क्या आप स्वतंत्रता आंदोलन के गुमनाम नायकों के बारे में जानते हैं? हमें बताइए!

Know of Any Unsung Heroes of the Freedom Movement? Tell Us!
आरंभ करने की तिथि :
Aug 06, 2021
अंतिम दिनांक :
Aug 15, 2022
23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)

भारत की आजादी का अमृत महोत्सव समारोह के हिस्से के रूप में, भारत की ...

भारत की आजादी का अमृत महोत्सव समारोह के हिस्से के रूप में, भारत की आजादी की 75 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए भारत सरकार द्वारा कार्यक्रमों की एक श्रृंखला आयोजित की जा रही है।

इस माईगव गतिविधि के माध्यम से, हमारा लक्ष्य इतिहास को फिर से समझना और अपने स्थानीय नायकों को स्वीकार करना है, जिनके संघर्षों को स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान पारंपरिक कहानियों में प्रमुखता नहीं मिली है। आइए अपने स्वतंत्रता संग्राम और इससे जुड़े गुमनाम नायकों के बारे में जागरूकता बढ़ाएं। यह समय है कि हम वीर गुंडाधुर, वेलु नचियार, भीकाजी कामा आदि जैसे सेनानियों के योगदान को भी जानें।

यह आपके लिए उस कहानी को बताने का मौका है जिसे आपको बताना चाहिए और उन स्वतंत्रता सेनानियों का सम्मान करना चाहिए जिन्होंने हमारे देश को स्वतंत्र बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

सभी विवरणों के साथ कहानियों को साझा करें और हमारे साथ भारत की आजादी का अमृत महोत्सव मनाएं।

प्रविष्टियां कैसे जमा करें:
• सभी प्रविष्टियां www.mygov.in . के माध्यम से ऑनलाइन जमा की जानी चाहिए।
• प्रविष्टियां भेजने का कोई अन्य माध्यम स्वीकार नहीं किया जाएगा।
• गुमनाम नायकों की कहानी का उल्लेख करते हुए निम्नलिखित विवरण साझा करें ताकि हर कोई उनके बारे में जान सके:
1. नाम
2. आयु
3. पता
4. जिला
5. राज्य
6. स्वतंत्रता आंदोलन में उनके योगदान के बारे में कहानियां
7. तस्वीरें (यदि कोई हो)
8. वीडियो/ऑडियो का लिंक (यदि कोई हो)

आइए भारत की आजादी के गुमनाम नायकों को पहचानें और उनका सम्मान करें!

प्रविष्टियां जमा करने की अंतिम तिथि 15 अगस्त 2022 है

रीसेट
3660 सबमिशन दिखा रहा है
7670
Harshit Gupta 23 घंटे 4 मिनट पहले

Maharana Pratap Lord of Mewar
From whom every Mughal was afraid,
he was so brave that he exerted so much courage in his childhood,
seeing which the whole world was stunned.
His only AIM was to throw the Mughals out of this holy land.
He did so many sacrifices for the Hindus, which is not possible to tell.

7670
Harshit Gupta 23 घंटे 12 मिनट पहले

There is no warrior better than Peshwa Bajirao
He was the brave warrior at that time who never lost any battle.
no matter how big a war it is he was always the winner.
He lived two and a half days in one day.
His only dream was Hind Swaraj.
The more I praise him, the less it is
I pay my respects to them !!
Jai Hind !!

1010
Shivam Sharma 1 day 1 घंटा पहले

Ashfaqulla Khan
Ashfaqulla Khan was one of the first freedom fighters of India who had been sentenced to death in a court trial. He along with his friend Ram Prasad Bismil was carrying out armed revolutionary activities and had been successful to hatch the famous Kakori Dacoity plan that was carried out by Chandrasekhar Azad, Sachindra Bakshi, Rajendra Lahiri and others on 9th of August, 1925.

36610
PARTHA CHAUDHURI 1 day 7 घंटे पहले

The Anglo-American versions never mention the fact that a section of Nagas collaborated with the Azad Hind Fauz (AHF). I cannot now retrieve the source to confirm it, but I did read about a collaborating Naga Youth captured by the British during the battle of Kohima and tortured to reveal the position of the AHF. They were unable to break his silence even as they blinded one of his eyes. Only when they went for the other eye, he cried out a misguiding answer. Convinced, they let him go. He WON.

7670
Sathiyavani 2 दिन 1 घंटा पहले

When Gandhi led a demonstration in Bombay in 1932, the British decided to lock up the leader. There were riots and protests about this all over the country, including a patriotic march by Thyagi P S Sundaram in Tirupur. The protests had people carrying out the national flag, which was banned at the time, in honour as well as in revolt. One of the participants holding the flag was Tirupur Kumaran.

OKSR Kumaraswamy Mudaliar was a native of Chennimalai, which is presently Erode, Tamil Nadu, in