MyGov आइडिया बॉक्स

Last Date Jun 30,2020 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)

खुली चर्चा का एक ऐसा मंच जहाँ आप शासन और नीति-निर्माण के किसी भी विषय ...

खुली चर्चा का एक ऐसा मंच जहाँ आप शासन और नीति-निर्माण के किसी भी विषय पर अपने बहुमूल्य विचारों और सुझावों को साझा कर सकते हैं। ऐसे विचार जिनसे 2022 तक एक नए भारत के निर्माण में मदद मिले। (यह मंच उन मुद्दों और विषयों के लिए है जिनसे संबंधित MyGov पर कोई अन्य चर्चा नहीं चल रहा हो और यह नागरिकों के दृष्टिकोण से बेहद महत्वपूर्ण हो।)

विवरण देखें Hide Details
सभी टिप्पणियां देखें
रीसेट
65516 सबमिशन दिखा रहा है
1600
Manish 1 min 8 सेकंड पहले

एक चीनी कहावत है कि एक दिन मछली मांगकर खाने से बेहतर है मछली पकड़ना सीख लेना ताकि हमेशा खा सको क्योंकि दी हुई मछली खाने वाला उसे बस एक ही दिन खाता है.यह सुनहरा वाक्य हमारे हर विद्मालय और प्रशिक्षण केंद्रों पर लिखा होना ही चाहिए ताकि शिक्षा के महत्व को समझा जा सके और उसके लाभों को भी.
तकनीकों के हस्तांतरण, सैनिक प्रशिक्षणों,फाइटर जेट बनाने और दूसरे रक्षा उपकरणों के बनाने में हमें इसी सूत्र का पालन करना चाहिए.आहिस्ता चलने से नहीं चुप खड़े रहने से डरो. गज में नहीं तो इंचों में कब्जा करो. जैसे चीनी

1560
krutarth vyas 11 मिनट 25 सेकंड पहले

Sir,

Kindly make it compulsory for all shopkeepers to take only digital receipts as number of grocery & food item shopkeepers who earned in lakhs but never pay real tax to Govt. as there is no track on their income due to no bill and only cash transactions. As BHEEM & other payment apps are so easy and handy that any one can pay for even a 1 rupee chocolate through simply QR code scan kept at shope. People and shopkeepers should be given one month time before implementation to learn.

0
Ajay Darkunde 15 मिनट 29 सेकंड पहले

सर नमस्ते
करोना के समय में सब्जी व्यापार से जुड़े सभी लोग परेशानी का सामना कर रहे है अगर सरकार चाहे तो इसे बड़े उद्योग की तरह बनाया जा सकता है जिसके लिए ऑनलाइन सब्जी व्यापार की शुरुआत होनी चाहिए और अगर ये उद्योग शुरू होजता है तो किसानों के अलावा कई लोगो को रोजगार मिलेगा, और भारत के लिए करोना काल में एक बहुत उत्तम डिसीज़न होगा अगर आप इसे जानना चाहें तो मैने सारा ब्योरा रेडी किया है कृपया मुझे देश की सेवा में भागीदारी का अवसर प्रदान करे ,धन्यवाद

1600
Manish 18 मिनट 24 सेकंड पहले

आज रक्षा,strategies, tactics, स्पाईक्राफ्ट जैसे विषयों पर सिर्फ अंग्रेजी में ही पुस्तकें उपलब्ध हैं जैसे-चीनी युद्ध कलाओं के एक्सपर्ट राल्फ डी सायर की बेशकीमती पुस्तकें. भारत को विश्व के चुनिंदा ज्ञान को भारतीय भाषाओं खासकर हिंदी में अवश्य अनुवादित कराना चाहिए ताकि देश इनका सही से लाभ ले सके. अंग्रेजों ने विश्व के हर देश के ज्ञान को अपनी भाषा में अनुवादित करके उसका भरपूर लाभ उठाया.विश्व की कहावतें जैसे चीनी, जापानी, कोरियन, अरबी आदि का समन्वय गागर में सागर के समान होगा जिन्हें विद्मालयों में पढ़

710
AJAY KUMAR RANA 19 मिनट 49 सेकंड पहले

Reservation in jobs/science at present?

1. Reservation must be always financial condition based and not caste based.

2. Goverment must end Reservation at least in Science Sector and our country will be sending us to space/moon and would be not far away from doing human phase trial of covid-19 vaccine.

3. All states in India must have Research Institute near/attached to a government hospital.

4. India will progress, prosper, develop and become a model by mentored and monitored research.

1560
krutarth vyas 24 मिनट 4 सेकंड पहले

Subject: Digitalising Parliament session discussions through online meet

Sir, As Modiji said Parliament is temple of Democracy. But functioning of it costs Crores of rupees. Sometimes it wastes money of taxpayers with rebels and noise.
I would like to suggest you to take this COVID-19 opportunity as new era of "digital Sansad" all sessions of Sansad through Online meet in which no one can interfere other as mute button will be controlled by Honable Speaker & will reduce cost of sansad

1600
Manish 44 मिनट 55 सेकंड पहले

मेरी समझ में विद्मालयों में दी जाने वाली शिक्षा को जानकारी कहा जा सकता है किंतु विद्मा नहीं. शिक्षा में व्यवहार में आनेवाली कलाओं जैसे बातचीत करना, सरवाइवल सि्कल्स, सेल्फ हेल्प बुक्स का ज्ञान, काम-धंधे के हुनर, आपदा काल में क्या करें, चतुराई की कला, मधुर बोलने की कला जैसे विषयों को पढाया जाना चाहिए.
बुद्ध ने हजारों सालों पहले ही भाषा को अत्यंत सरल व बोलचाल की रखने की शिक्षा दी थी ताकि एक मंदबुद्धि भी समझ सके.