एड्रेसेबल सिस्टम के लिए लेखापरीक्षकों के पैनल पर परामर्श पत्र के लिए ट्राई (TRAI) सुझाव आमंत्रित करता है

TRAI Invites Suggestions for Consultation Paper on Empanelment of Auditors for Digital Addressable Systems
Last Date Jan 23,2018 00:00 AM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने प्रसारण और केबल क्षेत्र ...

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने प्रसारण और केबल क्षेत्र के लिए डिजिटल एड्रेसेबल सिस्टम के लिए ऑडिटरों के पैनल में परामर्श पत्र जारी किया है। ट्राई ने डिजिटल एड्रेसेबल सिस्टम के लिए एक विनियामक ढांचा लगाया और इंटरकनेक्शन नियमों को दूरसंचार (ब्रॉडकास्टिंग और केबल) सर्विसेज इंटरकनेक्शन (एड्रेसएबल सिस्टम) विनियम, 2017 दिनांक 3 मार्च 2017 को अधिसूचित किया। इन नियमों में तकनीकी ऑडिट और सदस्यता ऑडिट से संबंधित प्रावधान हैं, जिसमें यह है प्रावधान किया गया है कि प्राधिकरण इस प्रयोजन के लिए ऑडिटरों को सूचीबद्ध कर सकता है। वर्तमान में, इन विनियमों को मद्रास के माननीय उच्च न्यायालय और दिल्ली के माननीय उच्च न्यायालय में उप-न्यायिक माना जाता है। हालांकि, यह परामर्श पत्र लेखा परीक्षकों के पैनल के प्रस्तावों के लिए कॉल करने से पहले एक प्रारंभिक कार्य है, और उन नियमों या चल रहे मुकदमों पर कोई असर नहीं पड़ेगा । यह परामर्श प्रक्रिया, उद्योग आवश्यकता के अनुरूप ऑडिटर से प्रस्ताव पेश करने और लेखा परीक्षकों के लिए दिशानिर्देश तैयार करने के साथ साथ ट्राई को व्यापक दस्तावेज तैयार करने में सक्षम करेगी।

मल्टी-सिस्टम ऑपरेटर, डायरेक्ट टू होम ऑपरेटर, हेडएंड इन द स्काई ऑपरेटर या आईपीटीवी ऑपरेटर के रूप में सभी वितरकों को डिजिटल एड्रेसेबल सिस्टम के माध्यम से टीवी चैनलों के सिग्नल को वितरित करने के लिए सब्सक्राइबर मैनेजमेंट सिस्टम और कंडीशनल एक्सेस सिस्टम सहित डिजिटल हेडेंड स्थापित करना आवश्यक है। सभी वितरकों में एक स्तर के प्रतियोगिता के लिए ही प्राधिकरण ने संबंधित प्रणालियों के लिए न्यूनतम तकनीकी विशिष्टताओं का निर्धारण किया है। ये तकनीकी विनिर्देश मुख्य रूप से पारस्परिकता और पायरसी को रोकने में सहायता सुनिश्चित करते हैं।

ब्रॉडकास्टरों द्वारा टीवी चैनलों के संकेतों को प्रावधान करने से पहले वितरक के एक डिजिटल एड्रेसेबल सिस्टम की तकनीकी ऑडिट महत्वपूर्ण है। इस लेखापरीक्षा को प्रसारित किया जाता है कि ताकि वितरक, जिसे टेलीविजन सिग्नल प्रदान करने की संभावना है, विनियमों में निर्दिष्ट पता योग्य प्रणाली आवश्यकताओं को पूरा करता है। इसी प्रकार, प्रसारकों और वितरकों के बीच चालान से संबंधित विवादों को कम करने के लिए ऑडिट महत्वपूर्ण है। मुख्य रूप से यह लेखापरीक्षा उपभोक्ता द्वारा ब्रॉडकास्टर के रिपोर्ट किए जा रहे ग्राहकों की संख्या का पता लगाने पर केंद्रित है।

परामर्श पत्र विभिन्न लेखापरीक्षा-सम्बन्धी संबंधित मुद्दों जैसे लेखापरीक्षा, पात्रता मानदंड और अनुभव, पैनल की अवधि, लेखा परीक्षा शुल्क और भुगतान शर्तों, लेखापरीक्षा कार्य को पूरा करने के लिए समय-समय पर लेखा परीक्षण पैनल व रिपोर्टिंग की आवश्यकताओं के बारे में हितधारकों के विचारों की तलाश करता है।

परामर्श पत्र को यहां देखा जा सकता है।

परामर्श में उठाए गए मुद्दों पर हितधारक अपनी लिखित टिप्पणी 22 जनवरी, 2018 तक कर सकते हैं

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
22 सबमिशन दिखा रहा है
8840
Radha 1 year 11 महीने पहले

I have already submitted my detailed analysis sheet on this topic .

Again I am writing you on a different issue .
I didn't mean to trouble you.
If possible then kindly pay attention to my personnel issue and for that kindly find below attachment.

80050
JAGDISH PATHAK 1 year 11 महीने पहले

It is very good concept of Audit of Digital Addrssable system, it will find our the irregularities in the system as well as it will also helpful for precutionary action to maintain proper system of Telecom companies services. It is also advisable that Penal of audit allotment should be keep in hamd with TRAI, No power should be given to telecom company in respect to Audit, so that, transperency and efficiecy can be maintained. It is welcome decision to make Panel of Audit, best wishes

1340
Gaurav Srivastava 1 year 11 महीने पहले

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी तक यह संदेस पहुंचने पर देश हित ओर विकास कार्यों में सफलता मिलेगी ।

2300
SHIVAM KUMAR DIWAKAR 1 year 11 महीने पहले

सर जीओ के प्लान की veledity ko permanent 1 month se adhik nahi honi chahiye jis se student ki study pr koe problem nahi ho ; or aapse nivedan karta hu ki aap jio k plan pr vichar vimarsh kare or ho sake to jio k plan ki valedity 1 month se adhik na ho

17600
Tanmoy Kumar Bharati 1 year 11 महीने पहले

Start firing continously in LOC. When pakistan will ask india for ceasefire,then India should ask for flag meeting with senior Pakistani army office. During flag meeting Abduct that senior pakistani army officer with the help of Indian special force. Do you really have any intention to do that of Kulbhuson is a matter of politics only.