आगामी तेल एवं गैस संरक्षण पखवाड़ा (OGCF) - 2015 के की नई गतिविधियों के लिए अपने सुझाव दें

Give suggestions for new activities under forthcoming Oil & Gas Conservation Fortnight (OGCF) – 2015
Last Date Dec 21,2014 04:15 AM IST (GMT +5.30 Hrs)
प्रस्तुतियाँ समाप्त हो चुके

तेल और गैस ऊर्जा के प्राथमिक संसाधन है, जो देश में ऊर्जा की 40% मांग को ...

तेल और गैस ऊर्जा के प्राथमिक संसाधन है, जो देश में ऊर्जा की 40% मांग को पूरा करते हैं। अर्थव्यवस्था के प्रमुख क्षेत्र जैसे- परिवहन, उद्योग, वाणिज्यिक, भवन और कृषि में , तेल और गैस का उपयोग किया जाता हैं। वर्तमान में हमारे देश में 75% कच्चे तेल का आयात, घरेलू खपत के लिए किया जा रहा है। पेट्रोलियम उत्पादों के विवेकपूर्ण उपयोग के बारे में उपभोक्ताओं के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए यह एक राष्ट्रीय पहल है। दैनिक उपभोक्ताओं द्वारा ईंधन के सरल संरक्षण के उपायों को अपनाकर , दैनिक जीवन में ईंधन की बर्बादी को कम किया जा सकता है और पर्याप्त लागत बचाई जा सकती है।

देश भर में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस में पेट्रोलियम उत्पादों और पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 1991 से एमओपी और एनजी द्वारा प्रत्येक वर्ष तेल संरक्षण सप्ताह (ओसीडब्लू) देश भर में मनाने की पहल की गई । अभियान, की भारी सफलता देखते हुए वर्ष 2004 से इस आयोजन को "तेल एवं गैस संरक्षण पखवाड़ा” (OGCF) के रूप में मनाया जा रहा है। देश में पेट्रोलियम उत्पादों के संरक्षण के महत्व के बारे में आम जनता के बीच जागरूकता फैलाने के लिए सभी तेल और गैस कंपनियों, राज्य सरकार परिवहन निगम, गैर सरकारी संगठन की भागीदारी के साथ, देश में पट्रोलियम उत्पादों के संरक्षण के महत्व के बारे में लोगों को जागरूकता प्रदान करने वाला यह देशव्यापी अभियान अंततः एक प्रभावी माध्यम बन गया है।

इस 15 दिन की अवधि के दौरान, तकनीकी सेमिनार, विचार-गोष्ठी, प्रश्नोत्तरी, चित्रकला प्रतियोगिता, जन/साइकिल रैलिया, मैराथन, मानव श्रृंखला, इत्यादि गतिविधियों द्वारा बड़ी संख्या में प्रमुख उपभोक्ता क्षेत्रों के बीच तेल और गैस संरक्षण संदेश का प्रचार-प्रसार किया जाएगा। हर साल, यह समारोह, दिल्ली, सभी राज्यों की राजधानियों, जिलों और कस्बों में आयोजित किए जाते हैं।

इस वर्ष भी, ओजीसीएफ समारोह 16 से 31 जनवरी (2015) नवीन गतिविधियों के साथ सभी भारत वासियों को जोड़ने के उद्देश्य से मनाने के लिए प्रस्तावित किया गया है।

पीसीआरए संरक्षण गतिविधियों के बारे में सुझाव देने के लिए सभी नागरिकों को आमंत्रित करता है।

जिससे बेहतर पहुँच बनाई जा सके और आम उपभोक्ताओं की भागीदारी द्वारा तेल एवं गैस संरक्षण की दिशा में अधिक से अधिक जिम्मेदारी विकसित की जा सके।

आप अपने सुझाव 20 दिसम्बर 2014 तक भेज सकते हैं।

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
299 सबमिशन दिखा रहा है
600
Sanjay Khot 4 साल 7 महीने पहले

Those vehicles will in other parts of the country and pollute there ! I wish to bring to your notice that there are some products available in the market which reduce vehicular pollution to a very great extent . If the state owned OMCs add these products in the fuel itself all the vehicles will get the benefit of fuel savings and less emissions . Hon'le Finance Minister in his last budget has increased ED on such branded fuels by Rs. 2.50 per litre .that is more revenue for the govt.

600
Sanjay Khot 4 साल 7 महीने पहले

Respected Minister Of Petroleum & natural Gas , This refers to the recent decision / suggestion of NGT ( National Green Tribunal ) that in Delhi NCR diesel engines vehicles of more than 10 yrs will /should not allowed to ply on roads . I wish to bring to your notice that if this is implemented people owning such vehicles will be at a great loss because they will have to replace those with new vehicles . These vehicles which are more than 10 years old will not be scrapped !

300
Kalpana Gupta 4 साल 7 महीने पहले

Namaste, India must go for Waste to energy to save oil, gas, coal etc. and to save envionment. India has huge amount of municipal waste which is currently disposed by landfilling. The same MSW can be converted into electricity through gasifier. Through this we can save fuel and can make our environment cleaner. MSW faification has huge potential and We are far far behind in this area.

1000
avinash nadgouda 4 साल 7 महीने पहले

respected sir, please keep the petrol price constant at list three months. for road furniture, you include some money in this price. people are wainting for toll off on every road. they have a keen interest in this. so you can cover this cost in petrol price. see any other factor that you get some additional income and it will help to promate the public transport.people aretalking negativeabout your party , they say they donot know how impresses the public. some little changes in the day today l

500
SATYABRAT GUPTA 4 साल 7 महीने पहले

There can be multiple ways for conservation. few of them are -
1. People to be encouraged to use public transport. Provide better public transport - AC buses, Metro etc.
2. Use of solar energy. It should be compulsary for all new colonies for common lighting.
3. Rain water harvesting - It should be compulsary fao all new housing projects to have rain water harvesing system.
4. Use electric driven cars. The same should be made cheaper by cutting duties & taxes all over India.

400
DHARAMENDER SINGH BISHT 4 साल 7 महीने पहले

Honorable Defense Minister,
In defense organisation work place and residence area are in nearby each other but defense personals uses four wheeler or two wheeler which is neither good for their fitness nor for import of petroleum product.There are lakhs of defense personals.There should be release a order by head of staff that if the work place is under 5 km from residence area then personals should not use car or bike for coming to duty it will save petrol and fitness of Javaans. Jai Hind.

1200
RAHUL B JAIN 4 साल 7 महीने पहले

Place a water pump which can send the water on the top of the building and have a water tank on the terrace with a capacity of 50000 liters.
Now just drop the water through a pipe with high speed jet on the turbines and they will rotate and produce electricity. This will be enough to light up the building, use to run the lift, air conditioners ets. And also surplus electricity to be sold to other smaller buildings.

1200
RAHUL B JAIN 4 साल 7 महीने पहले

Idea for Power Generation

Hi,
My idea is to erect water turbines on every building which has a height of more than 30 meters at a distance of 10 meters each. So if a building has a height of 100 meters then install 10 water turbines in a single line 1 below each at a distance of 10 meters.
Now have 1 water tank below on the ground floor with a capacity of 50000 liters.