क्या आप स्वतंत्रता आंदोलन के गुमनाम नायकों के बारे में जानते हैं? हमें बताइए!

Know of Any Unsung Heroes of the Freedom Movement? Tell Us!
आरंभ करने की तिथि :
Aug 06, 2021
अंतिम तिथि :
Aug 15, 2022
23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

भारत की आजादी का अमृत महोत्सव समारोह के हिस्से के रूप में, भारत की ...

भारत की आजादी का अमृत महोत्सव समारोह के हिस्से के रूप में, भारत की आजादी की 75 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए भारत सरकार द्वारा कार्यक्रमों की एक श्रृंखला आयोजित की जा रही है।

इस माईगव गतिविधि के माध्यम से, हमारा लक्ष्य इतिहास को फिर से समझना और अपने स्थानीय नायकों को स्वीकार करना है, जिनके संघर्षों को स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान पारंपरिक कहानियों में प्रमुखता नहीं मिली है। आइए अपने स्वतंत्रता संग्राम और इससे जुड़े गुमनाम नायकों के बारे में जागरूकता बढ़ाएं। यह समय है कि हम वीर गुंडाधुर, वेलु नचियार, भीकाजी कामा आदि जैसे सेनानियों के योगदान को भी जानें।

यह आपके लिए उस कहानी को बताने का मौका है जिसे आपको बताना चाहिए और उन स्वतंत्रता सेनानियों का सम्मान करना चाहिए जिन्होंने हमारे देश को स्वतंत्र बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

सभी विवरणों के साथ कहानियों को साझा करें और हमारे साथ भारत की आजादी का अमृत महोत्सव मनाएं।

प्रविष्टियां कैसे जमा करें:
• सभी प्रविष्टियां www.mygov.in . के माध्यम से ऑनलाइन जमा की जानी चाहिए।
• प्रविष्टियां भेजने का कोई अन्य माध्यम स्वीकार नहीं किया जाएगा।
• गुमनाम नायकों की कहानी का उल्लेख करते हुए निम्नलिखित विवरण साझा करें ताकि हर कोई उनके बारे में जान सके:
1. नाम
2. आयु
3. पता
4. जिला
5. राज्य
6. स्वतंत्रता आंदोलन में उनके योगदान के बारे में कहानियां
7. तस्वीरें (यदि कोई हो)
8. वीडियो/ऑडियो का लिंक (यदि कोई हो)

आइए भारत की आजादी के गुमनाम नायकों को पहचानें और उनका सम्मान करें!

प्रविष्टियां जमा करने की अंतिम तिथि 15 अगस्त 2022 है

रीसेट
5483 सबमिशन दिखा रहा है
M.N.KALYAN KIRAN
Baas Image 28960
M.N.KALYAN KIRAN 3 महीने 1 week पहले

On a historical date 15/8/2022, we are celebrating 75 years of Independence.This golden moment is celebrated as “AZAD KI AMRIT MAHOSTAV” . There are so many freedom fighters sacrificed their lives to attain freedom for our country. But, there are some brave hearts did not get enough recognition for their struggle. One of such prominent personality was Sri UYALAVAD ANARASIMHA REDDY. Sri UYALAVAD ANARASIMHA REDDY was born at Rupanagudi village on 24 November 1806. His parents were Mallareddy and Seethamma.
REFERECES:-
1) https://en.wikipedia.org/wiki/Uyyalawada_Narasimha_Reddy
2) https://books.google.co.in/books?id=lOYGlui0UpQC&pg=PA181&redir_esc=y#v=onepage&q&f=false

IMAGES

NAME;- M.N.KALYAN KIRAN’
AGE:-46
CITY: RAJAMAHENDRAVRAM
DISTRICT: EAST GODAVARI
STATE: ANDHRA PRADESH

gadireddysailaja_1
Baas Image 72680
Gadireddy Sailaja 3 महीने 1 week पहले

Sri Malireddy Srisailam Reddy is born in 1919 in a small village named Lingavaram near Gudivada Krishna Dist Andhrapradesh.
He was inspired by Mahatma Gandhiji and Tanguturi Prakasam Pantulu garu.
Though he believed in Non violence he had a special place in his heart for Sri Subhas chandra Bose ji.
He named his nephew(my father) as Subhas Chandra Bose Reddy.
He was an active member of Indian National congress. He was very close to Prakasam Pantulu garu, Potti Sriramulu garu , Rajaji and few other National congress leaders.
He had his special team for making action plans to fight wit Britishers. He was arrested and sent to jail many times.
He was comitted to Nation. A n Icon with high values my grand father Srisailam reddy is an inspirationto many till date.
We are proud and blessed to be his family members.
JAI HIND.

mygov_1660567784110867071