Inviting Ideas for PM Narendra Modi's Mann Ki Baat on 29th September, 2019

Last Date Sep 28,2019 23:45 PM IST (GMT +5.30 Hrs)
Submission Closed.

PM Narendra Modi looks forward to sharing his thoughts on themes and issues that matter to you. The Prime Minister invites you to share your ideas on topics he should address on ...

PM Narendra Modi looks forward to sharing his thoughts on themes and issues that matter to you. The Prime Minister invites you to share your ideas on topics he should address on the 57th Episode of Mann Ki Baat.

Send us your suggestions on the themes or issues you want the Prime Minister to speak about in the upcoming Mann Ki Baat episode. Share your views in this Open Forum or alternatively you can also dial the toll-free number 1800-11-7800 and record your message for the Prime Minister in either Hindi or English. Some of the recorded messages may become part of the broadcast.

You can also give a missed call on 1922 and follow the link received in SMS to directly give your suggestions to the Prime Minister.

And stay tuned to Mann Ki Baat at 11:00 AM on 29th September, 2019

Reset
Showing 6619 Submission(s)
4910
ajay gupta 1 year 12 months ago

Dear sir हिन्दी भाषा को राष्ट्र भाषा घोषित करने के लिए पहले भारत के सभी लोगों को हिन्दी भाषा बोलना और समझना जरूरी है जबकि कोलकाता और महाराष्ट्र के लगभग 15% लोगो को हिन्दी भाषा बोलने और समझने भी नहीं आता तो अपके कहे बातो को समझेंगे कैसे। मुझे ऐसा लगता है कि अगर हिन्दी का किताब भारत के सभी राज्यों के विद्यालय में लागू कर देना चाहिए ताकि आने वाले चनाव में पूरा भारत आपको जिताएं।

1420
vikas dubey 1 year 12 months ago

बच्चे की पढ़ाई अपनी मातृभाषा में ही होनी चाहिए , अन्यथा बच्चा गणित विज्ञान आदि विषयों को न समझ कर के अंग्रेजी में प्रश्नों prashnon ke Uttaro को yad रखने में ही लगा रहता है ,uska विकास नहीं हो पाता है हमें बच्चे को शिक्षा उसकी मातृभाषा में ही देनी चाहिए देश महान बन सकेगा

2040
ESWARAN V VELAYUTHAM 1 year 12 months ago

Sir...
Please Consider the Agri People Requirement...
They practical issue vedio clip attached here sir..
If the agri people goes to bank to get loan, so many formalities require by bank...document need parent document and document, patta,chitta, agri holder card, noc from other banks, govt officers confirmation sign etc...so, please help to agri people for get loan the formalities are simplify is easy.

9410
Kunjalata Medhi 1 year 12 months ago

to reproduct the jute,cloth,brass,glass,steel.etc items.Honourable P M ji you can do what want ,because you are the Head of our country.Otherwise I douted ,your mission"Freedom Plastic'"ii going to success or not.
Thanking You.

4560
Isha Rani 1 year 12 months ago

राष्ट्रीय शिक्षा नीति

यदि हम चाहते हैं कि विश्व हमारी भाषाओं को सीखे और इनका सम्मान करे इसके लिए हमें सबसे पहले अपनी शिक्षा नीति को इंग्लिश के वर्चस्व से मुक्त करना होगा।

शिक्षा को मातृभाषा में अनिवार्य किए जाने से ही भारतीय भाषाओं को उनका अधिकार उन्हें वापस लौटाया जा सकता है कोई सपष्ट निर्देश न होने के कारण आज इंग्लिश मीडियम विद्यालय शिक्षा का अंग्रेजीकरण करने के लिए स्वतंत्र बने हुए हैं

नई शिक्षा नीति एक अवसर है भारत सरकार को दिशा निर्धारित करनी है

जय विश्वास जय भारत
भवतु सब्ब मंगलम्

5770
Harish Kumar T 1 year 12 months ago

warm welcome to everyone,
Now I'm going to explain one existing project but it contain lot of drawbacks now l'm overcome thermique drawbacks .
My project "DATA TRANSMISSION THROUGH LIGHT".The drawbacks of project is the light is not penetrate to object then how to use to transfer data?. Then to make house/office smooth wall which reflect the light inside the room so loss of data reduced. If any object is hid the receiver to the light, the light are which reflect to reach the signal to receiver

4560
Isha Rani 1 year 12 months ago

राष्ट्रीय शिक्षा नीति

देश में इंग्लिश मीडियम विद्यालयों का जो कुचक्र / रोग चल रहा है उसके मुख्य कारण हैं -

1 शिक्षा नीति में सपष्ट और अनिवार्य दिशा - निर्देशों का अभाव
2 अंग्रेजियत की गुलाम मानसिकता
3 दो प्रकार के शिक्षण संस्थान

आज देश में इंग्लिश मीडियम की गलत अवधारणा इस कदर स्थापित कर दी गई है कि अपने ही देश का इतिहास संस्कृति सामाजिक अध्ययन जैसे विषय भी इंग्लिश में पढाए जा रहे हैं

नई शिक्षा नीति एक अवसर है शिक्षा के पुनः भारतीयकरण करने का ।

जय विश्वास जय भारत ।
भवतु सब्ब मंगलम्।