन दिखा रहा है
720
Dhruv Suri 4 साल 2 महीने पहले

In societies flats people living in ground floors cover areas illegally which can better used for parking. They make fences and make their gardens. They themselves have 2-3 cars. People having only 1 car does not have space to park anywhere. Please forbid them to make fences ,cover areas and make space for parking. The pics are of modern housing complex manimajra.

500
Arvind Kumar_121 4 साल 2 महीने पहले

We should implement these-
1) One time parking fee as like pollution certificate from all vehicle owners yearly basis it will increase revenue.
2) On this cost we will give vehicle owners One city One parking means park your vehicle in outside parking within city.
3) On parking we will record vehicle no. and on exit we will make also entry which will update database of parked vehicle.
4) We will limit every parking space with parking capacity.
5) We will provide live parking status to users

500
Arvind Kumar_121 4 साल 2 महीने पहले

I Think we can do one thing we should try One City/One Parking concept and make Parking Certificate Compulsory for all as like Pollution Certificate.

1- Charge Parking Fee and Issue parking Certificate to every vehicle owner and Parking Certificate is valid for one year after that renewal require.
2- After getting Parking Certificate person can park his/her vehicle in any parking area within a city.
3-Use Mobile App to Provide Live Parking availability status.

Read More in PDF attached,

13200
Satya Bhushan Sarna 4 साल 2 महीने पहले

One day a week can be reserved for office goers to reach their offices by bicycle. Roads connecting sectors having offices like sec-17,34,9 etc can be blocked on that day for two hrs in the morning & evening for the convenience of cyclists. Any employee preferring to reach office for some reason may hv to follow a circuitous route or adjust office time accordingly. UT may take a public opinion on the day & route.

600
Amit Kumar_585 4 साल 2 महीने पहले

Administration must must start with ensuring full utilization of the current infrastructure. #Chandigarh, by design, has a lot of parking space but it is sad to see that lot of those are not utilized properly and managed poorly. Few suggestions
1. All the underground parking spaces should be cleared, cleaned and made available to public for use
2. Parking lots must be clearly marked (outlined) for proper parking
3. Open parking lots are full of pot holes and garbage and need cleaning

31600
Nagendrasena Manyam 4 साल 2 महीने पहले

Traffic and Parking issues - I feel atleast 50% problem will be solved if govt. looks into future. Like, use of single wheel electric bike and 2 wheeler car electric. . . Eg of 2 wheel car from one of the manufacture. If we invite such companies to make in India, then it will be cost effective.
https://www.youtube.com/watch?v=VkvvsRBSroA