क्या आप स्वतंत्रता आंदोलन के गुमनाम नायकों के बारे में जानते हैं? हमें बताइए!

Know of Any Unsung Heroes of the Freedom Movement? Tell Us!
आरंभ करने की तिथि :
Aug 06, 2021
अंतिम तिथि :
Aug 15, 2022
23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

भारत की आजादी का अमृत महोत्सव समारोह के हिस्से के रूप में, भारत की ...

भारत की आजादी का अमृत महोत्सव समारोह के हिस्से के रूप में, भारत की आजादी की 75 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए भारत सरकार द्वारा कार्यक्रमों की एक श्रृंखला आयोजित की जा रही है।

इस माईगव गतिविधि के माध्यम से, हमारा लक्ष्य इतिहास को फिर से समझना और अपने स्थानीय नायकों को स्वीकार करना है, जिनके संघर्षों को स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान पारंपरिक कहानियों में प्रमुखता नहीं मिली है। आइए अपने स्वतंत्रता संग्राम और इससे जुड़े गुमनाम नायकों के बारे में जागरूकता बढ़ाएं। यह समय है कि हम वीर गुंडाधुर, वेलु नचियार, भीकाजी कामा आदि जैसे सेनानियों के योगदान को भी जानें।

यह आपके लिए उस कहानी को बताने का मौका है जिसे आपको बताना चाहिए और उन स्वतंत्रता सेनानियों का सम्मान करना चाहिए जिन्होंने हमारे देश को स्वतंत्र बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

सभी विवरणों के साथ कहानियों को साझा करें और हमारे साथ भारत की आजादी का अमृत महोत्सव मनाएं।

प्रविष्टियां कैसे जमा करें:
• सभी प्रविष्टियां www.mygov.in . के माध्यम से ऑनलाइन जमा की जानी चाहिए।
• प्रविष्टियां भेजने का कोई अन्य माध्यम स्वीकार नहीं किया जाएगा।
• गुमनाम नायकों की कहानी का उल्लेख करते हुए निम्नलिखित विवरण साझा करें ताकि हर कोई उनके बारे में जान सके:
1. नाम
2. आयु
3. पता
4. जिला
5. राज्य
6. स्वतंत्रता आंदोलन में उनके योगदान के बारे में कहानियां
7. तस्वीरें (यदि कोई हो)
8. वीडियो/ऑडियो का लिंक (यदि कोई हो)

आइए भारत की आजादी के गुमनाम नायकों को पहचानें और उनका सम्मान करें!

प्रविष्टियां जमा करने की अंतिम तिथि 15 अगस्त 2022 है

रीसेट
5483 सबमिशन दिखा रहा है
480
AKASHCHAUDHARY 1 day 4 घंटे पहले

नाम-खचेडू सिंह पुत्र श्री गिरवर सिंह
पता- ग्राम दयानतपुर, जिला -हापुड, उत्तर प्रदेश
भारत के स्वतंत्रता संग्राम में अभूतपूर्व योगदान रहा है। मेरे परदादा जी स्वर्गवासी श्री खचेडू सिंह स्वतंत्रता संग्राम के दौरान 8 महीने तक जेल में रहे थे। मेरे परदादा जी से जुड़े कुछ दस्तावेज आज मैं आपके सामने प्रस्तुत कर रहा हूं। इसी दौरान मेरे परदादा जी फ्रीडम फाइटर ऑफ आई एन ए के साथ में भी जुड़े रहे तथा कुछ देशों की यात्रा भी की जैसे कि सिंगापुर मलेशिया थाईलैंड आदि। आज मैं आपको बताना चाहता हूं की किसी कारण बस मेरे परदादा जी को इतिहास में भुला दिया गया। मेरे परदादा जी से जुड़े कुछ अन्य दस्तावेज भी मेरे पास मौजूद है भारत सरकार मेरी मदद करें।

54270
Shivang Dixit 1 day 12 घंटे पहले

हिंदू संप्रदाय नीति नीति एजेंडा अन्याय कानूनों और नीतियों को विदेशी धर्म या संगठन द्वारा पोषित किया जाएगा घात तंत्र या धार्मिक दमनकारी नीतियां प्रदान की जाएंगी धार्मिक न्यायपालिका कानून मानवता को अपने स्वयं के राष्ट्रीय सुरक्षा कानूनों और नीतियों के साथ पोषण करने के लिए अधार्मिक नीतियां गैर धार्मिक दमनकारी समाज के नागरिकों द्वारा बनाई गई हैं जो अपने प्रभुत्व वाली सरकारी संगठन प्रणाली के अनुसार स्वतंत्रता समाज प्रदान करें

560
RishabhDwivedi 1 day 16 घंटे पहले

Birsa Munda was born on 15th November 1875 in Ulihatu village of present-day Jharkhand. His mother's name was Karmi and father's name was Sugna Munda. His parents were crop-sharers. Birsa Munda belonged to Munda-tribe. He spent his childhood in the village of Chalkad. He was of strong stature.

He took great interest in studies. He passed the lower primary examination from Kundi Bartoli. He also studied in a mission school in Chaibasa. After getting higher primary level education, he started working in Gaur Peda's Swami family for livelihood. His owner's name was Anand Pandey.

In those days the opposition of German and Roman Catholics was increasing. Birsa was also affected by this. They joined the protest. The British wanted to convert the tribal agricultural system into feudal rule. They wanted to grab tribal lands. The tribal people could not stop them due to poverty and lack of power.

10680
Gadireddy Sailaja 1 day 16 घंटे पहले

My Grand Father Malireddy Srisailam Reddy S/o M.Papireddy born in Lingavaram a small village near Gudivada Krishna Dist Andhrapradesh. He was Freedom Fighter and has close assosiation with Tanguturi Prakasam Pantulu garu; Potti Sriramulu garu and many great Telugu Freedom Fighters.We are Blessed and Fortunate ...we always feel proud about his Selfless service...
Many of our family members names are after National leaders