Smart Kochi – Suggestions on Area Development Plan

The Kochi Municipal Corporation is pleased to inform you that our City has been selected through a competitive process for SMART City Mission initiative of Government of India. In ...

See details Hide details
Smart Kochi – Suggestions on Area Development Plan

The Kochi Municipal Corporation is pleased to inform you that our City has been selected through a competitive process for SMART City Mission initiative of Government of India. In the next phase, your city has to compete with 98 other cities from across the country to make it into the Top 20 cities which will be taken up for the first round of funding, for the financial year 2015-16. The Stage II involves the preparation of an Area Development Plan under the SMART City Proposal (SCP).

The Area Development Plan may in the form of Retrofitting of existing area (minimum 500 acres) OR Redevelopment of an area (minimum 50 acres) OR Greenfield development (minimum 250 acres). The detailed guidelines are provided in www.smartcities.gov.in. Request your views/ suggestions (including the Non-resident Keralite community) on some of the learning and actions/ initiatives in your experience across the world which may be replicated in Kochi and provide prioritized suggestions for improvement of the city (or a specific area(s) within the city) with focus on physical and social infrastructure plans.

The Broad spectrum of service areas is provided below:

• Adequate water supply including waste water recycling and storm water reuse,
• Assured electricity supply - least 10% of the energy requirement coming from solar power,
• Sanitation, including solid waste management,
• Efficient urban mobility and public transport,
• Affordable Housing, especially for poor,
• Robust IT connectivity and digitalization,
• Good Governance, especially e-Governance and citizen participation,
• Sustainable environment,
• Ensuring safety of citizens, especially women and elderly, and
• Health and education

Kindly, post your views and ideas till 10th October, 2015.

All Comments
#SmartCity, #Kochi, #Kerala, #MyGov
Reset
Showing 59 Submission(s)
JAGDISH PATHAK's picture

JAGDISH PATHAK 3 years 4 months ago

In respect to smart city, people safety and security specially to woman should be given high priority.CCTV camara should be fixed at all the points from entrance of city to exit of city, which should be constantly monitored. smart city should be trade,sercives and business oriented, NO industries which make pollution, should be sanctioned within the limit of 25 kms of the city. The city should be completely with trees and plants,it should be pollution free, The people should feel like heaven

JISHNU E THILAK's picture

JISHNU E THILAK 3 years 4 months ago

every commercial buildings,as well as residential area should have there own watse treatement system for biodegradable waste.

JAGDISH PATHAK's picture

JAGDISH PATHAK 3 years 4 months ago

All facilities like water,electricity,road,drainage,health,education,business facilities,shopping mall,tele-eloctronic facilities,internet-wifi,Garden, theator,temple for all religion,hotel,railway,metro,transportation,latest infrastructure,all types of plays-grounds,clubs,all types of entertainment faci., etc,are unlimited,clean,dust-free,advance with high technology with online digital facilities for all types of services,There should be no deficit of any goods,items or services to people

Gayatri Sharma's picture

Gayatri Sharma 3 years 4 months ago

सड़कें चौड़ी करने से जिनकी सम्पत्ति /मकान अथवा दुकान मुख्य सड़क अथवा अच्छी लोकेशन पर आ रही हो उनसे वो सारा खर्चा वसूला जाये जो कि विस्थापित सम्पत्तिदारों को बाँटना पड़ रहा हो। इस प्रकार, न केवल खर्चों को रोका जा सकता है अपितु कोई ये भी नहीं कह सकेगा कि यह प्रोजेक्ट फलाँ की सम्पत्ति के सामने से गुजार कर उसे फायदा पहुँचाया गया है। क्योंकि इस तरह से वह व्यक्ति उसका मूल्य - बाजार मूल्य के बराबर का चुका रहा होगा। भ्रष्टाचार की गुंजाईश भी कम हो जाएगी ।

Gayatri Sharma's picture

Gayatri Sharma 3 years 4 months ago

सड़को के किनारे फलदार वृक्ष लगायें जाएँ न कि नपुंसक अ-फलदार वृक्ष । अन्यथा ऐसे ही व्यक्तियों का स्वाभाव हो जाता है। शुष्क और कठोर - फल हीन। आस पास के वातावरण और उच्च पदाधिकारियों के व्यवहार और शोषण का गहरा असर नागरिकों पर पड़ता है। शासन अगर - शोषण और शुष्कता के स्थान पर देने की भावना रखेगा तो नागरिक भी वैसे ही उदार- मना बनेंगे। स-शुल्क की जगह निःशुल्क पार्किंग , पेयजल , रैनबसेरे , पियाऊ , फलदार वृक्ष इत्यादि सुविधाएं अगर रखी जाएँगी तो इनका नागरिकों पर उदार प्रभाव पड़ता है ।

Gayatri Sharma's picture

Gayatri Sharma 3 years 4 months ago

नागरिकों के व्यवहार में सुधार हेतु - अच्छे नागरिक बनाने हेतू समुचित और क्रांतिकारी उपाय अपनाये जाने की आवश्यकता है। धर्म और सादगी को बढ़ावा दिया जाये। भगवान का डर बताया जाये, न कि कानून का। स्कूलों में बचपन से गीता, रामायण , वेद , शास्त्र , उपनिषद जैसे ग्रन्थों की पढ़ाई अनिवार्य की जाये तथा कक्षा १२ तक शिक्षा का माध्यम केवल हिन्दी अथवा मातृभाषा में ही हो। अंग्रेजी भाषा के पठन-पाठन और उपयोग पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगा दिया जाये।

Gayatri Sharma's picture

Gayatri Sharma 3 years 4 months ago

नागरिको की सुरक्षा व कानून व्यवस्था के सुधार हेतू - धार्मिकता को बढ़ावा दिया जाये । कानून के बजाये , ईश्वर का डर दिखलाया जाये । सादगी , संयम , सदाचार को बढ़ावा दिया जाना चाहिए । सामान्य नागरिकों पर दण्ड आरोपित ना किया जाये। उन्हें समझाईस दी जाकर व अन्य तरह से मौके दिए जाये। जबकि जघन्य अपराधियों को कठोर से कठोर दण्ड दिए जाये। उनके लिए - आँख के बदले आँख जैसी दंड नीति का पालन किया जाये।

Gayatri Sharma's picture

Gayatri Sharma 3 years 4 months ago

बाज़ारों और रिहायशी इलाकों को - १००० फुट चौड़ी मुख्य सड़कों द्वारा सेक्टर में बाँटा जाकर - उन इलाकों को वाहनों के लिए प्रतिबन्धित किया जाये। केवल पैदल चलने वालों के लिए रखा जाये। इससे प्रदुषण और एक्सीडेंट काम होंगे। जाम भी नहीं होगा। पैदल चलने से नागरिकों का स्वास्थ्य भी ठीक रहेगा।

Gayatri Sharma's picture

Gayatri Sharma 3 years 4 months ago

हर ५०० मीटर पर लगभग १००० फुट चौड़ी सड़क की उपलब्धता सुनिश्चित हो। ५००० फ़ीट चौड़ी सड़क- हर ७ किलोमीटर पर उपलब्ध हो। मुख्य सड़को के दोनों ओर पानी की नहर, बगीचा, सर्विस रोड, हाथ-ठेले और फुटपाथी दुकानदारों के लिए जगह की समुचित व्यवस्था की जाये। किसी भी मुख्य सड़क के किनारे दूकान ना हों। दुकाने केवल पैदल- बाजारों में और सर्विस रोड के किनारे ही हो। सड़को के किनारे केवल फलदार वृक्ष ही लगाये ।